X

प्रेग्नेंसी में फायदेमंद है नारियल, इन चीजों के सेवन से बनाएं दूरी

नारियल पानी में चीनी, सोडियम और प्रोटीन के साथ ही इलैक्ट्रोलाइट्स, क्लोराइड्स, मैग्नीशियम, कैल्शियम, रिबोफ्लेविन और विटामिन सी भी भरपूर मात्रा में होता है, जो प्रेग्नेंट महिलाओं को लिए काफी फायदेमंद होता है।

प्रेग्नेंसी में नारियल पानी बेहद फायदेमंद होता है। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व प्रेग्नेंट महिलाओं को दिनभर फ्रैश रखने में कारगर साबित होते हैं। इससे शरीर में इलैक्ट्रोलाइट्स और तरल पदार्थो की सही मात्रा बनी रहती है। कोकोनट डेवलपमेंट बोर्ड (सीडीबी) के मुताबिक ‘नारियल पानी में चीनी, सोडियम और प्रोटीन के साथ ही इलैक्ट्रोलाइट्स, क्लोराइड्स, मैग्नीशियम, कैल्शियम, रिबोफ्लेविन और विटामिन सी भी भरपूर मात्रा में होता है।’

गर्भावस्था की पहली तिमाही में नारियल पानी के सेवन से कई तरह है फायदे होते हो सकते हैं। जैसे- सुबह जी मिचलाने में राहत, कब्ज और थकान दूर होना, प्रतिरोधक क्षमता बढ़ना, अजन्मे बच्चे की लिए जरूरी तरल पदार्थ की कमी पूरी करना और ब्लड प्रेशर सही मेंटेन रखना इसके अलावा नारियल पानी शरीर में रक्त की मात्रा को बढ़ाता है और मूत्र मार्ग के संक्रमण से बचाता है। इसलिए बिना देर किये गर्भावस्था के प्रथम चरण में महिलायें नारियल पानी को अपने डायट में शामिल करें।

इन चीजों के सेवन से दूर रहे प्रेग्नेंट महिलाएं-

कॉफी: कई तरह के शोध बताते हैं कि प्रेग्नेंसी में कॉफी का सेवन करने से गर्भपात की संभावना बढ़ जाती है। कैफीन डाइयूरेटिक होता है। इसका मतलब है कि यह शरीर से ज्यादा से ज्यादा मात्रा में द्रव्यों के निष्कासन का काम करता है। इस वजह से शरीर में पानी और कैल्शियम की भारी कमी हो जाती है।

पपीता: पपीते की तासीर गर्म होती है। ऐसे में इसका सेवन बच्चे की सेहत पर बुरा असर डालता है। साथ ही किसी भी तरह का फल खाने से पहले उसे ताजे पानी से अच्छी तरह धोना न भूलें।

मछली: मछली में भारी मात्रा में मर्करी पाई जाती है। ऐसे में प्रेग्नेंसी के दौरान मछली का सेवन बच्चे के शारीरिक विकास में देरी और उसके दिमाग को नुकसान पहुंचाने का कारण बन सकता है। इस दौरान कच्ची मछली भी खाने से बचना चाहिए।

एल्कोहल: गर्भावस्था में एल्कोहल का सेवन करने से समयपूर्व प्रसव की संभावना बढ़ जाती है। इसके अलावा बच्चे की मानसिक क्षमता भी प्रभावित होती है तथा कम वजनी बच्चा पैदा होने की आशंका भी बढ़ जाती है।

कच्चा चीजें: गर्भावस्था में कच्चा खाना खाने से बचें। ऐसे खाने में वायरस या फिर बैक्टीरिया हो सकते हैं जो मां और बच्चे दोनों को नुकसान पहुंचा सकते हैं।