ताज़ा खबर
 

दुनिया के ‘वैक्सीन किंग’ कहे जाते हैं अदार पूनावाला के पिता, कभी बेचते थे घोड़े; इतनी संपत्ति के हैं मालिक

अदार पूनावाला का परिवार पूना (अब पुणे) के बड़े जमीदारों में से एक था और वे ठीक-ठाक जमीन के मालिक थे। बंटवारे के बाद अदार के पिता साइरस पूनावाला के हिस्से में करीब 40 एकड़ जमीन आई थी...

adar poonawalla, serum instituteदुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन मैन्युफैक्चरर है अदार पूनावाला की कंपनी

भारत में जल्द ही कोरोना वायरस के वैक्सीनेशन प्रोग्राम के शुरू होने की उम्मीद लगाई जा रही है। ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने आपातकालीन उपयोग के लिए सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की ‘कोविश‌िल्ड’ और भारत बायोटेक की ‘कोवैक्सिन’ को मंजूरी दी है। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया भारत के लिए एक्स्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन का निर्माण कर रही है। डीसीजीआई से कोविशिल्ड को मंजूरी मिलने के बाद कंपनी के सीईओ अदार पूनावाला और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया चर्चा में हैं।

अदार के पिता कहे जाते हैं दुनिया के ‘वैक्सीन किंग’ : कोविशील्ड वैक्सीन का निर्माण कर रही अदार पूनावाला की कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन मैन्युफैक्चरर है। ‘द टाइम्स’ के मुताबिक करीब 100 एकड़ में फैली यह कंपनी हर साल पोलियो, टीटनेस, हेपिटाइटिस-बी और डिप्थीरिया जैसी बीमारियों से लड़ने के लिए लगभग 1.5 बिलियन वैक्सीन डोज बनाती है। इसी वजह से अदार पूनावाला के पिता सायरस पूनावाला को ‘दुनिया का वैक्सीन किंग’ भी कहा जाता है और 39 साल के उनके बेटे अदार पूनानावाला को ‘वैक्सीन प्रिंस’।

घोड़े की ब्रीडिंग से वैक्सीन किंग बनने का सफर: दुनिया भर में तमाम बीमारियों की वैक्सीन सप्लाई करने वाले सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की शुरुआत की भी कहानी कम रोचक नहीं है। अदार पूनावाला का परिवार पूना (अब पुणे) के बड़े जमीदारों में से एक था और वे ठीक-ठाक जमीन के मालिक थे। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो उनके दादा 14 भाई-बहन थे और बंटवारे के बाद अदार के पिता साइरस पूनावाला के हिस्से में करीब 40 एकड़ जमीन आई।

इस जमीन पर उन्होंने घोड़े पालने और उसकी ब्रीडिंग का काम शुरू किया। इसी दौरान साइरस मुंबई के एक सरकारी संस्थान को अच्छी नस्ल के घोड़े भी सप्लाई करने लगे। घोड़ों के ब्लड सिरम से टिटनेस और सांप के काटने से बचने की वैक्सीन तैयार होती थी। इसी दौरान साइरस के पिता के दिमाग में आया कि घोड़े सप्लाई करने की जगह क्यों ना हम ही वैक्सीन तैयार करें।

1966 में हुई थी सीरम इंस्टीट्यूट की स्थापना : इस तरह सायरस पूनावाला ने साल 1966 में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की स्थापना की। ये वो दौर था जब भारत में ज्यादातर वैक्सीन विदेश से आयात की जाती थीं। देखते ही देखते सीरम इंस्टीट्यूट एक के बाद एक बीमारियों की वैक्सीन बनाने लगा और कंपनी मुनाफा कमाने लगी। फिलहाल 79 साल के साइरस पूनावाला भारत के छठवें सर्वाधिक पैसे वाले शख्स हैं और द टाइम्स के मुताबिक उनकी कुल संपत्ति करीब 12 बिलियन डॉलर की है।

 

2001 में सीरम इंस्टीट्यूट से जुड़े अदार पूनावाला : 90  के दौर में साइरस ने अपने बेटे अदार को पढ़ने के लिए कैंटबेरी के सेंट एडमंड्स स्कूल में भेजा। स्कूलिंग के बाद अदार ने वेस्टमिंस्टर यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया। फिर साल 2001 में वे भारत लौट आए और सीरम इंस्टीट्यूट की सेल्स टीम के साथ जुड़ गए। इसके बाद अदार पूनावाला ने इंटरनेशनल मार्केट बनाने, वैक्सीन का लागत मूल्य घटाने और प्रोडक्शन बढ़ाने पर ध्यान दिया।

उनकी टैक्टिक्स काम आईं और आज सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया 170 देशों को वैक्सीन बेच रही है और उसका रिवेन्यू 800 मिलियन डॉलर से ज्यादा है। इतना ही नहीं सीरम इंस्टीट्यूट वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) का पार्टनर भी है।

पत्नी नताशा भी कारोबार में देती हैं बखूबी साथ : अदार पूनावाला की पत्नी नताशा पूनावाला भी सीरम इंस्टीट्यूट का कामकाज देखती हैं। नताशा पूनावाला सीरम इंस्टीट्यूट की एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर हैं और अदार पूनावाला के साथ कंपनी का कामकाज देखती हैं। उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से मास्टर्स की डिग्री हासिल की है।

Next Stories
1 कम करना चाहते हैं मोटापा तो डाइट में शामिल करें ये 4 फैट बर्न करने में मददगार फूड्स
2 जब बीजेपी नेता स्मृति ईरानी के सामने पैसे के बदले रख दी गई शादी की शर्त, जानें क्यों की अरेंज मैरेज
3 200 एकड़ में फैला है सीरम इंस्टीट्यूट के CEO अदार पूनावाला का फॉर्म हाउस, हेलीकॉप्टर से जाते हैं ऑफिस; प्राइवेट जेट से लेकर लग्जरी कारों के मालिक
आज का राशिफल
X