ताज़ा खबर
 

फोगाट बहनों पर अनुशासन तोड़ने का आरोप, हुई बड़ी कार्रवाई, एश‍ियन गेम्‍स से बाहर होने का खतरा

आगामी अगस्त-सितंबर में इंडोनेशिया के जकार्ता और पालेमबांग शहरों में एशियन गेम्स का आयोजन होना है, जो कि काफी महत्वपूर्ण माने जाते हैं। लेकिन रेसलिंग फेडरेशन के ताजा फैसले के बाद फोगाट बहनें एशियन गेम्स में हिस्सा नहीं ले सकेंगी।

फोगाट बहनों पर लटकी तलवार, एशियन गेम्स से हो सकती हैं बाहर। (image source-Facebook)

रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने कड़ा कदम उठाते हुए फोगाट बहनों गीता, बबिता, रितु और संगीता को एशियन गेम्स के लिए लगाए गए राष्ट्रीय शिविर से बाहर कर दिया है। रेसलिंग फेडरेशन के इस फैसले का असर यह होगा कि फोगाट बहनें अब आगामी एशियन गेम्स में भारत का प्रतिनिधित्व नहीं कर पाएंगी। फोगाट बहनों पर अनुशासन तोड़ने का आरोप लगा है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार, रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने चारों फोगाट बहनों को बहानेबाजी और अनुशासन तोड़ने के आरोपों में राष्ट्रीय शिविर से बाहर किया है। राष्ट्रीय शिविर से बाहर करने का अधिकारिक नोटिस फोगाट बहनों के घर भेज दिया गया है। बता दें कि आगामी अगस्त-सितंबर में इंडोनेशिया के जकार्ता और पालेमबांग शहरों में एशियन गेम्स का आयोजन होना है, जो कि काफी महत्वपूर्ण माने जाते हैं। लेकिन रेसलिंग फेडरेशन के ताजा फैसले के बाद फोगाट बहनें एशियन गेम्स में हिस्सा नहीं ले सकेंगी।

बताया जा रहा है कि फोगाट बहनें हाल ही में लखनऊ में हुए राष्ट्रीय शिविर में शामिल नहीं हुई थीं, जबकि एशियन गेम्स के लिए इस राष्ट्रीय शिविर में भाग लेना जरुरी था। रेसलिंग फेडरेशन ने फोगाट बहनों को नोटिस जारी कर राष्ट्रीय शिविर में भाग नहीं लेने कारण पूछा है। रेसलिंग फेडरेशन के अध्यक्ष ब्रज भूषण सरन ने टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए बताया कि ऐसा लगता है कि वो (फोगाट बहनें) राष्ट्रीय शिविर को गंभीरता से नहीं ले रही हैं, जो कि अनुशासन तोड़ने का गंभीर मसला है, ऐसे में यह स्वीकार नहीं किया जा सकता। यही कारण है कि हमनें अनुशासन तोड़ने वाले खिलाड़ियों को लखनऊ और सोनीपत के राष्ट्रीय शिविरों से हटा दिया है। साथ ही ये खिलाड़ी एशियन गेम्स के लिए होने वाले ट्रायल में भी हिस्सा नहीं ले पाएंगे। उल्लेखनीय है कि दंगल फिल्म में फोगाट बहनों और उनके संघर्ष की कहानी ही दिखाई गई थी। इस फिल्म के रिलीज होने के साथ ही फोगाट बहनें पूरे देश में काफी प्रसिद्ध हो चुकी हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App