ताज़ा खबर
 

इन मैचों में महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली बन गए ‘पार्टनर’, हार रही टीम इंडिया को दिलाई जीत

दोनों खिलाड़ियों ने कई मौकों पर टॉप अॉर्डर के फेल हो जाने के बाद मिलकर टीम को जीत दिलाई।

कप्तान विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी

क्रिकेट में पार्टनरशिप सबसे ज्यादा अहम होती है। चाहे वह गेंद से हो या बल्ले से। दो खिलाड़ी जब साथ मिलकर टीम को जिताने की ठान लेते हैं तो हर स्कोर खिलौना लगने लगता है। भारतीय क्रिकेट इतिहास में सौरभ गांगुली-सचिन तेंडुलकर, विरेंद्र सहवाग-सचिन तेंडुलकर, जवागल श्रीनाथ-वेंकटेश प्रसाद और हरभजन सिंह-अनिल कुंबले की पार्टनरशिप अमर हैं। इन सबकी साझेदारियों ने भारतीय क्रिकेट फैन्स के चेहरे पर कई बार खुशी लाने का काम किया है।
लेकिन गेम बदलने के साथ ही मिडिल अॉर्डर में साझेदारी की जरूरत ज्यादा महसूस होने लगी। स्कोर चाहे कितना ही बड़ा क्यों न हो जिम्मेदारी हमेशा मिडिल अॉर्डर के बल्लेबाजों पर ज्यादा होती है। पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और युवराज सिंह ने तो कई बार एक साथ टीम को जीत दिलाई है, लेकिन अब कप्तान विराट कोहली और महेंद्र सिंह की पार्टनरशिप का दौर है। दोनों ने बीते वर्षों में कई बार भारत को संकट से ऊबारा है। नजर डालते हैं एेसी 5 पारियों पर जिनमें भारत धोनी-कोहली की साझेदारी की बदौलत जीता।

भारत बनाम अॉस्ट्रेलिया (टी20 विश्वकप) ः  यह वो मैच था जब अॉस्ट्रेलिया के 160 रनों के जवाब में 14 ओवर खत्म होने का बाद भारत के 94 रन पर चार विकेट गिर चुके थे। इसके बाद क्रीज पर विराट कोहली का साथ देने आए महेंद्र सिंह धोनी। दोनों ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की और अगले 5.1 ओवर में भारत को 5 गेंद शेष रहते जीत दिला दी। इस मैच में कोहली 82 रन पर नाबाद रहे थे।

भारत बनाम बांग्लादेश (11 जनवरी 2010, ढाका) ः  इस मैच में भी धोनी और कोहली संकटमोचक की भूमिका में रहे। ट्राई सीरीज के इस मैच में बांग्लादेश ने 247 रन बनाए थे, लेकिन 133 रन पर 3 विकेट गिर जाने के बाद धोनी और कोहली की 67 रन की साझेदारी ने टीम को जीत दिला दी। इस मैच में कोहली ने शतक जमाया था।

भारत बनाम न्यूजीलैंड (29 अक्टूबर 2016, विशाखापत्तनम) : इस मैच में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 269 रन बनाए थे। अजिंक्य रहाणे का विकेट जल्दी गिरने के बाद रोहित शर्मा और विराट कोहली ने अच्छी बैटिंग की, लेकिन उनके आउट हो जाने के बाद कोहली (65) और धोनी (41) ने टीम को एक सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया।

भारत बनाम न्यूजीलैंड (23 अक्टूबर 2016, मोहाली) ः भारत के लिए यह मैच बेहद मुश्किल रहा। न्यूजीलैंड ने इस मैच में 285 रन का चैलेंजिंग स्कोर रखा। जवाब में 41 रन पर भारतीय ओपनर अजिंक्य रहाणे और रोहित शर्मा पवेलियन हो गए। इसके बाद 9वें ओवर में धोनी और कोहली ने 151 रन जोड़े और भारत को जीत दिलाई। कोहली ने 154 और धोनी ने 80 रनों की पारी खेली थी।

भारत बनाम बांग्लादेश (7 जनवरी 2010) : इस सीरीज का पहला मैच हारने के बाद भारत वापसी की उम्मीद में था। लेकिन बांग्लादेश ने 296 रनों का स्कोर खड़ा कर दिया। जवाब में भारत की शुरुआत खराब रही और उसके गौतम गंभीर और विरेंद्र सहवाग ज्यादा खास नहीं कर सके। इसके बाद कोहली और धोनी ने 9वें से 37वें ओवर तक बल्लेबाजी की और टीम को जीत दिलाई। मैच में धोनी ने 101 रन बनाए थे।

Next Stories
1 इग्लैंड पर जीत के बाद बोले कोहली, कहा- हम भी बताना चाहते थे कि विकेट खोने के बाद भी मैच से बाहर नहीं हैं हम
कोरोना:
X