यूपी चुनाव आप राम भरोसे लड़ोगे या काम भरोसे? अंजना ओम कश्यप के सवाल पर ऐसा था योगी आदित्यनाथ का जवाब

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से एक इंटरव्यू के दौरान चुनाव को लेकर सवाल पूछा गया था। उन्होंने इसके जवाब में कुछ ऐसा कहा था।

Yogi Adityanath, BJP, UP Election
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Photo- Indian Express)

उत्तर प्रदेश में होने जा रहे विधानसभा चुनाव को देखते हुए सभी राजनीतिक दलों ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। कांग्रेस के लिए प्रियंका गांधी वाड्रा चुनाव मैदान में हैं। जबकि बीजेपी की तरफ से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ चुनाव प्रचार की कमान संभाल रहे हैं। इसी क्रम में गृह मंत्री अमित शाह भी उत्तर प्रदेश पहुंचेंगे। गृह मंत्री के पहुंचने से पहले आज यानी 11 नवंबर को सीएम योगी आजमगढ़ पहुंचकर तैयारियों का जायजा लेंगे। इस बीच ‘आजतक’ के साथ सीएम योगी का एक पुराना इंटरव्यू वायरल हो रहा है।

इंटरव्यू के दौरान एंकर अंजना ओम कश्यप सवाल पूछती हैं, ‘उत्तर प्रदेश का चुनाव इस बार राम भरोसे होगा या काम भरोसे? अगर काम भरोसे है तो सवाल लखीमपुर-खीरी में हुई घटना पर भी पूछा जाएगा। विपक्ष लगातार इस मुद्दे को उठा रहा है। प्रियंका गांधी को आप गिरफ्तार करवा देते हैं। यानी प्रियंका जी को आप बनाकर ही मानेंगे आप?’ योगी आदित्यनाथ इसका जवाब देती हैं, ‘हमने किसी को न गिरफ्तार किया है और न कोई इस लायक है कि किसी को गिरफ्तार किया जाए। लखीमपुरी की घटना दुर्भाग्यपूर्ण थी।’

सीएम योगी आगे कहते हैं, ‘लखीमपुर में हुई घटना के बाद कानून ने अपना काम किया और अभी भी कर रहा है। हमने पहले दिन कहा था कि कानून के साथ खिलवाड़ करने की छूट किसी को नहीं देंगे। हमारा संकल्प था तो हम लोगों इसी पर काम भी किया है।’ दूसरी तरफ, राम कथा पार्क में उत्तरप्रदेश सरकार की ओर से आयोजित भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम में भी योगी आदित्यनाथ पहुंचे थे। यहीं उन्होंने कहा था कि बीजेपी सरकार जनता का पैसा कब्रिस्तान के लिए जमीन खरीदने पर नहीं, बल्कि मंदिरों के निर्माण और सौंदर्यीकरण पर खर्च कर रही है।

रिवॉल्वर और राइफल क्यों रखते हैं? एक अन्य इंटरव्यू में वरिष्ठ पत्रकार रजत शर्मा ने सीएम योगी से सवाल पूछा था, ‘अगर आपको कोई अपराध नहीं करना है तो आपने रिवॉल्वर और राइफल क्यों रखी हुई हैं?’ इसके जवाब में उन्होंने जवाब दिया था, ‘एक संन्यासी के रूप में हमें दोनों प्रकार की शिक्षा दी जाती है। हमें शास्त्र का ज्ञान दिया जाता है तो शस्त्र चलाना भी सिखाया जाता है। क्योंकि एक योगा या एक संन्यासी को अपनी रक्षा पहले करनी आनी चाहिए। तभी तो वो अपने समाज की रक्षा कर पाएगा।’

बता दें, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने हाल ही में एक टीवी इंटरव्यू के दौरान साफ कर दिया था कि वह अगले साल विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। जबकि दूसरी तरफ सियासी गलियारों में चर्चा है योगी आदित्यनाथ अयोध्या से चुनाव लड़ सकते हैं।

पढें जीवन-शैली समाचार (Lifestyle News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट