ताज़ा खबर
 

रामविलास पासवान ने पल में छोड़ दिया था पान-सिगरेट, आखिरी दम तक नहीं लगाया हाथ; जानिये क्या थी वजह

शादी से पहले अविनाश कौर ने एक दिन बातों ही बातों में पासवान से कहा 'शादी से पहले क्या आप पान और सिगरेट नहीं छोड़ सकते हैं?' पासवान ने जवाब दिया क्यों नहीं, अभी से छोड़ देता हूं।

पत्नी रीना और बेटे चिराग के साथ रामविलास पासवान (फाइल फोटो) सोर्स- चिराग पासवान इंस्टा हैंडल।

साल 1977 में जब रामविलास पासवान पहली बार बिहार के हाजीपुर से रिकॉर्ड वोट से लोकसभा का चुनाव जीतकर दिल्ली पहुंचे तो उनकी छवि फायर ब्रांड नेता की बन गई थी। सियासी गलियारों से लेकर ब्यूरोक्रेसी तक में उनकी एक अलग पहचान थी। तमाम अफसर भी उनके मुरीद हो गए थे। इन अफसरों में से एक वाणिज्य मंत्रालय में डिप्टी डायरेक्टर के पद पर कार्यरत गुरबचन सिंह भी थे।

पासवान के मुरीद हो गए अफसर: पासवान के भाषणों से प्रभावित गुरबचन सिंह एक एक दिन अपने और साथियों के साथ उनसे मिलने जा पहुंचे। यह सिलसिला आगे बढ़ा और नियमित भेंट मुलाकात होने लगी। इसी दौरान एक दिन पासवान ने गुरबचन सिंह को सपरिवार अपने घर आमंत्रित किया।

सिंह के परिवार में उनकी पत्नी के अलावा एक बेटा अजीत सिंह और बेटी अविनाश कौर थीं। अविनाश उस वक्त ग्रेजुएशन कर रही थीं। इस मुलाकात के कुछ दिनों बाद गुरबचन सिंह ने पासवान को अपने घर बुलाया। जब लोगों को पता लगा कि पासवान आए हैं तो उनसे मिलने वालों की भीड़ लग गई। गुरबचन सिंह के तमाम पड़ोसी जुट गए। घंटों बातचीत का सिलसिला चलता रहा।

यूं करीब आए थे पासवान और अविनाश कौर: यही वक्त था जब रामविलास पासवान और अविनाश कौर एक दूसरे के करीब आए। हालांकि रामविलास पासवान जब साथ 8 साल के थे तभी उनकी राजकुमारी देवी से शादी हो गई थी। बाद में पासवान को महसूस हुआ कि दोनों के बीच पसंद नापसंद से लेकर बौद्धिक स्तर तक एक बड़ी खाई है और यह रिश्ता बहुत लंबा नहीं चल पाया। अविनाश कौर से मुलाकात के बाद पासवान ने अपनी पहली शादी के बारे में सब कुछ साफ-साफ बता दिया।

पेंगुइन बुक्स से हाल ही में प्रकाशित पासवान की जीवनी “रामविलास पासवान: संकल्प, साहस और संघर्ष” में लेखक प्रदीप श्रीवास्तव ने उनकी निजी जिंदगी और शादी से जुड़े तमाम किस्सों को दिलचस्प अंदाज में प्रस्तुत किया है।

क्या पान-सिगरेट नहीं छोड़ सकते?’ पासवान जब पहली बार दिल्ली आए थे तो उन्हें शराब छोड़ कर तमाम चीजों की लत थी, मसलन- सिगरेट, पान आदि। प्रदीप श्रीवास्तव लिखते हैं कि शादी से पहले अविनाश कौर ने एक दिन बातों ही बातों में पासवान से कहा ‘शादी से पहले क्या आप पान और सिगरेट नहीं छोड़ सकते हैं?’ पासवान ने जवाब दिया क्यों नहीं, अभी से छोड़ देता हूं…इसके बाद रामविलास पासवान ने पान, सिगरेट और चाय छोड़ दी और आखरी दम तक इसे हाथ नहीं लगाया।

पासवान से शादी के बाद बदल लिया नाम: आपको बता दें कि बाद में रामविलास पासवान ने अविनाश कौर से शादी कर ली। कौर ने अपना नाम बदल कर रीना पासवान रख लिया। हालांकि अविनाश कौर से रीना नाम रखने वजह साफ नहीं है। बकौल प्रदीप श्रीवास्तव, पासवान पत्नी रीना को प्यार से ‘बीके’ कहकर बुलाया करते थे।

Next Stories
1 जब एक्टिंग छोड़ने पर मजबूर हो गए थे तारक मेहता के जेठालाल, दिलीप जोशी ने खुद बताई थी संघर्ष की कहानी
2 डिलीवरी के बाद काफी बढ़ गया था ऐश्वर्या राय बच्चन का वजन, यह वर्कआउट रूटीन और डाइट फॉलो कर हुई थीं फिट
3 गर्मियों में घमैरियों की चुभन और जलन से छुटकारा दिलाने में कारगर हैं ये घरेलू उपाय, जानिये
ये पढ़ा क्या?
X