ताज़ा खबर
 

जानिये कौन हैं बाबा लक्खा सिंह जो किसान आंदोलन में सुलह की पेशकश कर आए चर्चा में

बाबा लक्खा सिंह नानकसर गुरुद्वारे के प्रमुख हैं। गुरुद्वारा नानकसर पंजाब के लुधियाना से 50 किलोमीटर दूर स्थित है। पंजाब, हरियाणा सहित देश के कई राज्यों में नानकसर गुरुद्वारे हैं।

baba lakha singh, farmer protest, narendra singh tomarनानकसर गुरुद्वारे के प्रमुख हैं बाबा लक्खा सिंह

देश के किसान नए कृषि बिलों के विरोध में 25 नवंबर से सड़कों पर हैं। किसानों ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के चारों तरफ कई बॉर्डर पर मोर्चा जमाया हुआ है। ठंड और बारिश के बीच किसान लगातार अपनी मांगों को लेकर अड़े हुए हैं। सरकार और किसान संगठन के नेताओं के बीच कई दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन अभी तक गतिरोध खत्म होने का नाम नहीं ले रहा। इस बीच नानकसर गुरुद्वारे के प्रमुख बाबा लक्खा सिंह सुर्खियों में हैं। उन्होंने किसानों और सरकार के बीच सुलह की पेशकश की है।

कौन है बाबा लक्खा सिंह : बाबा लक्खा सिंह नानकसर गुरुद्वारे के प्रमुख हैं। गुरुद्वारा नानकसर पंजाब के लुधियाना से 50 किलोमीटर दूर स्थित है। पंजाब, हरियाणा सहित देश के कई राज्यों में नानकसर गुरुद्वारे हैं। नानकसर गुरुद्वारों में सिख समाज की बेहद आस्था है, इस वजह से बाबा लक्खा सिंह को सिख समुदाय में काफी मानता है, देश-विदेश में नानकसर गुरुद्वारे के हजारों मानने वाले हैं।

नानकसर गुरुद्वारे के प्रमुख हैं बाबा लक्खा सिंह : नानकसर गुरुद्वारे की स्थापना बाबा नंद सिंह ने की थी। सिख समाज की बाबा नंद सिंह में बेहद आस्था है। पंजाब के नानकसर में ही बाबा नंद सिंह का देहांत हुआ था। बाबा नंद सिंह की बाद उनके शिष्यों ने पंजाब सहित कई राज्यों में नानकसर गुरुद्वारों की स्थापना की। दिल्ली में भी नानकसर गुरुद्वारा है। फिलहाल नानकसर गुरुद्वारे के प्रमुख बाबा लक्खा सिंह हैं।

दो दिन पहले की थी कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकात : नानकसर गुरुद्वारा के प्रमुख बाबा लक्खा सिंह ने बृहस्पतिवार को कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकात की थी। मुलाकात के बाद बाबा लक्खा सिंह ने कहा था,’ लोग जान गंवा रहे हैं। बच्चे, किसान, बुजुर्ग और महिलाएं सड़क पर बैठे हैं। ये दुख असहनीय है। मुझे लगा कि इसका किसी तरह हल किया जाना चाहिए। इसलिए मैंने आज (कृषि मंत्री) उनसे मुलाकात की। वार्ता अच्छी थी, हमने समाधान खोजने की कोशिश की।’

वहीं किसान संगठनों ने दो दिन पहले ट्रैक्टर मार्च निकालकर शक्ति प्रदर्शन किया था। किसान नेता 26 जनवरी को दिल्ली में गणतंत्रता दिवस परेड में भाग लेने की बात कह रहे हैं।

Next Stories
1 सर्दियों में खो गया है चेहरे का ग्लो? इन पांच तरीकों से बनाएं चेहरे को स्वस्थ और चमकदार
2 Weight Loss: वजन घटाने में मसालेदार भोजन है लाभप्रद? ये 5 टिप्स पहुंचा सकते हैं लाभ
3 दिल्ली पुलिस की नौकरी छोड़ चुना आंदोलन का रास्ता, 40 से ज्यादा बार जा चुके हैं जेल; जानिये कौन हैं किसान नेता राकेश टिकैत
ये पढ़ा क्या?
X