ताज़ा खबर
 

Weight Loss: क्या दोपहर की नींद करती है वजन कम करने में मदद, जानिये…

Afternoon Sleep for Weight Loss: नींद की कमी से मस्तिष्क खाने की तरफ ज्यादा आकर्षित होता है, कम सोने वाले लोग अपनी फूड क्रेविंग को कंट्रोल नहीं कर पाते हैं

सुबह की तुलना में दोपहर में कुछ देर की झपकी लेने से 10 प्रतिशत अधिक कैलोरीज बर्न होती हैं

Afternoon Sleep for Weight Loss: आज के बिजी लाइफस्टाइल में लोग खुद को फिट रखने की हर संभव कोशिश करते हैं। मोटे लोगों की तुलना में पतले लोग ज्यादा स्वस्थ और बीमारियों से दूर रहते हैं। पतले लोग न केवल स्वस्थ बल्कि दूसरों से ज्यादा ऐक्टिव भी रहते हैं। ऐसे में मोटापा कम करने और वजन को काबू में रखने के लिए लोग अलग-अलग तरीके अपनाते हैं। कई लोग मोटापा कम करने के लिए जिम में पसीने बहाते हैं वहीं, कुछ लोग डाइटिंग के चक्कर में पूरे-पूरे दिन भूखे रह जाते हैं। हालांकि, कई बार मोटापा का कनेक्शन हार्मोन से भी होता है। वहीं, वजन कम करने के कई और तरीके भी होते हैं जिनके बारे में लोगों को पता भी नहीं होता है। ऐसा ही एक तरीका है दोपहर की नींद लेना। आइए जानते हैं दोपहर की नींद वजन घटाने में कैसे है कारगर-

दोपहर में सोने से अधिक कैलोरीज होती हैं बर्न: हार्वर्ड मेडिकल स्कूल में छपी एक शोध के मुताबिक सुबह की तुलना में दोपहर में कुछ देर की झपकी लेने से 10 प्रतिशत अधिक कैलोरीज बर्न होती हैं। शोध के अनुसार सुबह के वक्त आराम करने पर एनर्जी कम खर्च होती है और दोपहर के बाद सबसे ज्यादा खर्च होती है। इसके अलावा, दिन में सोने से आपका मेटाबॉलिज्म भी बेहतर होता है। वैसे लोग जिनका मेटाबॉलिज्म मजबूत रहता है, उनके लिए वजन घटाना दूसरों के मुकाबले ज्यादा आसान होता है। आर्काइव्स ऑफ इंटर्नल मेडिसिन में छपी एक शोध के मुताबिक रेगुलर बॉडी वेट की तुलना में ओवरवेट लोग हर रोज औसतन 16 मिनट कम नींद लेते हैं।

दिन में कितना सोना है जरूरी: हालांकि, दिन में सोने से कई बार रात को नींद आने में दिक्कत होती है। ऐसे में ये जानना बेहद जरूरी है कि दोपहर में कितनी देर सोना हमारे लिए जरूरी है। आप दोपहर के समय 15 से 30 मिनट तक की झपकी ले सकते हैं। अगर इसके बाद भी आपको नींद आ रही है तो आप डेढ़ घंटे की नींद ले सकते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि कई बार नींद पूरी नहीं होने की वजह से आप को चिड़चिड़ाहट, थकान और सिरदर्द की शिकायत हो सकती है। ऐसे में डेढ़ घंटे की नींद लेने से आप तरोताजा महसूस करेंगे।

पर्याप्त नींद नहीं लेने से बढ़ता है वजन: नैशनल स्लीप फाउंडेशन व्यस्कों को रोजाना 7 से 9 घंटे सोने की सलाह देता है। इसके अभाव में वजन बढ़ने का खतरा अधिक होता है। 2016 में स्लीप नामक जर्नल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, कम सोने से शरीर में स्ट्रेस की मात्रा बढ़ जाती है। तनाव बढ़ने के कारण स्ट्रेस हार्मोन कॉर्टिसोल में भी इजाफा होता है। ये हार्मोन शरीर में घ्रेलिन नाम के हार्मोन के ज्यादा उत्पादन के लिए जिम्मेदार होता है। बता दें कि घ्रेलिन हार्मोन को हंगर हार्मोन भी कहते हैं, यानि कि जितनी मात्रा में शरीर में इस हार्मोन का उत्पादन होगा, लोगों को उतनी अधिक भूख लगेगी। वहीं, अमेरिकन जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन में छपी शोध के अनुसार, नींद की कमी से मस्तिष्क खाने की तरफ ज्यादा आकर्षित होता है। इसी वजह से कम सोने वाले लोग अपनी फूड क्रेविंग को कंट्रोल नहीं कर पाते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Happy Workers Day 2020 Wishes Messages, Quotes: 132 साल से मनाया जा रहा है मजदूर दिवस, जानिए इसके पीछे का कारण
2 The Kapil Sharma Show: कभी 500 रुपये कमाने वाले ‘डॉ. गुलाटी’ अब हर एपिसोड के लेते हैं 10 लाख, अब कुछ ऐसी है सुनील ग्रोवर की लाइफस्टाइल
3 Rishi Kapoor को प्यार से लोग चिंटू बुलाते थे, नीतू से फिल्म के सेट पर हुई मुलाकात, 5 साल डेट के बाद की थी शादी