ताज़ा खबर
 

होली 2018 पूजा शुभ मुहूर्त और विधि: स्वास्थ्य और सुख समृद्धि के लिए करें इस विधि से पूजन, जानें क्या है मुहूर्त

Holika Dahan 2018, Holi 2018 Puja Vidhi, Shubh Muhurat, Procedure and Samagri: फाल्गुन मास की पूर्णिमा के दिन होली का पर्व मनाया जाता है, पूर्णिमा तिथि को होलिका दहन करके अगले दिन रंगों वाली होली खेलने की परंपरा है।

Author Updated: March 1, 2018 6:29 PM
Holi 2018 Puja Vihdi, Muhuart: होलिका की राख शरीर पर लगाने के बाद ही गुलाल खेलना शुभ माना जाता है।

होली 2018 पूजा विधि और शुभ मुहूर्त: होली की पूजा होलिका दहन से पहले की जाती है। इस पूजा को सामुदायिक तौर पर किया जाता है। होली शुरु होने से पहले ही चौराहे पर लकड़ियां, सुखी पत्तियां, पेड़ की डालियां, गोबर के कंडे इत्यादि सामग्री जमा होनी शुरु हो जाती है। इस ढेर को मजबूत लकड़ी के पास बनाया जाता है, इसी को होलिका कहा जाता है। फाल्गुन की पूर्णिमा के दिन इसे जलाने से पहले होलिका की पूजा की जाती है। होलिका के जलने के बाद जो राख बचती है उसे घर जाकर अगले दिन शरीर पर लगाया जाता है। मान्यता है कि इस राख को शरीर पर लगाने से बीमारियों से छुटकारा मिलता है।

होली की पूजा विधि- एक कलश या बर्तन में जल, गोबर के कंडे, रोली, अक्षत, धूप या अगरबत्ती, फूल मालाएं, मोली, कच्ची हल्दी की गांठे, साबूत मूंग दाल, पताशे, नारियल, गुलाल, सीधा डंडा। सामुदायिक होलिका दहन में होलिका के जलने से पहले रोली, अक्षत, फूल, मालाएं, धूप और अगरबत्ती दिखाकर पूजा करें। इसके बाद परिक्रमा करते हुए मोली या सूत का धागा बांधें और होलिका के जलने के बाद उसमें पानी का अर्घ्य दें और कच्चे या हरे चने के बूटे को भूनें। इसके बाद इसे प्रसाद के रुप में ग्रहण करें। अगले दिन शरीर पर होलिका की राख लगाने के बाद ही रंग खेलना शुभ माना जाता है।

फाल्गुन की पूर्णिमा तिथि इस बार 1 मार्च को प्रातः 8.57 से लेकर 2 मार्च 6.21 मिनट तक है। 1 मार्च शाम को सूरज डूबने के बाद प्रदोष काल में ही होलिका दहन शुभ माना जाता है। होलिका के पूजन के लिए भद्रा पूंछ का मुहूर्त 15 बजकर 54 मिनट से शाम 4 बजकर 58 मिनट तक रहेगा। भद्रा मुख के लिए शाम 4.58 से लेकर 6.45 तक रहेगा। इसी के साथ होलिका दहन के लिए शुभ मुहूर्त शाम 6 बजकर 16 मिनट से लेकर 8 बजकर 47 मिनट तक रहेगा। होलिका दहन के समय होलिका की पांच से सात बार परिक्रमा करना शुभ माना जाता है और भगवान से नई फसल के लिए प्रार्थना की जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Holi 2018 Puja Vidhi, Samagri: जानिए घर पर कैसे करें पूजा, भगवान को प्रसन्न करने की सरल विधि
2 Happy Holi 2018: होली है बुराई पर अच्छाई की जीत, जानें क्यों मनाया जाता है होली का पर्व
3 होली पूजा विधि 2018: जानिए होली से एक शाम पूर्व कैसे करें पूजन, सुख-समृद्धि के लिए जलाई जाती है होलिका