ताज़ा खबर
 

युवराज सिंह ने रवि शास्त्री को किया ट्रोल, गलती सुधारकर भारतीय कोच बोले- तुस्सी लीजेंड हो

युवराज ने उस वर्ल्ड कप में 9 मैच में 362 रन बनाए थे। इस दौरान उन्होंने एक शतक और 4 अर्धशतक लगाए थे। युवराज ने गेंदबाजी में कमाल दिखाया था। वे टूर्नामेंट के चौथे सबसे सफल गेंदबाज थे। उन्होंने 15 विकेट अपने नाम किए थे।

युवराज सिंह को वर्ल्ड कप 2011 में मैन ऑफ द टूर्नामेंट चुना गया था। (सोर्स- सोशल मीडिया)

भारतीय टीम ने 2011 में 2 अप्रैल को वर्ल्ड कप के फाइनल में श्रीलंका को हराया था। टीम इंडिया तब दूसरी बार वर्ल्ड चैंपियन बनने में कामयाब हुई थी। भारतीय टीम के वर्तमान कोच रवि शास्त्री ने उस जीत को याद करके एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली को टैग किया। इस बार टूर्नामेंट के हीरो रहे युवराज सिंह ने शास्त्री को बुरी तरह ट्रोल कर दिया। हालांकि, बाद में शास्त्री ने अपनी गलती सुधार ली।

दरअसल, शास्त्री ने महेंद्र सिंह धोनी का विनिंग सिक्स शेयर किया। उन्होंने लिखा- ‘‘बहुत बधाई हो, ये यादें आपकी पूरी जिंदगी में खुशियां लाएंगी। बिल्कुल वैसे ही जैसे हमारे 1983 के ग्रुप के जीवन में।’’ शास्त्री ने ट्वीट में विनिंग सिक्स मारने वाले धोनी और टूर्नामेंट के मैन ऑफ द टूर्नामेंट युवराज को टैग नहीं किया। इस युवराज ने उनके ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा, ‘‘धन्यवाद सीनियर, आप मुझे और माही को भी टैग कर सकते हैं। हम भी इस वर्ल्ड कप का हिस्सा थे।’’


युवराज के द्वारा ट्रोल होने के बाद शास्त्री ने करीब 10 घंटे बाद स्थिति को संभालते हुए लिखा, ‘‘जब बात वर्ल्ड कप्स की आती है तो आप जूनियर नहीं है। तुस्सी लीजेंड हो।’’ बता दें कि युवराज ने उस वर्ल्ड कप में 9 मैच में 362 रन बनाए थे। इस दौरान उन्होंने एक शतक और 4 अर्धशतक लगाए थे। युवराज ने गेंदबाजी में कमाल दिखाया था। वे टूर्नामेंट के चौथे सबसे सफल गेंदबाज थे। उन्होंने 15 विकेट अपने नाम किए थे।

फाइनल में श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया था। उसने टीम इंडिया को 275 रन का लक्ष्य दिया था। भारतीय टीम ने 49वें ओवर में 4 विकेट पर लक्ष्य को हासिल कर लिया था। टीम इंडिया के लिए गौतम गंभीर ने 97, महेंद्र सिंह धोनी ने नाबाद 91, विराट कोहली ने 35 और युवराज ने नाबाद 21 रन बनाए थे। धोनी ने छक्का मारकर मैच जिताया था। टीम इंडिया 28 साल बाद चैंपियन बनी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories