तुलसी के बीज हैं एसिडिटी में कारगर, एक्सपर्ट के बताए इन हेल्थ टिप्स से होगा लाभ

आयुर्वेदाचार्य और न्यूट्रिशनिस्ट जूही कपूर ने कुछ हेल्थ टिप्स सुझाए हैं जिनको अपने जीवन में शामिल कर हम एसिडिटी की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

acidity, acidity reason, how to treat acidity
जीवनशैली में सुधार कर हम एसिडिटी की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं (photo-Getty/Indian Express)

हमारे खाने की आदतें, अधिक खाना, नींद में अनियमितता- इन सभी वजहों से हमें पेट संबंधी बीमारियां हो सकती हैं जैसे ऐंठन और एसिडिटी। अपनी जीवनशैली और खानपान की आदतों में मामूली सुधार से ही हम एसिडिटी की समस्या से निजात पा सकते हैं। एसिडिटी की समस्या अगर ज्यादा गंभीर नहीं है तो इसे बिना दवाइयों के भी ठीक किया जा सकता है।

आयुर्वेदाचार्य और न्यूट्रिशनिस्ट जूही कपूर ने ऐसे ही कुछ हेल्थ टिप्स सुझाए हैं जिनको अपने जीवन में शामिल कर हम एसिडिटी की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। वो कहतीं हैं, ‘अधिकतर मामलों में एसिडिटी की वजह हमारी ख़राब लाइफस्टाइल होती है। अगर हम लेट से सोएंगे, वक़्त बे वक़्त खाना खाएंगे, ज्यादा खाएंगे तो जरुर ही हम एसिडिटी की समस्या का शिकार हो जाएंगे।’

इन तीन फूड्स की मदद से हम कम कर सकते हैं एसिडिटी की समस्या-

केला-  हर रोज सुबह केला खाएं। सुबह बिना कुछ खाए केला खाने से एसिडिटी नहीं होता।

तुलसी के बीज- रात को एक गिलास पानी में एक चम्मच तुलसी के बीज भिगो दें। सुबह उठकर उस पानी को पी लें और भीगे हुए बीज भी खा जाएं। इससे एसिडिटी में बड़ी राहत मिलेगी। डॉक्टर कपूर बताती हैं कि अगर आप पीरियड्स में हैं और या किसी को सर्दी जुकाम है तो इसके सेवन से बचना चाहिए।

नारियल पानी- डॉक्टर कपूर बताती हैं कि नारियल पानी को सुबह के 11 बजे पीने से एसिडिटी की समस्या बिलकुल गायब हो जाती है।

इन हेल्थ टिप्स की मदद से दूर रहेंगे एसिडिटी की समस्या से-

एक ही बार में ज्यादा खाना खाने से बचें बल्कि इसकी जगह आप छोटे-छोटे अंतराल पर थोड़ा-थोड़ा करके खाएं।

कई बार लोग हैवी प्रोटीन डाइट पर होते हैं जिस कारण भी एसिडिटी की समस्या हो सकती है। इसलिए अपनी डाइट से प्रोटीन की मात्रा को कम करें, इससे एसिडिटी की समस्या से राहत मिलेगी।

अगर आप नॉन वेज खाते हैं तो हफ्ते में केवल 3 बार ही  इसका सेवन करें। अगर इससे अधिक बार आप मांस आदि का सेवन करते हैं तो ये एसिडिटी की समस्या को बढ़ा सकता है।

खाने में अनाज को पर्याप्त मात्रा में शामिल करें और हर मील के बाद करीब 100 कदम चलना न भूलें।

एसिडिटी की समस्या से राहत पाने के लिए वज्रासन की स्थिति में बैठना काफी फायदेमंद होता है। डॉक्टर कपूर बतातीं हैं कि इससे एसिडिटी से तुरंत राहत मिलती है।

पढें जीवन-शैली समाचार (Lifestyle News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट