ताज़ा खबर
 

सीखना है तो चिराग से सीखिये- जब प्रधानमंत्री मोदी ने BJP सांसदों को LJP नेता से सीख लेने की दी थी नसीहत

पूर्व केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान के निधन के बाद लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) की सारी जिम्मेदारी उनके पुत्र चिराग पासवान के कंधों पर आ गई है।

chirag paswan, narendra modi, bjp, ljpप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीजेपी के सांसदों को चिराग पासवान से सीख लेने की नसीहत दी थी।

Narendra Modi Praised Chirag Paswan : पूर्व केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान के निधन के बाद लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) की सारी जिम्मेदारी उनके पुत्र चिराग पासवान के कंधों पर आ गई है। अभिनेता से नेता बने चिराग पासवान 2014 में जमुई लोकसभा सीट से चुनाव जीतकर पहली बार संसद पहुंचे थे। अपने बोलने की शैली और राजनीतिक सक्रियता के कारण राम विलास पासवान के पुत्र चिराग पासवान खूब तारीफें बटोर चुके हैं।

एक बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी भारतीय जनता पार्टी के सांसदों को चिराग पासवान से सीख लेने की नसीहत दी थी। दरअसल, 2019 में दोबारा लोकसभा चुनाव जीतकर आने के बाद भारतीय जनता पार्टी की संसदीय दल की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चिराग पासवान की जमकर तारीफ की थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था आपको चिराग पासवान से सीखना चाहिए। चिराग कैसे नए बिल पर अपने भाषण की तैयारी करके संसद आते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगे कहा चिराग पासवान संसद की प्रक्रिया में मौजूद रहते हैं और महत्वपूर्ण चर्चाओं में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं।

बता दें कि राजनीति में आने से पहले चिराग पासवान ने बॉलीवुड में भी हाथ आजमाया था। 2011 में चिराग पासवान और कंगना रनौत की फिल्म ‘मिले ना मिले’ बॉक्स ऑफिस पर रिलीज हुई पर यह फिल्म कोई खास कमाल नहीं कर सकी।

इसके बाद 2012 में चिराग पासवान ने राजनीति का रुख कर लिया। बॉलीवुड से लौटकर चिराग पासवान अपने पिता राम विलास पासवान के साथ लोक जनशक्ति पार्टी का कामकाज देखने लगे। 2013 में चिराग पासवान लोक जनशक्ति पार्टी की संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष बन गए।

2014 में लोक जनशक्ति पार्टी के भाजपा के साथ गठबंधन में चिराग पासवान का अहम रोल माना जाता है। 2014 में चिराग पासवान आरजेडी के सुधांशु शेखर भास्कर को 85 हजार से अधिक वोटों से चुनाव हराकर संसद पहुंचे।

2019 लोकसभा चुनाव में चिराग पासवान की जीत का आंकड़ा बढ़ गया। 2019 में चिराग पासवान भूदेव चौधरी को 2.41 लाख वोटों से चुनाव हराकर संसद पहुंचे। नवंबर 2019 में लोक जनशक्ति पार्टी की जिम्मेदारी चिराग पासवान पर आ गई। 5 नवंबर 2019 को लोक जनशक्ति पार्टी की कार्यसमिति की बैठक में चिराग पासवान को राष्ट्रीय अध्यक्ष बना दिया गया।

हाल ही में चिराग पासवान की एलजेपी ने एनडीए से अलग होते हुए नीतीश कुमार की जेडीयू के सामने सभी सीटों पर उम्मीदवार उतारने का फैसला किया है। ऐसे में विधानसभा चुनाव एलजेपी और चिराग के भविष्य की राजनीति के लिए बहुत अहम हैं।

Next Stories
1 हाथी पर बैठ योग कर रहे थे बाबा रामदेव, बैलेंस बिगड़ा और गिर पड़े नीचे; वायरल हो रहा VIDEO
2 40 की उम्र के बाद कैसे रखें स्किन का ख्याल, एक्सपर्ट्स से जानिये टिप्स
3 घर के किसी कोने में छिपकली देख उड़ जाती हैं नींद तो इन उपायों से पा सकते हैं छुटकारा
यह पढ़ा क्या?
X