ताज़ा खबर
 

वजन घटाना होगा आसान, जब नहीं करेंगे चाय-कॉफी से दिन की शुरुआत – जानें किन दूसरी बातों का रखें ध्यान

Weight Loss Tips in Hindi: मोबाइल या टीवी के स्क्रीन से जो रोशनी निकलती है, उससे स्लीपिंग हार्मोन मेलेटॉनिन के रिसाव में विलंब होता है

How to Reduce Fat, weight loss, easy weight loss tips, dos and donts of weight lossएक्सपर्ट्स के अनुसार चाय-कॉफी में कैफीन पाया जाता है जो स्ट्रेस हार्मोन रिलीज करता है (फोटो- जनसत्ता)

Weight Loss Tips: वजन कम करके स्वस्थ जीवन बिताने की कोशिश हर व्यक्ति करता है। पर ये सुनिश्चित करना भी आवश्यक है कि लोग हेल्दी तरीके से वजन घटाएं। अगर ऐसा नहीं किया जाए तो इसका शरीर पर नेगेटिव प्रभाव पड़ता है। हालांकि, वजन घटाने के कई शॉर्टकट होने का दावा किया जाता है, जो विफल या सेहत के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। लेकिन अपनी डाइट, फिटनेस, आदतें और जीवन शैली को बेहतर करके हेल्दी वेट लॉस करने में आसानी होती है। वजन घटाने को लेकर कुछ हां और ना का ध्यान रखें, आइए जानते हैं –

क्या करें (Do’s of Weight Loss): वेट लॉस एक्सपर्ट्स के मुताबिक कुछ बातों का पालन करने से वजन घटाने में मदद मिलती है। अपने दिन की शुरुआत किसी गर्म हर्बल ड्रिंक्स से करें। सुबह उठने के आधे घंटे बाद सौंफ पानी पीने से फायदा हो सकता है। समय से नाश्ता करें जिसमें उपमा और पोहा को शामिल करें। हर 30 मिनट बैठने के बाद करीब 2 मिनट के लिए खड़े हों, चलें या स्ट्रेचिंग करें। खाने के साथ इस बात का ध्यान रखें कि टीवी न देखें, मोबाइल न चलें। सोने से करीब 1 घंटे पहले सभी एलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स को बंद कर दें।

क्या नहीं करें (Dont’s of Weight Loss): स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार सुबह की शुरुआत चाय या कॉफी से न करें। लंबे समय तक एक ही स्थान पर न बैठें। खाने के दौरान फोन पर अधिक समय न गुजारें। रात को बिस्तर पर जाने से घंटे भर पहले टीवी देखना बंद कर दें। नाश्ते में दाल या कोई सीरियल्स खाने से बचें।

क्यों दी जाती है ऐसी सलाह: एक्सपर्ट्स के अनुसार चाय-कॉफी में कैफीन पाया जाता है जो स्ट्रेस हार्मोन रिलीज करता है। इससे शरीर में तनाव की अधिकता हो सकती है। वहीं, एक शोध के अनुसार वजन घटाने और बीमारियों का खतरा कम करने में दिन भर चलते रहना जरूरी है। खाते वक्त सिर्फ खाने पर ध्यान देने से व्यक्ति को अंदाजा रहता है कि उन्हें कितना खाना चाहिए। ऐसे में पता चलता है कि खाते-खाते कब रुकना चाहिए और कितना खाना चाहिए।

रात को घंटे भर पहले गैजेट्स को बंद करने से शरीर लंबे समय तक अलर्ट नहीं रहता है। मोबाइल या टीवी के स्क्रीन से जो रोशनी निकलती है, उससे स्लीपिंग हार्मोन मेलेटॉनिन के रिसाव में विलंब होता है। इसलिए घंटे भर पहले इन्हें बंद करने की सलाह दी जाती है। वहीं, पैकेटबंद ओट्स या दूसरे फूड्स में प्रीजर्वेटिव्स पाए जाते हैं जिन्हें सुबह खाने से बचना चाहिए।

Next Stories
1 बैंक की नौकरी छोड़ एक्टिंग में ली एंट्री, जानें कैसी है तारक मेहता के ‘बाघा’ की लाइफस्टाइल
2 Skincare: माथे पर पिंपल्स क्यों होते हैं? जानें कैसे करें इन्हें ठीक
3 Weight Loss: सौंफ से बना ये ड्रिंक वजन कम करने में है मददगार, जानें रेसिपी
ये पढ़ा क्या?
X