scorecardresearch

सिर में खुजली और दाने, कहीं इंफेक्शन तो नहीं? जानिए गर्मियों में इससे बचाव के घरेलू तरीके

Yeast infection in hair: गर्मियों में शरीर ही नहीं, बालों में भी पसीना बहुत होता है। क्या आपके बालों में गर्मी आते ही खुजली और दानें बनने की समस्या होने लगी है?

Chin Hair, Health News, Pregnancy
प्रतीकात्मक तस्वीर

शरीर में खुजली आना आज के समय की एक आम समस्या है, जिससे लगभग हर व्यक्ति समस्याग्रस्त है। गर्मियों में पसीना भले ही निकल कर शरीर और बालों को ठंडक प्रदान करता है, लेकिन इसके नुकसान बहुत होते हैं। अगर बालों में लंबे समय तक पसीना होता रहता है तो ये यीस्ट इंफेक्शन में बदल जाता है। इस्ट इंफेक्शन होने के लक्षण कई तरह से सिर में नजर आते हैं।

खुजली दूर करने का रामबाण घरेलू इलाज प्रचलन में है किन्तु आजकल लोग केमिकल युक्त पदार्थों के पीछे भागते हैं। घरेलू नुस्खों की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसके कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं होते हैं। तो चलिए बताएं कि अगर गर्मी में आपके बालों में खुजली और दानों की समस्या बढ़ रही है तो इससे कैसे बचा जा सकता है और इसके पीछे क्या कारण होते हैं।

घरेलू इलाज में हर वो चीज इस्तेमाल की जाती है जो आमतौर पर हम हर रोज अपने घर में इस्तेमाल करते हैं। घरेलू उपाय आसान उपलब्धता और महंगे इलाज से मुक्ति मिलने से पैसों की बचत सोने पर सुहागा है। फिटकरी जिसको अंग्रेजी में ALUM के नाम से जाना जाता है, एक बेहतरीन जंतु नाशक यानि एंटी फंगल (Anti Fungal) पदार्थ है।

बालों को धोने से पहले तेल लगाएं (Apply Oil Before Hair Wash): बाल में तेल एक से दो घंटे में ही अपना काम कर देता है। ज्यादा देर बाल में तेल लगाने से केवल पसीना और धूल चिपकना ही बढ़ेगा। इसलिए बाल नहाने से एक से दो घंटे पहले लगाएं, फिर धो दें।

बालों के लिए आवश्यक डाइट (Diet For Hair Growth): बालों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए अपने आहार में हरी सब्जियां, सोयबीन, शकरकंद और ड्राईफ्रूट्स को शामिल कर सकते हैं। इन फूड्स में आयरन, बीटा-कैरोटीन, विटामिन-ए और ओमेगा-3 मौजूद होता है, जो आपके बालों को घना और मजबूत बनाता है।

आमतौर पर शरीर में खुजली होने का मुख्य कारण शरीर से निकलने वाला पसीना होता है। पसीना निकलने पर उसमें कीटाणु पनपने लगते हैं जिसके कारण हमारे शरीर में खुजली होने लगती है। पसीने से होने वाली खुजली का मुख्य कारण पानी कम पीना होता है। साधारणतया एक वयस्क इंसानी शरीर को दिन में 4 से 5 लीटर पानी की आवश्यकता होती है। जब कोई व्यक्ति कम पानी पीता है तो पसीने की मात्रा कम हो जाती है और पसीने के साथ शरीर से निकलने वाले विषाणु (toxic) की मात्रा उतनी ही होती है।

फिटकरी को इस्तेमाल करने का तरीका: साबुन से स्नान करने के बाद एक मग पानी लें और उसमें फिटकरी के एक टुकड़े को 10–12 बार गोल गोल घुमाएं। उसके बाद उस पानी को पूरे शरीर पर लगा दें। साथ ही साथ फिटकरी की टुकड़े को बांह (under arms) के नीचे, ब्रा की पट्टियों के स्थान पर और पैंटी लाइन के क्षेत्र में 2–3 बार रगड़े। क्योंकि इन दोनों जगह पर पसीना जल्दी सूखता नहीं है इसलिए दाद (Fungal infection) जैसी बीमारी की संभावना काफी बढ़ जाती है। अगर पूरे शरीर में खुजली की समस्या नहीं है तो जहां समस्या है उन स्थानों पर फिटकरी का इस्तेमाल करना काफी होगा।

फिटकरी के फायदे

  • फिटकरी के इस्तेमाल से आपको कभी भी दाद जैसी समस्या से नहीं जूझना पड़ेगा।
  • बांह के नीचे (Under arms) से पसीने की बदबू से छुटकारा मिल जाएगा।
  • शरीर में खुजली आने जैसी समस्या दूर हो जाएगी।
  • दवाई के साइड इफ़ेक्ट से आपको छुटकारा मिल सकता है।
  • केमिकल युक्त उत्पादों पर होने वाले अनावश्यक खर्च की बचत होगी।

पढें जीवन-शैली (Lifestyle News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट