ताज़ा खबर
 

जब सिंधु और ओकुहारा के मैच के बाद गोपीचंद से साइना नेहवाल ने कहा- मेरा पेट्रोल खत्म हो गया है देखते देखते

विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप महिला वर्ग के फाइनल के बाद साइना नेहवाल, पीवी सिंधु और पुलेला गोपीचंद ने फैंस के साथ तस्वीरें खिचवाईं।

Author August 28, 2017 15:16 pm
पीवी सिंधू को रविवार (27 अगस्त) को हुए फाइनल में जापान की जापान की ओकुहारा से हार गईं। (तस्वीर- एजेंसी)

रविवार (27 अगस्त) को विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप में भारत की पीवी सिंधु और जापान की नोजोमी ओकुहारा के बीच हुआ 110 मिनट लंबा फाइनल महिला बैडमिंटन इतिहास का दूसरे सबसे लंबा फाइनल था। क्रिकेट प्रेमी और विशेषज्ञ सिंधु और ओकुहारा के बीच हुए मुकाबले को बैडमिंटन इतिहास के सर्वश्रेष्ठ मुकाबलों में मान रहे हैं। 22 वर्षीय सिंधु और उनकी हमउम्र ओकुहारा ने करीब पांच हजार क्षमता वाले खचाखच भरे स्टेडियम में दोनों खिलाड़ियों ने उम्दा खेल दिखया सिंधु पहले राउंड में मिली जीत के बावूजद मुकाबला 21-19, 20-22, 22-20 से हार गईं। भले ही सिंधु की हार से भारतीयों का दिल टूटा हो लेकिन उनके शानदार खेल के लिए उन्हें देश-विदेश के बैडमिंटन प्रेमियों की दाद मिली।

सिंधु और ओकुहारा दोनों ने कोर्ट पर अपनी प्रतिभा, हुनर और क्षमता का लाजवाब प्रदर्शन किया। दोनों के बीच सबसे लंबी रैली में 73 शॉट खेले गए। दोनों के बीच दो और लंबी रैलियां हुईं जिनमें 50 से अधिक शॉट खेले गए। इन सभी रैलियों में आखिरी जीत सिंधु को मिली। महिला बैडमिंटन फाइनल का सबसे मैच भी ओकुहारा ने ही जीता था। ओकुहारा ने साल 2015 में मलेशिया ओपन में 111 मिनट चले फाइलन में चीन की शिशियान वांग को हराया था। मैच हारने के बाद सिंधु ने कहा, “हर कोई स्वर्ण पदक जीतना चाहता है। आखिरी वक्त में सब कुछ बदल गया।” आखिरी राउंड में सिंधु के दो रिटर्न नेट में उलझ गए थे और उन्हें मैच प्वाइंट गंवाना पड़ा था।

सिंधु ने रियो ओलंपिक में भी रजत पदक जीता था। उसके बाद से सिंधु से देश की उम्मीदें बढ़ गईं थीं। ग्लासगो में चल रहे विश्व बैडमिंटन टूर्नामेंट भारत पहले ही दो कांस्य जीत चुका था। ऐसे में भारतीय प्रशंसक उम्मीद कर रहे थे कि सिंधु देश को इस मुकाबला का पहला स्वर्ण दिलाएंगी। सिंधु शनिवार को हुए सेमी-फाइनल के बाद रात को करीब दो बचे सोई थीं। बकौल सिंधु अगर वो मुकाबले का विश्लेषण करती रहतीं तो कई दिनों तक सोना मुश्किल हो जाता। रविवार को उन्होंने अपनी पूरी बची हुई ऊर्जा मैच में झोंक दी। नतीजा ये हुआ कि पुरस्कार वितरण समारोह में पोडियम पर दो भारतीय खिलाड़ी मौजूद थे। रजत पदक विजेता सिंधु और कांस्य पदक विजेता साइना नेहवाल।

फाइनल खत्म होने के बाद नेहवाल ने कोच पुलेला गोपीचंद से कहा, “मेरा पेट्रोल खत्म हो गया है देखते, देखते।” मैच खत्म होने के बाद गोपीचंद ने हल्के-फुल्क मूड में कहा, “इसे कभी तो खत्म होना ही था…” मैच खत्म होने के बाद साइना, सिंधु और गोपीचंद ने फैंस के साथ तस्वीरें खिचवाईं। लगातार भारत को गौरवान्वित करने वाली इस तिकड़ी के लिए ये एक सुनहरा मिलना था। इन तीनों के साथ ही पूरे देश को बस उस वक्त का इंतजार रहेगा जब देश की झोली में फिर से स्वर्ण पदक आएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App