ताज़ा खबर
 

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की याद में क्यों मनाया जाता है Teacher’s Day, जानिए इससे जुड़ी बातें

डा. राधाकृष्णन चाहते थे कि शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार किया जाए और शिक्षक, छात्रों और उनके पढ़ाने के तरीके के बीच एक मजबूत संबंध विकसित किया जाए।

Teacher’s Day 2019: इनके जन्मदिन के मौके पर मनाया जाता है टीचर्स डे

शिक्षक हमारे समाज के स्तंभ हैं। वे हमारे बच्चों के जीवन में एक असाधारण भूमिका निभाते हैं। उन्हें ज्ञान, शक्ति से जोड़ते हैं और उन्हें जीवन की कठिनाइयों का सामना करने के लिए सीखाते हैं। वे अपने छात्रों को देश के जिम्मेदार नागरिकों में ढालने में खुद को समर्पित करते हैं। 5 सितंबर 1962 से भारत में शिक्षक दिवस मनाया जा रहा है। यह दिन डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की याद दिलाता है। डॉ. राधाकृष्णन का मानना था कि ” देश में शिक्षकों को सबसे ज्यादा दिमाग होना चाहिए।” राधाकृष्णन देश एक बेहद अच्छे शिक्षक थे।

Happy Teacher’s day 2019 Wishes Images, Quotes, Messages, Status, Wallpapers, Status

डॉ. राधाकृष्णन के जन्मदिन के शुभ अवसर पर उनके छात्रों और दोस्तों ने उनसे उनका जन्मदिन मनाने की अनुमति देने का अनुरोध किया, लेकिन जवाब में डॉ. राधाकृष्णन ने कहा कि “मेरे जन्मदिन को अलग से मनाने के बजाय, यह सौभाग्य की बात होगी कि 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाए।”

शिक्षकों के लिए डॉ. राधाकृष्णन का यह मत था ताकि समाज को सही प्रकार की शिक्षा मिले और देश की कई बीमारियों का भी हल हो सकें। इसके अलावा, डा. राधाकृष्णन चाहते थे कि शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार किया जाए और शिक्षक, छात्रों और उनके पढ़ाने के तरीके के बीच एक मजबूत संबंध विकसित किया जाए।

Teacher’s Day 2019 Speech, Essay, Quotes, Kavita: Read Here

कुल मिलाकर, वह शैक्षिक प्रणाली को बदलना चाहते थें। उनके अनुसार शिक्षक को विद्यार्थियों का स्नेह प्राप्त करना चाहिए। शिक्षकों को सम्मान करने का आदेश नहीं दिया जाना चाहिए, बल्कि इसे अर्जित किया जाना चाहिए। इसलिए, शिक्षक हमारे भविष्य के आधारशिल हैं और जिम्मेदार नागरिक और अच्छे इंसान बनाने के लिए नींव के रूप में कार्य करते हैं। यह दिवस हमारे शिक्षकों द्वारा हमारे विकास की दिशा में किए गए परिश्रम को स्वीकार करने के लिए मनाया जाता है।

Teacher’s Day 2019 Speech, Essay, Quotes: Read Here

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म वर्ष 1888 में आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु राज्यों की सीमा के पास मद्रास प्रेसीडेंसी में एक मध्यम वर्ग के तेलुगु ब्राह्मण परिवार में हुआ था। वे एक जमींदारी में तहसीलदार, वीरा समैया के दूसरे बेटे थे। उन्होंने मद्रास विश्वविद्यालय से दर्शनशास्त्र विषय में पोस्ट ग्रेजुएशन किया था और उन्होंने एम. ए. यानि “द एथिक्स ऑफ द वेदांता एंड इट्स मेटाफिजिकल प्रेसुप्पोसिशन” में एक थीसिस लिखी थी, जिसमें उन्होंने बताया था कि वेदांत सिस्टम का नैतिकता मूल्य है।

Next Stories
1 Teacher’s Day 2019: आज अपने शिक्षक के प्रति सम्मान प्रकट करने का है दिन तो कुछ अलग अंदाज में करें उनको विश
2 टीचर्स डे आज! बच्चों और शिक्षकों के लिए Speech यहां से करें तैयार
3 Teacher’s Day पर स्कूलों में दी जाती है स्पीच, यहां ये तैयार करें भाषण
ये पढ़ा क्या?
X