मेन्यू में कैपुचीनो से लेकर लैटे देख हो जाते हैं कंफ्यूज, तो जानिए कितने टाइप्स की होती हैं कॉफी - know-about-the-most-popular-types-of-coffee-in-the-world - Jansatta
ताज़ा खबर
 

मेन्यू में कैपुचीनो से लेकर लैटे तक देख हो जाते हैं कंफ्यूज, तो जानिए कितने टाइप्स की होती हैं कॉफी

कॉफी के ढेर सारे प्रकार हैं। मने लिस्ट सामने आते ही ढेर सारे नाम नजरों से...

अच्छी सुबह की शुरुआत के लिए कॉफी काफी होती है। घर में तो पैकेट और नॉर्मल कॉफी हम सब पीते हैं। लेकिन जब कभी बाहर जाते हैं, तो कॉफी को लेकर थोड़े कंफ्यूज हो जाते हैं। कारण कॉफी के ढेर सारे टाइप (प्रकार) हैं। मने मीन्यू हाथ में आता है, तो ढेर सारे नाम नजरों से गुजरते हैं। कैपुचीनो, लैटे और मोका जैसे नाम सुनकर लोग सोच में पड़ जाते हैं। वे तय नहीं कर पाते हैं कि कौन सी कॉफी ऑर्डर की जाए। चलिए आज जान लीजिए कि कॉफी कितने तरह की होती हैं और इनमें क्या फर्क होता है।

एस्प्रेसोः ब्लैक कॉफी भी कहते हैं इसे। यह कॉफी का प्योर रूप है। बाकी प्रकार की कॉफियां इसी से बनती हैं। एस्प्रेसो पाउडर और चीनी गर्म पानी में डालने पर इसे आसानी से बनाया जा सकता है।

एस्प्रेसो मैकीआटोः ब्लैक कॉफी का मैकीआटो वर्जन है यह, जिसमें दूध मिलाया जाता है। अगर आप स्ट्रॉन्ग और डार्क कॉफी पीना पसंद नहीं करते, तो यह आपके लिए अच्छा विकल्प साबित हो सकती है।

कैपुचीनोः विश्व में जहां भी कॉफी मिलती हैं, वहां कैपुचीनो जरूर मिलती हैं। सड़कछाप से लेकर महलछाप कॉफी शॉप के मेन्यू में यह शामिल होती है। एस्प्रेसा कॉफी में दूध मिलाकर यह बनाई जाती है। ऊपर से इसमें चॉकलेट सिरप या चॉकलेट पाउडर डाला जाता है।

लैट्टेः एस्प्रेसो के मुकाबले इस टाइप की कॉफी में तीन गुणा ज्यादा दूध मिलाया जाता है। यही कारण है कि इस कॉफी का रंग भी हल्का रहता है। बिस्कुट, कुकीज और पेस्ट्री के साथ इसे पीने पर बेमिसाल टेस्ट का अनुभव कराती है।

मोचा चीनोः मोचा कॉफी को कई जगह मोका चीनो भी कहते हैं। नाम पर मत जाइए, टेस्ट पर ध्यान दीजिएगा। कैपुचीनो कॉफी में कोका पाउडर मिलाकर यह तैयार की जाती है। ऊपर से हल्की क्रीम इसमें गार्निश की जाती है।

इंडियन फिल्टर कॉफीः यह भारत के दक्षिणी क्षेत्र में पैदा होती है। इसकी सूखी फलियां पीसकर पाउडर बनाया जाता है। बाद में उसे दूध और चीनी के साथ मिलाकर कॉफी बनाई जाती है। अन्य कॉफियों के मुकाबले यह अधिक मीठी होती है।

व्हाइट कॉफीः मलेशिया की देन है व्हाइट कॉफी। पाम तेल में कॉफी के बीन्स भूनकर यह कॉफी तैयार की जाती है। लेकिन अगर आप इसे बगैर दूध और चीने के पिएंगे, तो मजा नहीं आएगा।

अमेरिकानोः होती तो यह रेग्युलर कॉफी जैसी होती है, मगर इसे एस्प्रेसो के एक या दो शॉट में गर्म पानी मिला कर इसे तैयार किया जाता है।

(फोटो सोर्सः फ्रीपिक/लैटेआर्ट)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App