scorecardresearch

Blood Sugar: क्या आलू खाने से बढ़ सकता है ब्लड शुगर? जानिये क्या है सच्चाई

शुगर के मरीज़ों को कार्बोहाइड्रेट से भरपूर आलू का सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है, इससे शुगर का स्तर तेजी से बढ़ता है।

आलू हाई ग्लाइसेमिक इंडेक्स में आता है जिसका सेवन शुगर के मरीज़ों को प्रभावित कर सकता है। फोटो-freepik

आलू खाना हम सभी को पसंद है। आलू हमारे खाने का अहम हिस्सा है, जिसके बिना हमारी थाली का स्वाद अधूरा रहता है। फाइबर, पोटेशियम, विटामिन सी और विटामिन बी 6 जैसे पोषण तत्वों से भरपूर आलू ब्लड में कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने में मदद करता है। इसका सेवन करने से दिल की सेहत दुरुस्त रहती है।

इतने गुणों से भरपूर आलू का सेवन शुगर के मरीज़ कर सकते हैं या नहीं यह सवाल अक्सर जहन में आता है। शुगर के मरीज़ अपनी डाइट बेहद सोच समझ कर लेते हैं, वो अपनी डाइट में ऐसी चीज़ों का सेवन करते हैं जिनसे उनके ब्लड में शुगर का स्तर कंट्रोल रहे।

आलू में मौजूद कार्बोहाइड्रेट शुगर को बढ़ा सकता है: आलू हाई ग्लाइसेमिक इंडेक्स में आता है जिसका सेवन शुगर के मरीज़ों को प्रभावित कर सकता है। आलू में कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा अधिक होती है इसलिए अक्सर डायबिटीज के मरीज आलू खाने से परहेज करते हैं। वेबएमडी डॉटकॉम के मुताबिक आलू का सेवन करने से डायबिटीज के मरीज़ों के शरीर में कार्बोहाइड्रेट सिंपल शुगर के रूप में ब्लड में मिल जाता है और सर्कुलेट करते रहता है जिससे ज्यादा समय तक ब्लड शुगर बढ़ जाता है।

अगर ब्लड में शुगर के स्तर के बढ़ने का ध्यान नहीं रखता जाए तो मरीज़ को हार्ट फेलियर, स्ट्रोक, किडनी और आंखों की रोशनी जाने का खतरा हो सकता है। इसीलिए शुगर के मरीज़ों को कार्बोहाइड्रेट से भरपूर आलू का सेवन नहीं करने की सलाह दी जाती है। आलू का सेवन करने से ब्लड में शुगर का स्तर तेजी से बढ़ता है।

आलू का हाई ग्लाइसेमिक इंडेक्ट बढ़ाता है शुगर: ग्लाइसेमिक इंडेक्स आपको बताता है कि कुछ फूड्स का सेवन करने से आपके ब्लड में शुगर का स्तर तेजी से बढ़ सकता है। ग्लाइसेमिक लोड आपको यह जानने में मदद करता है कि यह कितना अधिक होगा। आलू का ग्लाइसेमिक इंडेक्स बाकी फूड्स की तुलना में हाई होता है। डायटीशियन शुगर के मरीज़ों को डाइट में ऐसे फूड्स शामिल करने को कहते हैं जिनका ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम हो।

शुगर के मरीज़ अगर आलू का सेवन करना चाहते हैं तो वो आलू को खाने का तरीका बदलें। आलू को पकाकर ठंडा करने के बाद आलू का ग्लाइसेमिक इंडेक्ट 25 से 28 फीसदी तक कम हो सकता है। आलू में नींबू का रस या सिरका मिला देने से भी ये कम हो सकता है।

कितना ग्लासेमिक इंडेक्ट शुगर के मरीज़ों के लिए ज्यादा होता है:
High glycemic index- 20 और उससे अधिक होता है।
Medium glycemic index- 11-19 होता है।
Low glycemic index- 10 और उससे कम होता है।

पके हुए रसेट आलू का GL 33 होता है, जबकि सफेद उबले हुए आलू का GL 25 होता है जो शुगर के मरीज़ों की शुगर को बढ़ा सकता है।

पढें जीवन-शैली (Lifestyle News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट