ताज़ा खबर
 

चटनी खाने के शौकीन हैं? जानिए कैसे डायबिटीज और कैंसर तक का इलाज करती है आपकी पसंदीदा चटनी

चटनी केवल स्वाद बढ़ाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली चीज नहीं है बल्कि यह आपकी सेहत पर भी कई तरह के सकारात्मक प्रभाव डालती है।
समोसे, पकौड़े या फिर भोजन के साथ भी चटनी का सेवन खूब पसंद किया जाता है।

हमारे घरों में कई तरह की चटनी बनाई जाती है। समोसे, पकौड़े या फिर भोजन के साथ भी चटनी का सेवन खूब पसंद किया जाता है। चटनी केवल स्वाद बढ़ाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली चीज नहीं है बल्कि यह आपकी सेहत पर भी कई तरह के सकारात्मक प्रभाव डालती है। आज हम आपको अलग-अलग तरह की चटनी का सेवन करने से होने वाले फायदों के बारे में बताने वाले हैं।

1. पुदीने की चटनी – पाचन क्रिया को बेहतर रखने में पुदीने की चटनी बेहद लाभदायक है। यह भूख बढ़ाने के साथ-साथ अनेक बीमारियों जैसे- मिचली, कब्ज और उल्टी आदि को ठीक करने में मददगार होता है।

2. करी के पत्ते की चटनी – करी के पत्ते आयरन और फोलिक एसिड के बेहतरीन स्रोत होते हैं। फोलिक एसिड शरीर में आयरन को अवशोषित करने की क्षमता को बढ़ाने का काम करता है। एनीमिया से ग्रस्त लोगों के लिए करी के पत्ते की चटनी वरदान की तरह होती है।

3. आंवले की चटनी – विटामिन सी का बेहतरीन स्रोत आंवला शरीर में रोग-प्रतिरोध क्षमता को बढ़ाने का काम करता है। इसके इस्तेमाल से त्वचा संबंधी समस्याएं नहीं होतीं। इसके अलावा आंवले की चटनी खाने से कोलेस्ट्रॉल लेवल में कमी आती है। साथ ही इंसुलिन का स्राव नियंत्रित होता है और डायबिटीज कंट्रोल करने में सहायता मिलती है।

4. धनिए के पत्ते की चटनी – हमारे घरों में धनिए की चटनी सबसे ज्यादा इस्तेमाल की जाती है। यह पाचन बढ़ाने की सर्वोत्तम दवा है। इसमें विटामिन सी के साथ-साथ विटामिन के भी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। यह ब्लड शुगर को नियंत्रित करता है।

5. प्याज और लहसुन की चटनी – प्याज और लहसुन की चटनी से कब्ज और पाइल्स जैसी समस्याएं ठीक हो जाती हैं। लहसुन एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-फंगल और एंटी-इन्फ्लेमेट्री गुणों से भरपूर होता है। इसके अलावा डायबिटीज कंट्रोल करने में भी लाभकारी है।

6. टमाटर की चटनी – टमाटर की चटनी में विटामिन्स और ग्लूटाथायोन काफी मात्रा में पाया जाता है। इसमें कैंसर का इलाज करने वाले गुण पाए जाते हैं। स्वस्थ जीवन के लिए टमाटर की चटनी का नियमित सेवन किया जाना चाहिए।


Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.