ताज़ा खबर
 

जानिए क्यों वीरेंद्र सहवाग ने अश्विन से कहा था-मैं अॉफ स्पिनर्स को गेंदबाज नहीं मानता

नजफगढ़ के सुल्तान कहे जाने वाले सहवाग ने पहला टेस्ट साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेला था और शानदार शतक जमाया था।

टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग।

विश्व क्रिकेट में एक से एक धाकड़ बल्लेबाज हैं, लेकिन वीरेंद्र सहवाग जैसा एंटरटेनर शायद ही कोई हो। वह इकलौते एेसे खिलाड़ी थे, जिसकी खेल को लेकर सोच दूसरों से अलग थी। उनका गेंदबाजों के खिलाफ एक ही मंत्र था-गेंद को देखो और मारो। स्पिनर्स के खिलाफ तो उनका रवैया और भी आक्रामक था। एक टॉक शो ”वॉट द डक” में दुनिया के नंबर दो टेस्ट स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने बताया कि सहवाग का दिमाग काम कैसे करता है।

दाम्बुला में हुए एक वाकये के बारे में अश्विन ने कहा, मैंने उन्हें अॉफ स्टंप के बाहर पहली बॉल डाली, उन्होंने कट कर दिया। दूसरी भी अॉफ स्टंप वाली, उसे भी कट खेल दिया। तीसरी बॉल मिडिल स्टंप पर डाली, उसे भी सहवाग ने कट खेला। चौथी बॉल लेग स्टंप पर डाली, उसके साथ भी सहवाग ने वही किया। पांचवी बॉल पर यही हुआ। इसके बाद मैंने कहा-यह क्या हो रहा है। अगली बॉल अश्विन ने फुलर डाली, सहवाग आगे बढ़े और एक छक्का जड़ दिया। उस वक्त अश्विन भारतीय टीम जगह पाने के लिए मशक्कत कर रहे थे। उन्हें समझ ही नहीं आ रहा था कि क्या करें। इसके बाद अश्विन सहवाग के पास गए और पूछा-मुझे सुधार करने के लिए क्या करना चाहिए।

अश्विन ने कहा, यही सवाल अगर मैंने सचिन तेंडुलकर से किया होता तो वह मुझे टिप्स देते। महेंद्र सिंह धोनी होते तो मुझे कोई योजना बताते। लेकिन वीरेंद्र सहवाग ने कहा, मुझे नहीं लगता कि अॉफ स्पिनर्स गेंदबाज होते हैं। वे मुझे जरा भी परेशान नहीं कर पाते। मुझे उनके खिलाफ शॉट मारना बहुत आसान लगता है। अश्विन ने कहा, सर आप मुझे निराश कर रहे हैं। सहवाग ने कहा, हां, मैं अॉफ स्पिनर्स की गेंदों को अॉफ साइड पर और बाएं हाथ के बॉलर्स की गेंदों को लेग साइड पर मारता हूं। अश्विन ठीक है कहकर चले गए। उन्होंने अगले दिन नेट प्रैक्टिस में उन्होंने कुछ नया करने की सोची, लेकिन सहवाग ने फिर से उनकी धुनाई शुरू कर दी। इसके बाद अश्विन को सहवाग की स्ट्रैटजी समझ आ गई थी। अश्विन ने कहा, वह मेरे साथ एक 10 साल के बच्चे जैसा बर्ताव कर रहे है, जो उनके खिलाफ बैटिंग कर रहा हो।

बनाई थी यह रणनीति: अश्विन ने कहा, अगर आप सहवाग को आउट करना चाहते हैं तो सबसे बकवास गेंद डालिए। मैंने यही किया था और यह सफल भी रहा। मैंने कई बार आईपीएल में उन्हें इसी तरीके से आउट किया। गौरतलब है कि वीरेंद्र सहवाग ने 1999 में पाकिस्तान के खिलाफ अपना अंतरराष्ट्रीय डेब्यू किया था। उन्होंने भारत के लिए 251 वनडे खेले और 8,273 रन बनाए। वह 2011 में विश्व कप जीतने वाली टीम का हिस्सा भी थे। नजफगढ़ के सुल्तान कहे जाने वाले सहवाग ने पहला टेस्ट साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेला था और शानदार शतक जमाया था। 104 टेस्ट में उन्होंने 49.34 की औसत से 8,586 रन बनाए हैं। भारत की ओर से टेस्ट क्रिकेट में पहला तिहरा शतक पाकिस्तान के मुल्तान में उन्होंने ही जड़ा था। भारत के लिए महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर के बाद बतौर ओपनर उन्होंने ही टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App