जब नेहरू के सामने ही पत्नी इंदिरा को फासीवादी कहने लगे थे फिरोज गांधी, जानिये पूरा किस्सा

इंदिरा गांधी और फिरोज के रिश्तों में शादी के कुछ वक्त बाद ही तल्खियां आ गई थीं।

Indira Gandhi, Feroze Gandhi, Lifestyle News
इंदिरा गांधी और फिरोज गांधी के रिश्ते के बीच में आ गई थी खटास (फोटो क्रेडिट- Indian Express)

कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे फिरोज गांधी की 8 सितंबर को 61वीं पुण्यतिथि है। सियासी गलियारों में फिरोज की चर्चा होती है तो इंदिरा गांधी से उनकी शादी और तमाम विवादों का जिक्र भी होता है। कांग्रेस से जुड़े होने की वजह से पंडित जवाहरलाल नेहरू, फिरोज गांधी को पहले से ही जानते थे। इंदिरा और फिरोज की दोस्ती भी बचपन से थी, लेकिन लंदन में साथ पढ़ाई के दौरान और करीब आए थे। इसी दौरान फिरोज ने इंदिरा को शादी के लिए प्रपोज किया था, लेकिन उन्होंने इसे स्वीकार नहीं किया था।

इंदिरा की जीवनी में पुपुल जयकर लिखते हैं कि मां के निधन के बाद इंदिरा गांधी काफी टूट गई थीं और इस दौरान हर मौके पर फिरोज उनके साथ खड़े हुए थे। इसी दरम्यान इंदिरा को भी फिरोज़ गांधी से लगाव होने लगा और उन्होंने पिता जवाहरलाल नेहरू को इस बारे में बता दिया। हालांकि पंडित नेहरू नहीं चाहते थे कि इंदिरा, फिरोज से शादी करें। उन्होंने इंदिरा को उनकी खराब सेहत और डॉक्टर की सलाह का भी हवाला दिया था, लेकिन वह नहीं मानीं और फिरोज़ गांधी से शादी कर ली थी।

फिरोज से अलग रहने लगी थीं इंदिरा गांधी: शादी के कुछ ही समय बाद दोनों के रिश्तों में तल्खियां आने लगीं। इंदिरा अपने पिता का पार्टी के काम में साथ देने के लिए फिरोज का घर छोड़कर इलाहाबाद अपने मायके आ गईं। फिरोज गांधी भी अपने अन्य कामों में व्यस्त हो गए और ‘नेशनल हेराल्ड’ अखबार की जिम्मेदारी संभालने लगे।

चर्चित लेखक बार्टिल फाक अपनी किताब ‘फिरोज: द फॉरगेटेन गांधी’ में एक किस्से का जिक्र करते हुए लिखते हैं कि दोनों के बीच नाराज़गी इस कदर बढ़ गई थी कि एक बार फिरोज ने गुस्से में इंदिरा गांधी को ‘फासीवाद’ तक कह दिया था। यह सब पंडित नेहरू के सामने ही हुआ था। दरअसल, साल 1959 में इंदिरा गांधी चाहती केरल की सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लगाना चाहती थीं।

इंदिरा से नाराज़ हो गए थे फिरोज़ गांधी: फिरोज गांधी, इंदिरा की इस बात से बिल्कुल भी सहमत नहीं थे। एक सुबह नाश्ते की टेबल पर चर्चा के दौरान वे इतने नाराज हुए कि उन्होंने इंदिरा गांधी को ‘फासीवाद’ तक कह दिया था। उस दौरान जवाहरलाल नेहरू भी वहां मौजूद थे।

फिरोज की इस ‘टिप्पणी’ के बाद दोनों के बीच तल्खियां और बढ़ गई थीं। बता दें कि साल 1960 में फिरोज गांधी ने दुनिया को अलविदा कह दिया था। उनके निधन के करीब 6 साल बाद साल 1966 में इंदिरा गांधी देश की पहली महिला प्रधानमंत्री बनी थीं।

पढें जीवन-शैली समाचार (Lifestyle News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।