ताज़ा खबर
 

संडे हो या मंडे, रोज नहीं अंडे: सप्ताह में तीन से ज्यादा खाने पर दिल की बीमारी का खतरा

रिसर्च में पाया गया कि जो लोग प्रतिदिन 300 मिलीग्राम कोलेस्ट्रोल का अधिक सेवन करते हैं उनमें ह्रदय संबंधी रोग होने के 3.2 फीसदी ज्यादा चांस होता है।

Utility news, Health news, Eggs, heart disease, cardiovascular disease, heart failure, Death, cholesterol, fat, animal protein, protein, अंडा, स्वास्थ्य, कोलेस्ट्रोल, दिल की बीमारीएक रिसर्च में दावा किया गया है कि हफ्ते में तीन से ज्यादा अंडे खाने पर दिल की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। (फाइल फोटो)

लंबे समय से यह बहस का विषय बना हुआ है कि अंडे खाना शरीर के लिए लाभदायक है या हानिकारक। इस बात को लेकर किए गए एक नए रिसर्च में यह बात सामने आया है कि जो लोग सप्ताह में तीन या चार अंडे खाते हैं या फिर प्रतिदिन 300 मिलीग्राम कोलेस्ट्रोल का सेवन करते हैँ, उनमें दिल की बीमारी और जल्दी मौत का खतरा कम अंडा खाने वालों से ज्यादा होता है।

सीएनएन के मुताबिक शिकागो में नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी फिनबर्ग स्कूल ऑफ मेडिसिन में प्रिवेंटिव मेडिसीन डिपार्टमेंट में प्रमुख अध्ययन लेखक और एक पोस्टडॉक्टरल फेलो विक्टर झोंग लिखते हैं, “अंडे, विशेष रूप से यॉल्क (पीला हिस्सा), कोलेस्ट्रॉल का एक प्रमुख स्रोत हैं।

मेडिकल जर्नल JAMA में शुक्रवार को प्रकाशित एक अध्ययन में, उन्होंने और उनके सहयोगियों ने लिखा कि एक बड़े अंडे में लगभग 186 मिलीग्राम कोलेस्ट्रॉल होता है। शोधकर्ताओं ने छह अमेरिकी स्टडी ग्रुप्स के आंकड़ों की जांच की, जिनमें 29,000 से अधिक लोग शामिल थे। इनकी उम्र औसत 17 साल थी। इस दौरान कुल 5,400 हृदय संबंधी घटनाएं हुईं। इसमें 1,302 घातक और गैर-घातक स्ट्रोक, 1,897 ह्दय से जुड़ी घातक और गैर-घातक घटनाएं तथा अन्य हृदय रोग की वजह से 113 मौतें शामिल हैं। वहीं, 6,132 लोगों की मौत अन्य कारणों से हुई थी।

रिसर्च में पाया गया कि जो लोग प्रतिदिन 300 मिलीग्राम कोलेस्ट्रोल का अधिक सेवन करते हैं उनमें ह्रदय संबंधी रोग होने के 3.2 फीसदी ज्यादा चांस होता है और 4.4 फीसदी चांस वक्त से पहले मृत्यु का होता है। हालांकि, इस रिसर्च को लेकर भी सवाल खड़े किए जा रहे हैं। सीएनएन से बातचीत में ब्रिटिश हार्ट फाउंडेशन से जुड़ी टायटिशन विक्टोरिया टेलर कहती हैं, “इस तरह के अध्ययन किसी ना किसी से अनुबंध का नतीजा होते हैं। इनका उद्देश्य कारणों और उनके प्रभावओं पर कम होता है। इस संबंध में अभी व्यापक रिसर्च की जरूरत है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Cancer को मात दे युवराज सिंह ने अपनाया था खास डाइट प्लान, इस रूटीन को फॉलो कर वापस पाई फिटनेस
2 Happy World Sleep Day 2019 Quotes, Images: वर्ल्ड स्लीप डे पर इन शानदार मैसेजेस और कोट्स से दें शुभकामनाएं
3 खीरे से मूली तक, होली के रंग छुड़ाने में कारगर हैं ये हर्बल तरीके
ये पढ़ा क्या?
X