ताज़ा खबर
 

Gandhi Jayanti: पहले ईष्यालु थे गांधी, द.अफ्रीका में वक्त की चोट ने बापू बना दिया

इस साल उनकी 150 वीं जयंती मनाई जा रही है। गांधी के पिता करमचंद गांधी कठियावाड़ रियासत के दीवान थे। आज हम आपको 2 अक्टूबर मनाए जाने के पीछे की कहानी बता रहे हैं। देश से लेकर विदेश में गांधी के विचारों को याद किया जाता है, जिनके उपदेश हर किसी के लिए प्रेरणाश्रोत हैं और हमेशा रहेंगे।

gandhi jayanti, gandhi jayanti 2019, gandhi jayanti speech in hindi, gandhi jayanti biography, gandhi jayanti quotes, gandhi jayanti bhashan, महात्मा गांधी, बापू, बापू के संदेश, gandhi jayanti essay, gandhi jayanti quotes, gandhi jayanti significance, gandhi jayanti 2019 india, mahatma gandhi birthday, mahtma gandhi birth anniversary, gandhi jayanti 2019 india, gandhi jayanti importance in india, gandhi jayanti significance in india, gandhi jayanti historyGandhi Jayanti 2019: मोहनदास की शुरुआती पढ़ाई-लिखाई स्थानीय स्कूलों में हुई। वो पहले पोरबंदर के प्राथमिक पाठशाला में और उसके बाद राजकोट स्थित अल्बर्ट हाई स्कूल में पढ़े।

पूरी महात्मा गांधी ने अपनी आत्मकथा ‘सत्ये के साथ मेरे प्रयोग’ में बताया कि बाल्यकाल में उनके जीवन पर परिवार और मां के धार्मिक वातावरण और विचार का गहरा प्रभाव पड़ा था। राजा हरिश्चंद्र नाटक से मोहनदास काफी प्रभावित थे। उनकी शुरुआती पढ़ाई-लिखाई स्थानीय स्कूलों में हुई। वो पहले पोरबंदर के प्राथमिक पाठशाला में और उसके बाद राजकोट स्थित अल्बर्ट हाई स्कूल में पढ़े। पढ़ने-लिखने में वो औसत थे। सन् 1883 में करीब 13 साल की उम्र में करीब छह महीने बड़ी कस्तूरबा से उनका ब्याह हो गया।

पहले थे ईष्यालू और फिर बने दयालू (Gandhi Gayanti)

आत्मकथा में गांधी जी ने बताया है कि वो शुरू-शुरू में ईर्ष्यालु और अधिकार जमाने वाले पति थे। स्थानीय स्कूलों से हाई स्कूल की पढ़ाई करने के बाद साल 1888 में गांधी वकालत की पढ़ाई करने के लिए ब्रिटेन गये। जून 1891 में उन्होंने वकालत की पढ़ाई पूरी कर ली और फिर देश वापस आ गये। देश में गांधी की वकालत जमी नहीं।

1893 में बन गए शेख अब्दुल्ला के वकील

साल 1893 में वो गुजराती व्यापारी शेख अब्दुल्ला के वकील के तौर पर काम करने के लिए दक्षिण अफ्रीका चले गये। गांधी के अफ्रीका प्रवास ने उनकी जिंदगी की दिशा बदल दी। करीब 23 साल के मोहनदास को तब शायद ही पता हो कि जीवन के अगले 21 साल वो दक्षिण अफ्रीका में गुजारने वाले हैं। महात्मा गांधी रस्किन बॉण्ड और लियो टॉलस्टॉय की शिक्षा से बहुत ज्यादा प्रभावित थे। गांधी जी ने दक्षिण अफ्रीका में टॉलस्टॉय फार्म की भी स्थापना की थी। लंदन प्रवास के दौरान ही उन्होंने हिन्दू, इस्लाम और ईसाई आदि धर्मों का अध्ययन किया था। उन्होंने विभिन्न धर्मों के प्रमुख बुद्धिजीवियों के संग धर्म संबंधी विषयों पर काफी चर्चा की थी।

नमक सत्याग्रह से तोड़ा अंग्रेजों का कानून

मार्च 1930 में गांधी ने अपने जीवन की सबसे महत्वपूर्ण यात्रा दांडी मार्च शुरू की। “नमक सत्याग्रह” नाम से मशहूर गांधी जी की करीब 200 मील लम्बी इस यात्रा के बाद उन्होंने नमक न बनाने के ब्रिटिश कानून को तोड़ दिया था। साइमन कमीशन की रिपोर्ट के आधार पर ब्रिटिश सरकार ने भारत के “स्वराज की मांग” पर विचार के लिए गोलमेज सम्मेलन का आयोजन किया। भारत में संवैधानिक सुधारों पर चर्चा के लिए गांधी ब्रिटेन में हुई गोलमेज सम्मेलन में शामिल हुए। इसके बाद उन्होंने असहयोग आंदोलन, खिलाफत आंदोलन, भारत छोड़ो आंदोलन जैसे तमाम मन आंदोचल चलाए। उनके जन्मदिन को अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में भी मनाया जाता है।

Next Stories
1 Shastri Jayanti 2019: शास्त्री जी के आदेश पर पाकिस्तान में घुसकर इंडियन आर्मी ने मचाई थी तबाही
2 Gandhi Jayanti: वो कमजोर होते हैं जो कभी माफी नहीं मांगते, बापू के Best Hindi Quotes दोस्तों से शेयर करें
3 Gandhi Jayanti 2019: अहिंसा और सत्याग्रह, बापू के दो अस्त्र जिनसे हार गई अंग्रेजी हुकूमत
ये पढ़ा क्या?
X