ताज़ा खबर
 

Work from Home के बीच सर्वाइकल पेन से हैं परेशान तो इन योगासनों को जरूर करें ट्राय

जब लोग एक ही जगह पर एक ही मुद्रा में बैठकर काफी देर तक काम करते हैं तो उससे सर्वाइकल पेन और गर्दन दर्द की समस्या पैदा होती है

इस दर्द से बचने के लिए ज्यादा समय एक ही पॉश्चर में बैठने से बचें

Work From Home Tips: कोरोना वायरस के कहर को कम करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने लॉकडाउन को 3 मई तक आगे बढ़ा दिया है। इस लॉकडाउन में ज्यादातर लोग घर से ही काम यानि कि वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं। लैपटॉप और मोबाइल के सामने घंटों एक ही पोजिशन में बैठने से कई बार गर्दन में दर्द होने लगता है। वैसे तो गर्दन में दर्द एक आम परेशानी है लेकिन अगर ये दर्द सर्वाइकल पेन की ओर संकेत करता है तो ये गंभीर माना जा सकता है। लोग लगातार कुर्सी पर बैठे रहते हैं, कई बार बैठे-बैठे सो जाते हैं। इन गलत मुद्राओं की वजह से सर्वाइकल पेन की समस्‍या होने की संभावना बढ़ जाती है। इस दर्द से बचने के लिए ज्यादा समय एक ही पॉश्चर में बैठने से बचें। इसके अलावा, कई योगासन भी आपको इस दर्द से राहत दिला सकते हैं।

क्यों होता है सर्वाइकल पेन: जब लोग एक ही जगह पर एक ही मुद्रा में बैठकर काफी देर तक काम करते हैं तो उससे सर्वाइकल पेन और गर्दन दर्द की समस्या पैदा होती है। लगातार बैठे रहने से रीढ़ की मांसपेशियां और नसें सख्त हो जाती हैं। इससे ब्लड सर्कुलेशन पर असर पड़ता है और दर्द की समस्या शुरू हो जाती है। इस समस्या से निजात दिलाने में ग्रीवा शक्ति विकासक क्रिया फायदेमंद साबित हो सकता है। इस योगासन में 3 क्रियाएं शामिल हैं, जिन्हें लोग सुखासन या पद्मासन में बैठकर कर सकते हैं।

पहला स्टेप: आप इस क्रिया को करने के लिए किसी शांत जगह पर बैठ जाएं, आप चाहें तो इसे खड़े-खड़े भी कर सकते हैं। अब अपनी गर्दन को पहले दांयी ओर फिर बांयी ओर घुमाएं, इस दौरान आपकी ठुड्डी कंधे के सीध में होनी चाहिए। इसे आप 10-10 बार कर सकते हैं।

दूसरा स्टेप: अब वापस से अपने ओरिजिनल पोजिशन में आ जाएं। सेकेंड स्टेप में आप गर्दन को पहले नीचे की ओर झुकाएं और फिर ऊपर की ओर ले जाएं। नीचे झुकते समय आपकी नजरें अपने पैर के अंगूठे की तरफ होनी चाहिए और गर्दन ऊपर करते समय आकाश के तरफ देखना है। हालांकि, जिनको सर्वाइकल की तकलीफ है वह सिर को नीचे या आगे की ओर न झुकाएं।

तीसरा स्टेप: इसमें आपको अपनी गर्दन को घड़ी की सूइयों के अनुसार पहले क्‍लॉकवाइज घुमाना है और फिर एंटी क्‍लॉकवाइज घुमाना है। वहीं, अगर किसी को सर्वाइकल की समस्या है तो उसे अपनी गर्दन को केवल पीछे की तरफ ही घुमाना चाहिए।

ये हैं इस क्रिया के फायदे: इस योग को करने से गर्दन में जल्दी दर्द नहीं होता है। साथ ही, इससे टॉन्सिल्स और थायरॉइड की समस्या भी दूर होती है। इस योग को करने से लोगों को डबल चिन की परेशानी से भी निजात मिलेगी। वहीं, ये योग क्रिया सिर और गर्दन के इर्द-गिर्द ब्लड सर्कुलेशन को भी बेहतर करती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 कम उम्र में बाल सफेद हो रहे हैं? जानें सफेद बालों से छुटकारा कैसे पाएं, सफेद बालों को दोबारा काला बनाने के लिए अपनाएं ये 4 नुस्‍खे
2 ‘अंगूरी भाभी’ को बचपन से था एक्टिंग का शौक, लेकिन शादी के बाद मिला मौका, 10 साल की बेटी की हैं मां, अब कुछ ऐसी है लाइफस्टाइल
3 Breastfeeding Tips: जन्म के कितने दिन बाद तक ब्रेस्ट फीडिंग जरूरी? जानिये…