ताज़ा खबर
 

बरसात के मौसम में आपको भी हो रही है Hairfall की परेशानी? जानिये कारण और बचाव के तरीके

Hair Care Tips: ऑर्गैनिक नारियल तेल और गुड़हल के तेल से मालिश करना भी फायदेमंद साबित हो सकता है, बाल धोने के लिए पैरेबन फ्री शैम्पू का इस्तेमाल करें

Hair fall,, Hair problems, Hairfall in monsoon, Hair fall remedies, dandruff problemमॉनसून में हवा में नमी बढ़ने के कारण कई तरह के बैक्टीरियल और फंगल संक्रमण भी बढ़ जाते हैं, ये बालों को कमजोर करते हैं

Hairfall Remedies: आज के समय में किशोर हों या व्यस्क, हर कोई बाल झड़ने की प्रॉब्लम से परेशान है। हेयर फॉल के अलावा, ऑयली स्कैल्प, बाल की जड़ों में खुजली जैसी परेशानियों से भी लोग जूझते रहते हैं। ज्यादातर लोग अपने बालों में केमिकल युक्त हेयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं जो कि खतरनाक साबित हो सकता है। हर कोई चाहता है कि उसके बाल घने व मजबूत दिखें। लेकिन धूप, प्रदूषण, गलत खान-पान के कारण हेयर फॉल की समस्या इन दिनों आम हो गई है। वहीं, बरसात के मौसम में अधिकतर लोग इस परेशानी से जूझते हैं। मॉनसून में हेयरफॉल की परेशानी के पीछे कई कारण हो सकते हैं। आइए जानते हैं क्यों इस मौसम में बालों को होती है अधिक परेशानी और कैसे पाएं इससे निजात।

क्यों मॉनसून में आम है हेयरफॉल: बरसात के मौसम में बालों का टूटना एक प्रमुख चिंता का कारण है। आयरन, ज़िंक, प्रोटीन और विटामिन जैसे पोषक तत्व जो बालों को मजबूत रखने के लिए जरूरी हैं, उनकी कमी भी हेयरफॉल की आम वजह है। स्ट्रेटनिंग, कलरिंग, स्ट्रीकिंग जैसे हेयर ट्रीटमेंट्स बालों को कमजोर बनाते हैं और उनके जड़ों को भी डैमेज करते हैं। इसके अलावा, मॉनसून में हवा में नमी बढ़ने के कारण कई तरह के बैक्टीरियल और फंगल संक्रमण भी बढ़ जाते हैं। ये बालों को कमजोर करते हैं। वहीं, हेयरफॉल का एक मुख्य कारण स्ट्रेस की अधिकता भी मानी जाती है।

कैसे करें बचाव: इस कोरोना काल में स्ट्रेस का होना लाजिमी है, ऐसे में लोग मेडिटेशन का सहारा लेकर खुद को शांत रख सकते हैं। इसके अलावा, डार्क चॉकलेट, कोकोआ जैसे खाद्य पदार्थ जो आयरन, मैंग्नीज, ज़िंक और मैग्नीशियम जैसे खनिजों के बेहतरीन स्रोत माने जाते हैं उन्हें डाइट में शामिल करें। चिया सीड्स, कद्दू, सफेद तिल, बादाम, फ्लैक्स सीड्स और अखरोट जैसे खाद्य पदार्थों को भी डाइट में शामिल करना चाहिए। ये फूड आइटम्स बालों को सभी जरूरी पोषक तत्व प्रदान करते हैं। वहीं, ऑर्गैनिक नारियल तेल और गुड़हल के तेल से मालिश करना भी फायदेमंद साबित हो सकता है। बाल धोने के लिए पैरेबन फ्री शैम्पू का इस्तेमाल करना चाहिए।

इन हेयर ट्रीटमेंट्स का ले सकते हैं सहारा: एक्सपर्ट्स के मुताबिक अगर मॉनसून में लोगों के बाल हद से ज्यादा टूट रहे हैं तो वो कुछ उपचारों का भी सहारा ले सकते हैं। हेयर मेसोथेरेपी में बालों की जड़ के बगल में विटामिन को सीधे इंजेक्ट किया जाता है। इससे स्कैल्प में ब्लड फ्लो बेहतर तरीके से होता है जिससे हेयरफॉल कम होते हैं। इसके अलावा, पीआरपी ट्रीटमेंट भी बालों को टूटने से बचाने में मददगार है। ये उपचार नये बालों को उगाने में भी कारगर है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Glowing Skin के लिए सुबह-शाम क्या खाना है जरूरी, जानिये कैसा होना चाहिए डाइट प्लान
2 गर्भ में भी हो सकता है कोरोना, दिल्ली में सामने आया एक ऐसा मामला, ऐसे करें बचाव
3 Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah की ‘मिसेज हाथी’ टॉलीवुड में भी कमा चुकी हैं नाम, जानिये अब एक एपिसोड की कितनी है फीस
ये पढ़ा क्या?
X