हरियाणा उपचुनाव: बरोदा सीट से उम्मीदवार पहलवान योगेश्वर दत्त हैं करोड़पति, कई लग्जरी गाड़ियों के भी हैं मालिक, जानें कैसा है लाइफस्टाइल

सत्तारूढ़ बीजेपी-जेजेपी के साझा उम्मीदवार ओलंपिक पदक विजेता के लिए आसान नहीं है सियासी मुकाबला, पिछले चुनाव में कांग्रेस के श्रीकृष्ण हुड्डा ने उनको 4,840 वोटों से दी थी शिकस्त।

2012 के लंदन ओलंपिक खेलों में कांस्य पदक और 2014 के कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहलवान योगेश्वर दत्त एक बार फिर सियासी मैदान में दमखम दिखाएंगे। (फाइल फोटो)

बिहार में विधानसभा चुनाव के साथ ही देश के कई राज्यों में उपचुनाव भी हो रहे हैं। हरियाणा के सोनीपत की बरोदा सीट के उपचुनाव के लिए 3 नवंबर को वोट डाले जाएंगे। इस बार इस सीट पर मुकाबला कड़ा होने की उम्मीद है। कांग्रेस के श्रीकृष्ण हुड्डा के निधन के बाद खाली हुई इस सीट से सत्तारूढ़ बीजेपी और जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के गठबंधन ने कुश्ती में ओलंपिक पदक विजेता पहलवान योगेश्वर दत्त को अपना उम्मीदवार बनाया है। उनका मुकाबला कांग्रेस के इंदूराज नरवाल (भालू) और इंडियन नेशनल लोकदल के जोगिंद्र सिंह मलिक से है। बरोदा सीट से पहलवान योगेश्वर दत्त की राह आसान नहीं मानी जा रही है।

कुश्ती में कई पदक जीतकर देश का नाम रोशन करने वाले भाजपा प्रत्याशी योगेश्वर दत्त करोड़पति होने के साथ-साथ महंगी लग्जरी गाड़ियों के भी शौकीन हैं। चुनावी हलफनामे के मुताबिक योगेश्वर दत्त के पास 5.71 करोड़ रुपए की चल-अचल संपत्ति है। इसके अलावा उनकी पत्नी शीतल के पास 1.14 करोड़ रुपए की चल-अचल संपत्ति है। योगेश्वर की संपत्ति में बड़ी हिस्सेदारी उनकी खेती की जमीन की है। गोहाना (सोनीपत) के भैंसवाल कलां में योगेश्वर के नाम पर कृषि भूमि है। इसके अलावा उन पर 5 लाख रुपए से ज्यादा की देनदारी भी है।

पहलवान योगेश्वर दत्त ने रोहतक की महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी से बीए की पढ़ाई की है। वे लग्जरी गाड़ियों के बेहद शौकीन हैं। उनके पास फोर्ड एंडेवर, फॉर्च्यूनर, ऑडी जैसी कई लग्जरी गाड़ियां हैं। 2012 लंदन ओलंपिक में कुश्ती में कांस्य पदक और 2014 कॉमनवेल्थ गेम में स्वर्ण पदक जीतने वाले योगेश्वर दत्त को 2012 में राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से भी नवाजा गया था।

योगेश्वर इससे पहले भी चुनाव लड़ चुके हैं। पिछले साल हरियाणा विधानसभा चुनाव में योगेश्वर दत्त बरोदा सीट से ही बीजेपीी के टिकट पर चुनाव लड़े थे। परन्तु उन्हें कांग्रेस के श्रीकृष्ण हुड्डा से शिकस्त खानी पड़ी थी। श्रीकृष्ण हुड्डा ने उनको 4,840 वोटों से शिकस्त दी थी।
इन दिनों केंद्र सरकार के तीन कृषि बिलों का हरियाणा में किसानों ने जोरदार विरोध किया है। इसको लेकर खूब प्रदर्शन भी हुए हैं। नए कानूनों को लेकर राज्य की सियासत भी गरमाई हुई है। ऐसे में सोनीपत की बरोदा सीट के उपचुनाव को जीतना सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी के लिए आसान नहीं होगा।

Next Stories
1 सर्दी के मौसम में ड्राय स्किन की समस्या है आम, एक्ट्रेस रवीना टंडन से जानिये बचाव के उपाय
2 BMW कार और रेसिंग बाइक के मालिक हैं तेजप्रताप यादव, जानिये लालू प्रसाद यादव के दोनों बेटे कितनी संपत्ति के हैं मालिक
3 केवल इम्युनिटी ही नहीं, बालों के लिए भी फायदेमंद है गिलोय, हेयर फॉल कम करने में माना जाता है असरदार
यह पढ़ा क्या?
X