ताज़ा खबर
 

बिहार के ताकतवर नेता की बेटी से अखिलेश का रिश्ता कराना चाहते थे अमर सिंह, डिंपल से शादी के लिए परिवार को ऐसे मनाया था

अखिलेश यादव अपनी दादी मूर्ति देवी के बेहद ही करीब थे। डिंपल से शादी के फैसले की बात सबसे पहले उन्होंने अपनी दादी को ही बताई थी।

डिंपल यादव यूपी विधान सभा चुनाव के दौरान पिछली बार बढ़चढ़कर जनसभाएं कर रही थीं। ( मुलायम की दूसरी पत्नी साधना गुप्ता चार साल से कर रहीं अखिलेश यादव के वादे का इंतजार, सौतेली मां से 3 महीने का मांगा था समय )

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव आज अपना 48वां जन्मदिन मना रहे हैं। उनका जन्म 1 जुलाई 1973 में सैफई में हुआ था। उनके बचपन का नाम टीपू है। अखिलेश यादव मुलायम सिंह की पहली पत्नी मालती के बेटे हैं। उनका विवाह 24 नवंबर 1999 में डिंपल से बड़े ही धूमधाम से हुआ था। हालांकि अखिलेश और डिंपल को अपनी शादी के लिए बड़े ही पापड़ बेलने पड़े थे।

इस तरह हुई थी अखिलेश यादव और डिंपल की पहली मुलाकात: अखिलेश और डिंपल की पहली मुलाकात साल 1995 में लखनऊ के कैंट इलाके में एक पार्टी के दौरान हुई थी। इस दौरान अखिलेश यादव अपनी इंजीनियरिंग पूरी कर चुके थे तो वहीं 17 साल की डिंपल आर्मी पब्लिक स्कूल में पढ़ रही थीं। पार्टी के दौरान ही अखिलेश की नजर डिंपल पर पहली बार पड़ी थी। इसके बाद दोनों के बीच में नजदीकियां बढ़ने लगीं और मिलने-जुलने का सिलसिला शुरू हुआ।

साल 1996 में अखिलेश यादव मास्टर्स के लिए विदेश चले गए थे। हालांकि, सिडनी में पढ़ाई के दौरान भी अखिलेश डिंपल को नहीं भूल पाए। इस दौरान दोनों एक-दूसरे को पत्र लिखा करते थे। विदेश से वापस लौटने के बाद ‘टीपू’ ने डिंपल से शादी करने का फैसला लिया।

अखिलेश ने परिवार को मनाने के लिए दादी की मदद: अखिलेश यादव अपनी दादी मूर्ति देवी के बेहद ही करीब थे। डिंपल से शादी के फैसले की बात सबसे पहले उन्होंने अपनी दादी को ही बताई थी। हालांकि अखिलेश इस बात को लेकर हैरान थे कि उनकी दादी इतनी जल्दी कैसे मान गईं। डिंपल के बारे में पता चलने के बाद मूर्ति देवी ने कहा था, “तुम किसी भी दूसरी जाति में शादी करो, पर करो जल्दी…”

डिंपल और अखिलेश की शादी के खिलाफ थे मुलायम: जब डिंपल और अखिलेश के रिलेशनशिप की बात पिता मुलायम सिंह यादव को पता चली तो वह दोनों की शादी के खिलाफ थे। क्योंकि डिंपल उत्तराखंड से ताल्लुक रखती थीं और उस समय कुछ एक्टिविस्ट उत्तराखंड को अलग राज्य बनाने की मांग कर रहे थे। ऐसे में मुलायम को डर था कि कहीं हंगामा खड़ा ना हो जाए। हालांकि वह ये भी जानते थे कि अखिलेश बेहद ही जिद्दी स्वभाव के हैं और उन्हें मनाना आसान नहीं है। इसलिए मुलायम ने अपने भाई शिवराज सिंह को जिम्मेदारी सौंपी की वह अखिलेश को मनाएं। लेकिन शिवराज के कहने के बाद भी अखिलेश ने अपना फैसला नहीं बदला।

बिहार के ताकतवर नेता की बेटी से अखिलेश की शादी करवाना चाहते थे अमर सिंह: यह वह दौर था जब मुलायम और अमर सिंह की काफी गहरी दोस्ती थी। उस समय अमर सिंह सपा के महासचिव हुआ करते थे। अखिलेश की पढ़ाई की पूरी जिम्मेदारी अमर सिंह ने ही उठा रखी थी। इसलिए अमर सिंह अखिलेश की शादी बिहार के एक ताकतवर राजनीतिक घराने से संबंध रखने वाले नेता की बेटी से कराना चाहते थे।

इस दौरान यह खबरें भी आईं कि नेता अपनी बेटी को लेकर लखनऊ पहुंच गए हैं। हालांकि अखिलेश ने डिंपल का साथ नहीं छोड़ा और शादी के लिए साफ-साफ इंकार कर दिया।

Next Stories
1 खूबसूरत त्वचा के लिए मां के बताए गए घरेलू उपायों का इस्तेमाल करती हैं सोनाक्षी सिन्हा, जानिये
2 कोरोना से रिकवरी के बाद सूखी और बेजान हो गई है त्वचा, ऐसे रखें स्किन का ख्याल
3 शादी के बाद वकील बनने की तैयारी कर रही थीं नीता अंबानी, इस वजह से हटना पड़ा था पीछे
ये पढ़ा क्या?
X