ताज़ा खबर
 

चंद्र ग्रहण के दौरान प्रेग्नेंट महिलाएं रखें इन बातों का खास ध्यान

16 जुलाई को सदी का सबसे बड़ा चंद्र गहण लगने वाला है। आइए जानते हैं कि गर्भवती महिलाएं क्या करके ग्रहण के असर को कम कर सकती हैं।

Lunar Eclipse 2019 on Guru Purnima 2019: ग्रहण के दौरान प्रेग्नेंट महिलाएं इन बातों का ध्यान रखें (Source: Reuters)

Lunar Eclipse 2019: भारत समेत कई देशों और सभ्‍यताओं में चंद्र ग्रहण को गर्भवती महिलाओं के लिए हानिकारक माना जाता है। मान्यता है कि ग्रहण के समय निकलने वाली दूषित किरणें गर्भ में पल रहे शिशु पर बुरा असर डालती हैं। इनके अनुसार यह असर बच्‍चे के शरीर में विकृतियों और चिन्‍हों के रूप में दिखाई देता है। ऐसा माना जाता है कि किसी भी ग्रहण का असर पूरे 108 दिनों तक रहता है जिसका असर गर्भवती महिला के होने वाले बच्चे पर पड़ सकता है। 16 जुलाई को सदी का सबसे बड़ा चंद्र गहण लगने वाला है। आइए जानते हैं कि गर्भवती महिलाएं क्या करके ग्रहण के असर को कम कर सकती हैं।

1. बाहर न जाएं-
चंद्र ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं बाहर न निकलें। ऐसा माना जाता है कि गर्भवती महिला अगर ग्रहण देख लेती है तो उसका सीधा असर उसके होने वाले बच्चे की शारीरिक और मानसिक सेहत पर पड़ता है। जिसकी वजह से शिशु गंदे लाल चिन्हों के साथ पैदा होता है। जन्म के बाद बच्चे के शरीर पर कोई न कोई दाग जरूर पड़ जाता है।
2. नुकीली चीजें-
ग्रहण के दौरान गर्भवती स्त्रियों को किसी भी नुकीली चीज का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए जैसे चाकू, कैंची, सूई आदि। शास्त्रों में यह भी कहा जाता है कि न सिर्फ गर्भवती महिलाएं बल्कि उनके पति भी इस समय इन चीजों का इस्तेमाल करने से बचें। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से उसके शिशु के अंगों को हानि पहुंच सकती है।
3. ग्रहण के दौरान बना खाने से बचें-
ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को इस समय बना कुछ भी खाना पीना नहीं चाहिए। कहा जाता है कि इस समय पड़ने वाली हानिकारक किरणें खाने को दूषित कर देती हैं। ऐसे में अगर घर पर खाना बना हो तो उसमें तुरंत तुलसी के पत्ते डाल दें। ग्रहण खत्म होने के बाद उन्हें निकाल दें। ऐसा करने से ग्रहण के बाद भी खाना शुद्ध रहता है।
4. नहाएं-
मान्यता है कि ग्रहण खत्म होने के बाद गर्भवती महिला को जरूर नहा लेना चाहिए वरना उसके शिशु को त्वचा संबधी रोग लग सकते हैं। ग्रहण के नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए गर्भवती महिला को तुलसी का पत्ता जीभ पर रखकर हनुमान चालीसा और दुर्गा स्तुति का पाठ करना चाहिए।
5. नारियल- 
गर्भवती महिलाएं ग्रहण काल में एक नारियल अपने पास रखें। इससे गर्भवती महिला पर वायुमंडल से निकलने वाली नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव नहीं पड़ेगा।
6. किरणों से बचना-
खिड़कियों को अखबारों या मोटे पर्दों से ढक देना, ताकि ग्रहण की कोई भी किरण घर में प्रवेश न कर सके।
7.  ग्रहण काल के दौरान यदि खाना जरूरी हो तो सिर्फ खानपान की उन्हीं वस्तुओं का उपयोग करें जिनमें सूतक लगने से पहले तुलसी पत्र या कुशा डला गया हो। इसके अलावा ग्रहणकाल के दौरान गुरु प्रदत्त मंत्र का जाप करते रहना चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 चंद्र ग्रहण लगने के बाद रखें इन बातों का ध्यान
2 हमें नग्न आंखों से चंद्रग्रहण क्यों नहीं देखना चाहिए? जानें इससे जुड़ी जरूर बातें
3 Happy Guru Purnima: गुरु पुर्णिमा के मौके पर अपने गुरु और दोस्तों को भेजें ये शानदार संदेश