scorecardresearch

प्रेग्नेंसी के दौरान कौन-कौन से योग कर सकती हैं? बाबा रामदेव से जानिये

बाबा रामदेव के मुताबिक यदि गर्भवती महिलाएं रोजाना योग करती हैं तो उससे डिलीवरी के समय होने वाले दर्द में भी राहत मिलती है।

प्रेग्नेंसी के दौरान कौन-कौन से योग कर सकती हैं? बाबा रामदेव से जानिये
प्रेग्नेंट महिला को अपनी डाइट में हेल्दी और पोषक तत्वों से भरपूर फूड्स का सेवन करना जरूरी है ताकि मां और बच्चा दोनों हेल्दी रह सकें। photo-freepik

गर्भावस्था के समय महिलाओं को अपनी सेहत का खास ख्याल रखने की जरूरत होती है। बता दें कि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में शारीरिक व मानसिक बदलाव होते हैं, ऐसे में अपनी सेहत के साथ साथ अपने होने वाले बच्चे का भी ध्यान रखना चाहिए। स्वामी रामदेव के अनुसार प्रेग्नेंसी में योग से महिलाओं को शारीरिक व भावनात्मक बदलावों को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। अक्सर गर्भावस्था के समय महिलाओं को कोई भी कठिन काम न करने की नसीहत दी जाती है।

बाब रामदेव कहते हैं कि अगर गर्भवती महिलाएं रोजाना योग करती हैं तो उससे महिलाओं को डिलीवरी के समय होने वाले दर्द में भी राहत मिलती है। आइए जानते हैं स्वामी रामदेव के अनुसार गर्भवती महिलाओं को कौन से योगासन करने चाहिए।

प्रेग्नेंसी में कौन से योग करने चाहिए? (Which yoga is good during pregnancy?)

ताड़ासन: स्वामी रामदेव बताते हैं कि ताड़ासन कोई भी व्यक्ति कर सकता है। ताड़ासन करने का सबसे सही समय सुबह का माना जाता है। वैसे तो ताड़ासन करने के लिए कोई भी सख्त नियम नहीं है लेकिन अगर आप इस आसन को खाली पेट करते हैं तो यह ज्यादा फायदेमंद होगा। गर्भवती महिलाओं के लिए ताड़ासन सबसे अच्छा योग माना जाता है क्योंकि इसे करने से गर्भवती महिलाओं का ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है और शरीर को मजबूती मिलती है।

वीरभद्रासन: गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को वीरभद्रासन आसन करने से बहुत से फायदे मिलते हैं। बता दें कि रोजाना यह आसन करने से महिलाओं के शरीर को मजबूती मिलती है और यह आसन गर्भावस्था के समय पीठ में होने वाले दर्द को भी कम करने में मदद करता है। इसके अलावा वीरभद्रासन करने से महिलाओं की पाचन शक्ति भी ठीक रहती है। बाबा रामदेव के अनुसार गर्भवती महिलाओं को रोजाना 5 से 7 मिनट तक इस आसन को करना चाहिए।

सुखासन: स्वामी रामदेव के अनुसार सुखासन मेडिटेशन का एक पोज है। गर्भवती महिलाओं के लिए यह योगासन सबसे आसान भी माना जाता है। गर्भवती महिलाओं को यह आसन दिन में 2 बार करना चाहिए। सुखासन न केवल गर्भवती महिला के लिए फायदेमंद होता है बल्कि गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए भी यह आसन फायदेमंद होता है। बता दें कि सुखासन करने से दिमाग को आराम मिलता है और बॉडी को फ्लेक्सिबल बनाने में भी मदद करता है।

पढें जीवन-शैली (Lifestyle News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.