आपने गुजरात में कितने मुस्लिमों को टिकट दिया था? नरेंद्र मोदी से जब दिग्विजय सिंह ने पूछा था सवाल तो मिला ऐसा जवाब

‘इंडिया टुडे कॉन्क्लेव’ में दिग्विजय सिंह ने नरेंद्र मोदी से टिकट वितरण को लेकर सवाल किया था। इसके सवाल का कुछ ऐसा दिया था मोदी ने जवाब।

Narendra Modi Digvijaya Singh
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दिग्विजय सिंह (Photo- Indian Express)

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने बीजेपी पर निशाना साधा है। दिग्विजय सिंह ने चुनौती देते हुए कहा कि मैं सबसे अच्छा हिंदू हूं, एकादशी का व्रत रखता हूं। मुझसे बेहतर बीजेपी में कोई हिंदू हो तो बताएं। इसके अलावा उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए कहा, ‘नोटबंदी के दौरान कहा गया था कि इससे नकली नोट खत्म हो जाएंगे। जबकि ऐसा कुछ नहीं हुआ।’ कांग्रेस नेता के इन आरोपों के बाद उनका एक पुराना इंटरव्यू सामने आया है।

साल 2008 में हुए ‘इंडिया टुडे कॉन्क्लेव’ में नरेंद्र मोदी, दिग्विजय सिंह और फारूक अब्दुल्ला साथ पहुंचे थे। यहां तीनों नेताओं से कई सवाल पूछे गए थे। इसी कार्यक्रम में दिग्विजय सिंह ने नरेंद्र मोदी से पूछा था, ‘मेरा मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी जी से सिर्फ एक ही सवाल है कि आपने कितने मुस्लिमों को गुजरात चुनाव में टिकट दिया था?’ इसके जवाब में नरेंद्र मोदी ने कहा था, ‘कांग्रेस ने कितने मुस्लिमों को टिकट दिया था? क्या अब सिर्फ इसके आधार पर तय होगा? आप कैबिनेट में कितने मुस्लिमों को शामिल कर रहे हो? क्या अब इसके आधार पर तय किया जाएगा।’

नरेंद्र मोदी आगे कहते हैं, ‘ऐसी सोच के खिलाफ ही मेरा विरोध है। हिंदुस्तान का कोई नागरिक चुनाव लड़ सकता है तो सिर्फ भारतीय मुस्लिम ही क्यों? मैं आपसे पूछता हूं कि आपने कितने पारसियों को टिकट दिया? गुजरात में पारसी समुदाय है। आपने कितने सिखों को टिकट दिया? गुजरात में सिख समुदाय है। आपने कितने इसाइयों को टिकट दिया? गुजरात में ईसाई समुदाय है। क्या इसी तरह देश चलाओगे?’

पीएम मोदी पर टिप्पणी: साल 2007 के विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस की गुजरात में करारी हार हुई थी, लेकिन सोनिया गांधी की एक टिप्पणी का जिक्र आज भी भारतीय राजनीति के इतिहास में होता है। यहां चुनाव प्रचार करते हुए सोनिया गांधी ने नरेंद्र मोदी को ‘मौत का सौदागर’ तक कह दिया था। जब नरेंद्र मोदी से इसको लेकर सवाल किया गया था तो उन्होंने कहा था, ‘कई लोगों की रोज़ी-रोटी ही मुझे गाली देकर चलती है। अब ऐसे लोगों के मुंह से मैं निवाला नहीं छीनना चाहता हूं। चुनाव के नतीजों से साफ हो गया है कि कौन क्या है?’

पढें जीवन-शैली समाचार (Lifestyle News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
एक मंदिर ऐसा भी: जहां रोज होगी रावण की पूजा
अपडेट