scorecardresearch

खाली पेट पीएं करेले का जूस, शरीर को बनाएं चुस्त और फुर्तीला; जानें और क्या हैं फायदे

विशेषज्ञों का कहना है कि “विटामिन ए से भरपूर होने के कारण यह आंखों और स्किन के स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है। यह ब्लड से विषाक्त पदार्थों और कोलेस्ट्रॉल को कम करने और आंत के स्वास्थ्य को दुरुस्त करने में मदद करता है।”

खाली पेट पीएं करेले का जूस, शरीर को बनाएं चुस्त और फुर्तीला; जानें और क्या हैं फायदे
विटामिन ए से भरपूर होने के कारण यह आंखों और स्किन के स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है। (Source: Getty Images/Thinkstock)

करेला या करेला का जूस स्वाद में काफी तीखा होता है, लिहाजा हर कोई इसे पहली बार में पसंद नहीं करेगा। लेकिन यह शरीर के लिए काफी फायदेमंद होता है। इसके इतने लाभ है कि इससे बचना मुश्किल है। आयुर्वेद के अनुसार, ताजा करेले का जूस लीवर को डिटॉक्सीफाई करने के अलावा अग्नाशय के कैंसर को भी रोक सकता है। यह डायबेटिक के लिए भी वरदान है। साथ ही शरीर में चुस्ती और फुर्ती लाने में यह बहुत कारगर है।

विटामिन सी से भरपूर: करेले के रस में विटामिन सी काफी पाया जाता है। यह एंटीऑक्सिडेंट देता है, जो इम्युनिटी, मेंटल हेल्थ और ऊतक उपचार को बढ़ावा देने में बड़ी भूमिका निभाता है। हालांकि यह आमतौर पर पके हुए रूप में सेवन किया जाता है, लेकिन पोषण विशेषज्ञ डॉ. रचना अग्रवाल के मुताबिक ताजा करेले का रस भी उतना ही पौष्टिक होता है। उन्होंने इसके कुछ लाभ भी बताए।

रुचिका जैन का कहना है कि ”शुगर लेवल को नियंत्रित करता है। इसमें ऐसी चीजें पाई जाती हैं, जो शरीर में ग्लूकोज को कम करने में मदद कर सकते हैं। इसमें अच्छे हाइपोग्लाइसेमिक गुण होते हैं, जो ब्लड शुगर के लेवल को नियंत्रित करने में मदद करते हैं।”

करेले में विटामिन ए और फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसमें कैलोरी भी कम होती है। विशेषज्ञों का कहना है कि इससे यह वजन घटाने में भी मदद करता है। डॉ. रचना अग्रवाल बताती हैं कि “यह हमारे पेट को लंबे समय तक भरा रखता है और इसलिए गैरजरूरी भूख नहीं लगती है। विटामिन ए से भरपूर होने के कारण यह आंखों और स्किन के स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है। यह ब्लड से विषाक्त पदार्थों को कम करने, कोलेस्ट्रॉल को कम करने और आंत के स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा है।”

भोजन से पहले लेने में ज्यादा फायदा
जैन के मुताबिक “इसे आदर्श रूप में भोजन से पहले लिया जाना चाहिए। हालांकि, नाश्ते से पहले दिन में एक बार खाली पेट लेना सबसे अच्छा होता है।” उन्होंने सुझाव दिया कि 30 मिलीलीटर से अधिक का सेवन नहीं करना चाहिए। इससे ज्यादा लेने से पेट खराब हो सकता है।”

डॉ. अग्रवाल ने कहा कि “गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं को जूस से बचना चाहिए। साथ ही डायबिटीज के रोगियों को अपनी दवाओं के साथ जूस का सेवन करते समय सावधान रहना चाहिए क्योंकि इसमें हाइपोग्लाइसेमिक गुण होते हैं, जो उनके शुगर के लेवल को काफी कम कर सकते हैं।”

पढें जीवन-शैली (Lifestyle News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.