avoid these habits and then go ahead - परामर्श: इन आदतों से बचेंगे तो आगे बढ़ेंगे - Jansatta
ताज़ा खबर
 

परामर्श: इन आदतों से बचेंगे तो आगे बढ़ेंगे

अपने प्रतिदिन के कार्यों के दौरान हम आदतन कुछ ऐसे काम करते रहते हैं, जिन्हें करते हुए हम न सिर्फ अपने कार्य को प्रभावित करते हैं, बल्कि खुद भी तनाव में रहते हैं।

Author August 2, 2018 5:58 AM
हम अपनी ऐसी कुछ आदतों को छोड़ दें या ऐसे काम न करें तो इसका परिणाम स्वत: ही हमारे काम की उत्पादकता पर नजर आएगा।

अपने प्रतिदिन के कार्यों के दौरान हम आदतन कुछ ऐसे काम करते रहते हैं, जिन्हें करते हुए हम न सिर्फ अपने कार्य को प्रभावित करते हैं, बल्कि खुद भी तनाव में रहते हैं। यदि हम अपनी ऐसी कुछ आदतों को छोड़ दें या ऐसे काम न करें तो इसका परिणाम स्वत: ही हमारे काम की उत्पादकता पर नजर आएगा। ऐसा करने से निश्चय ही हम पहले से ज्यादा खुश भी रह सकेंगे।

1. बार-बार मोबाइल चेक करना

किसी कार्य को करते समय या किसी से बातें करते समय बार-बार अपने मोबाइल फोन को न देखें। साथ ही उस दौरान किसी के संदेश उत्तर देने में भी न लगें। इससे कार्यक्षमता पर विपरीत असर पड़ता है। साथ ही अगर किसी से बातचीत के दौरान आप ऐसा कर रहे हैं तो इससे आपकी बातचीत पर भी नकरात्मक प्रभाव पड़ेगा।

2. काम के बीच ईमेल देखना

मोबाइल फोन या कंप्यूटर सिस्टम पर हर संदेश, ट्वीट या ईमेल को तुरंत देखने जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए। जिस कार्य को कर रहे हैं, उस पर पूरा ध्यान केंद्रित करें और उस कार्य के समाप्त होन के बाद भी उन्हें चेक करें। बीच में ईमेल आदि चेक करने से कार्य करने की तारतम्यता टूटती है।

3. पुराने विचारों में डूबे रहना

गलतियां मूल्यवान होती हैं। उनसे सीख लें और फिर पीछे छोड़ दें। जब कुछ गलत घटित हो तो उससे कुछ नया सीखने का अवसर मान आगे बढ़ जाएं। हमारा पुराना समय हमारे लिए एक अच्छे प्रशिक्षक जैसा काम करता है। इससे हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है।

4. अच्छे समय का इंतजार करना

किसी काम को करने के लिए तब तक इंतजार करना, जब तक आपको यह न लगे कि आप कामयाब हो जाएंगे। यह सोच गलत है क्योंकि आप किसी भी काम को करते समय यह नहीं कह सकते कि आप उसमें कामयाब हो ही जाएंगे।

किसी की बुराई करना

ऐसा करने से कहीं अच्छा है कि आप अपने समय को कुछ रचनात्मक या काम की बातों में लगाएं। इससे न केवल आपके काम में प्रगति होगी, बल्कि आपको दूसरों से सम्मान भी मिलेगा। दूसरों की बुराई करने वाले को कोई अच्छा नहीं कहता है।

‘न’ के स्थान पर ‘हां’

दोस्त, ग्राहक या सहकर्मी को कई बार किसी काम के लिए न करना कठिन होता है, लेकिन इसमें कोई बुराई नहीं। ज्यादातर लोग इसे समझेंगे, और जो नहीं समझेंगे उनके बारे में ज्यादा सोचने की जरूरत नहीं है। ऐसी स्थिति में यदि आप न कहेंगे तो आपको थोड़ी देर के लिए बुरा लगेगा, लेकिन यदि आप हां कहेंगे तो आपको ज्यादा समय के लिए बुरा लग सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App