ताज़ा खबर
 

परामर्श: काम और व्यक्तिगत जीवन में इन चार उपायों से बनेगा संतुलन

काम और जीवन के संतुलन के बारे में बात करते हुए सबसे पहले दिमाग में एक ऐसे व्यक्ति के जीवन का चित्र बनता है जो सुबह समय से उठकर जिम जाता है, पौष्टिक नाश्ता खाता है, अपने काम पर जाता है, शाम को समय से घर आता है, बच्चों के साथ खेलता है और रात को किताब पढ़कर सो जाता है।

Author Published on: October 25, 2018 2:40 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर।

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों को पल भर की भी फुर्सत नहीं है। वे अपने काम पर अधिक ध्यान देते हैं तो व्यक्तिगत जीवन पटरी से उतरने लगता है और यदि वे अपने परिवार को ज्यादा समय देने लगते हैं तो उनका काम या नौकरी प्रभावित होने लगती है। ऐसे में हर शख्स अपने काम और व्यक्तिगत जीवन में संतुलन बनाना चाहता है लेकिन किन्हीं वजहों से वह इसमें सफल नहीं हो पाता है। यहां हम चार उपाय बता रहे हैं जिससे इस संतुलन को बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है।

कोई संतुलन ‘संपूर्ण’ नहीं होता
काम और जीवन के संतुलन के बारे में बात करते हुए सबसे पहले दिमाग में एक ऐसे व्यक्ति के जीवन का चित्र बनता है जो सुबह समय से उठकर जिम जाता है, पौष्टिक नाश्ता खाता है, अपने काम पर जाता है, शाम को समय से घर आता है, बच्चों के साथ खेलता है और रात को किताब पढ़कर सो जाता है। लेकिन यह वास्तविक जीवन से कोसों दूर की बात है क्योंकि कोई संतुलन ‘संपूर्ण’ नहीं होता है। इसलिए काम और जीवन में संतुलन बनाते समय अगर आप किसी दिन सिर्फ काम पर और किसी अन्य दिन अपने परिवार पर ध्यान देते हैं तो भी यह सही होगा।

स्वास्थ्य को दें प्राथमिकता
सबकी पहली प्राथमिकता स्वास्थ्य होना चाहिए। अगर आपका स्वास्थ्य सही नहीं है तो काम और जीवन में संतुलन की बात ही सोचना सही नहीं है। क्योंकि इसके बिना न तो आप एक अच्छे कर्मचारी बन सकते हैं और न ही परिवार के एक बेहतर सदस्य। इसलिए सबसे पहले अपने स्वास्थ्य को सही कीजिए। अगर आपको तनाव है तो मनोचिकित्सक की मदद लेने से भी संकोच मत करिए। जो लोग स्वस्थ हैं वे हर रोज थोड़ा समय व्यायाम को अवश्य दें।

अपने काम से प्यार करें
अगर आप अपने कार्य से नफरत करते हैं तो काम और जीवन के संतुलन की बात की बेमानी है। इसलिए सबसे पहले अपने काम से प्यार करना सीखें। ऐसा करने पर आपको हर सुबह खुद को बिस्तर से जबर्दस्ती खींचना नहीं पड़ेगा। वहीं, अगर आप ऐसा काम करते हैं जिसको करने में आपको मजा आता है तो फिर काम और जीवन में संतुलन बनाने में आपको अधिक मेहनत नहीं करनी होगी।

आभासी दुनिया से दूरी जरूरी
काम और व्यक्तिगत जीवन में संतुलन बनाने में आज सबसे बड़ी समस्या आभासी दुनिया है। हम अपने पूरे दिन का एक बड़ा हिस्सा इंटरनेट पर गुजारते हैं जिसका उपयोग हम इस संतुलन को बनाने में इस्तेमाल कर सकते हैं। इसलिए जरूरी है कि हम आभासी या इंटरनेट की दुनिया से कुछ समय के लिए दूरी बनाएं। इसी शुरुआत दिन में कुछ मिनटों से की जा सकती है जिसे बाद में बढ़ाकर हफ्ते में एक दिन किया जा सकता है। बचे हुए समय को काम और जीवन के संतुलन बनाने में इस्तेमाल किया जा सकता है।

युवा शक्ति डेस्क

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 जिम में बहाते हैं पसीना तो जान लें सही डाइट और उसे लेने का सही समय
2 कैटरीना कैफ से सीख सकते हैं जीने की ये सात कलाएं
3 बदलते मौसम में लाभकारी है अजवाइन, सर्दी-जुखाम को करता है दूर