ताज़ा खबर
 

भारत से नफरत का पाकिस्तान ने भुगता खामियाजा, नहीं होगा मैचों का प्रसारण; मंत्री ने कहा- हम इंडियन फर्म से सौदा नहीं करेंगे

पाकिस्तान के सूचना मंत्री ने कहा कि सरकार एक समझौते पर पहुंचने के प्रयास के लिए इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड से संपर्क करेगी। उन्होंने कहा कि मैच के प्रसारण नहीं होने से पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) और पाकिस्तान टेलीविजन (पीटीवी) को काफी आर्थिक नुकसान होगा।

Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: June 9, 2021 10:06 AM
पाकिस्तान और इंग्लैंड के बीच 8 जुलाई सीमित फॉर्मेट की सीरीज होनी है। (सोर्स- एपी)

पाकिस्तान को भारत के खिलाफ नफरत रखने का खामियाजा भुगतना पड़ा है। नतीजा यह है कि उसके देश की क्रिकेट टीम इंग्लैंड में मैच खेलेगी, लेकिन पाकिस्तान में ही उन मुकाबलों का प्रसारण नहीं होगा। दरअसल, दक्षिण एशिया में क्रिकेट मैचों के प्रसारण का अधिकार भारतीय ब्रॉडकास्टर्स स्टार एंड एशिया के पास है, लेकिन पड़ोसी मुल्क कश्मीर को बहाना बनाकर भारतीय कंपनी के साथ किसी भी तरह का सौदा नहीं करने की बात कह रहा है।

पाकिस्तान कैबिनेट ने मौजूदा राजनीतिक तनाव के कारण पाकिस्तान और इंग्लैंड के बीच आगामी क्रिकेट सीरीज के सीधे प्रसारण के लिए भारतीय कंपनी के साथ अनुबंध के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है। पाकिस्तान के सूचना और प्रसारण मंत्री फवाद चौधरी ने कैबिनेट की बैठक के बाद मीडिया को बताया कि पाकिस्तान टेलीविजन (पीटीवी) ने सरकार से मैचों के प्रसारण के लिए स्टार और सोनी से करार पर हस्ताक्षर का आग्रह किया था। फवाद चौधरी ने कहा कि भारतीय ब्रॉडकॉस्टर्स के साथ लाइसेंस विवाद होने के चलते पाकिस्तान के इंग्लैंड दौरे पर होने वाले मैचों का प्रसारण देश में नहीं होगा।

पाकिस्तान और इंग्लैंड के बीच 8 जुलाई से 3 वनडे और 3 टी20 मैचों की सीरीज होनी है। कार्डिफ के सोफिया गार्डंस में पहला, लंदन के लार्ड्स में दूसरा और बर्मिंघम के एजबेस्टन में तीसरा वनडे खेला जाना है। नॉटिंघम, लीड्स और मैनचेस्टर में क्रमशः पहला, दूसरा और तीसरा टी20 मुकाबला होना है।

फवाद चौधरी ने कहा, ‘कैबिनेट ने इंग्लैंड-पाकिस्तान क्रिकेट सीरीज के प्रसारण के लिए स्टार और सोनी से करार के पीटीवी के आग्रह को ठुकरा दिया है और हम किसी भी भारतीय फर्म के साथ व्यापार नहीं कर सकते।’

पाकिस्तान के सूचना मंत्री ने कहा इमरान खान सरकार पहले ही स्पष्ट कर चुकी है कि भरत के साथ रिश्ते पांच अगस्त 2019 की कार्यवाही को पलटने पर निर्भर करेंगे। वह जम्मू कश्मीर में धारा 370 को हटाए जाने के संदर्भ में कह रहे थे। उन्होंने कहा, ‘जब तब उस कार्यवाही को वापस नहीं लिया जाता तब तक भारत के साथ हमारे रिश्ते सामान्य नहीं हो सकते।’ भारत सरकार ने 5 अगस्त 2019 को कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त कर दिया था

फवाद चौधरी ने कहा, भारत के साथ संबंधों को सामान्य बनाना 5 अगस्त के फैसले को वापस लेने की शर्त है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि मैच के प्रसारण नहीं होने से पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) और पाकिस्तान टेलीविजन (पीटीवी) को काफी आर्थिक नुकसान होगा।

Next Stories
1 विराट कोहली की बहुत बड़ी फैन है ऑस्ट्रेलिया की यह एंकर, एमएस धोनी के लिए कही थी ऐसी बात
2 WTC Final में सबसे ज्यादा रन बनाएंगे चेतेश्वर पुजारा, जसप्रीत बुमराह नहीं यह गेंदबाज होगा भारत का ट्रम्प कार्ड; बोले पार्थिव पटेल
3 क्राउडफंडिंग के जरिए भारतवंशी ने कटाया ओलंपिक का टिकट, स्टार शटलर ने ऐसे तय किया जालंधर से टोक्यो का सफर
ये पढ़ा क्या?
X