ताज़ा खबर
 

पेट और गले की जलन से छुटकारा दिलाने में रामबाण से कम नहीं ये घरेलू उपचार, जानिये

Home Remedies for Acidity : एसिडिटी होने पर पेट में दर्द की शिकायत के साथ ही पेट और गले में जलन होने लगता है। यह एक बहुत बड़ी समस्या नहीं है बल्कि दवाइयों से इतर इसका घरेलू उपचार भी संभव है।

home remedies for acidity and gas problem in hindi, home remedies for acidity during pregnancy, home remedies for acidity in chestएसिडिटी होने पर पेट में दर्द की शिकायत के साथ ही पेट और गले में जलन होने लगता है।

Home Remedies for Acidity : खाने में तेज मिर्च-मसाले का सेवन, ज्यादा तला-भूना खाना और अधिक शराब पीना आदि की वजह से एसिडिटी की समस्या होती है। कई बार हम देर तक खाना नहीं खाते फिर एक ही बार में ज्यादा तेल-मसाले वाला खाना खा लेते हैं इस कारण से भी एसिडिटी की समस्या होने लगती है। एसिडिटी होने पर पेट में दर्द की शिकायत के साथ ही पेट और गले में जलन होने लगता है। यह एक बहुत बड़ी समस्या नहीं है बल्कि दवाइयों से इतर इसका घरेलू उपचार भी संभव है।

पेट और गले की जलन से राहत पाने के घरेलू उपचार
अदरक – अदरक में औषधीय गुण मौजूद होते हैं और सदियों से इसका इस्तेमाल होता आया है। पेट और गले में एसिडिटी से जलन होने पर भी यह बहुत लाभ पहुंचाता है। इसमें एंटी बैक्टीरियल और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं जो हमें जलन से राहत दिलाते हैं। एक अध्ययन के मुताबिक, अदरक H. Pylori नामक गैस्ट्रिक के बैक्टीरिया को मार देता है। इसके लिए आप अदरक का एक छोटा टुकड़ा लें और उसे थोड़ी देर तक चबाएं फिर पानी के साथ निगल लें।

शहद – शहद कभी न खराब होने वाला एक सर्वगुण सम्पन्न खाद्य है। इसमें खराब बैक्टीरिया को मारने की शक्ति होती है । इसमें मौजूद एंटी आक्सिडेंट्स और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पेट और गले की जलन से राहत दिलाते हैं। इसका इस्तेमाल करने के लिए आप दो चम्मच शहद को एक गिलास पानी में अच्छी तरह मिलाकर पिएं। अगर आप खाली पेट इसका सेवन करते हैं तो ज्यादा फायदा होता है।

हल्दी – हल्दी हमारे किचन का सबसे सुलभ और फायदेमंद मसाला है। इसमें करक्यूमिन नामक तत्व पाया जाता है जो एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटी बैक्टीरियल होता है। हल्दी का सेवन पेट और गले की जलन में राहत पहुंचाता है। इसके लिए आप एक चम्मच हल्दी को पानी में मिलाकर पेस्ट बनाकर उसका सेवन करें। पानी की जगह दही या केले का इस्तेमाल भी किया जा सकता है।

मनुका शहद के साथ ग्रीन टी – एक अध्ययन के मुताबिक ग्रीन टी के साथ मनुका शहद लेने से गले और पेट की जलन खत्म हो जाती है। मनुका शहद एसिडिटी के जीवाणुओं को असरदार तरीके से मारता है।

नारियल पानी – नारियल पानी कई खनिजों और विटामिन्स का अच्छा स्रोत होता है। इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण होते हैं जो हमें पेट और गले की जलन से राहत दिलाते हैं। खाने के थोड़ी देर बाद या दो मील्स के बीच में नारियल पानी का सेवन करने से लाभ मिलता है।

जीरा – पेट और गले में जलन होने पर इसके सेवन आराम मिलता है। इसमें जलन को दूर करने के लिए एंटी बैक्टीरियल और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण होते है। यह बहुत जल्दी असर करता है और हमें एसिडिटी से मुक्त करता है। इसके लिए आप एक चम्मच जीरा को भूनकर पीस लें। फिर एक गिलास गर्म पानी में उस जीरा पाउडर को डालकर पिएं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 वजन घटाने के लिए जानिये कैसे करें किचन के इन 4 मसालों का इस्तेमाल
2 बेहतर नागरिक बनाने को बचपन में बोएं संस्कार के बीज
3 पाना चाहते हैं घने-लम्बे बाल तो इन 4 चीजों की डालें आदत, जल्द होगा असर
किसान आंदोलनः
X