ताज़ा खबर
 

श्रीकांत-सुनील गावस्कर के कारण वीरेंद्र सहवाग लगा पाए दोहरे और तिहरे शतक, टीवी शो में वीरू ने खोला था राज

वीरेंद्र सहवाग ने टेस्ट मैचों में एक तिहरा शतक पाकिस्तान और दूसरा दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ लगाया था। उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ दो दोहर शतक (201 और 254) और श्रीलंका के खिलाफ भी दो दोहरे शतक (201* और 293) लगाए थे।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: June 4, 2020 11:57 AM
krishnamachari srikkanth Virender Sehwag and sunil gavaskar 850वीरेंद्र सहवाग की तरह कृष्णामचारी श्रीकांत और सुनील गावस्कर भी भारतीय क्रिकेट टीम के लिए ओपनिंग किया करते थे।

वीरेंद्र सहवाग की गिनती क्रिकेट जगत के विस्फोटक बल्लेबाजों में की जाती है। उनके नाम कई शानदार रिकॉर्ड दर्ज हैं। वह टेस्ट मैचों में दो तिहरे शतक लगाने वाले भारत के इकलौते बल्लेबाज हैं। वह दो तिहरे शतकों के अलावा टेस्ट मैचों में 4 बार दोहरा शतक भी लगा चुके हैं। वह वनडे इंटरनेशनल में भी दोहरा शतक जड़ चुके हैं।

वीरेंद्र सहवाग क्रिकेट इतिहास में टेस्ट मैचों में तिहरा शतक और वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले दुनिया के इकलौते बल्लेबाज हैं। सहवाग इतनी बड़ी उपलब्धि हासिल करने का श्रेय सुनील गावस्कर और कृष्णामचारी श्रीकांत को भी देते हैं। उन्होंने रजत शर्मा के शो आप की अदालत के दौरान यह बात बताई थी।

शो के दौरान रजत शर्मा ने वीरेंद्र सहवाग पर जिद्दी होने का आरोप लगाया था। इस पर सहवाग ने कहा, ‘जिद अगर अच्छी हो तो क्यों नहीं करनी चाहिए। जिद अगर यह है कि आप अपने देश के लिए खेलना चाहते हैं तो ऐसी जिद क्यों नहीं करनी चाहिए। जिद हो कि बॉलरों की पिटाई करनी है तो यह जिद अच्छी है। लेकिन अगर खराब जिद है तो वह गलत है।’

इस पर रजत शर्मा ने कहा, ‘क्रिकेट के एक्सपर्ट्स हैं वे आपको हमेशा कहते रहे कि अपना स्टाइल थोड़ा ठीक करो। कुछ बॉलों को छोड़ दो। कुछ कम शॉट मारो। फीट को मूव करो। लेकिन कभी किसी का मशविरा नहीं सुना।’ इस पर सहवाग ने कहा, ‘लेकिन यह तो बेकार की जिद वाली बात हो गई। वे तो बेकार की बातें थीं। मेरा ऐसा मानना है कि अगर मैं क्रिकेट खेलता हूं और मैं जिस गेम को खेलता हूं और जिससे मुझे सक्सेस मिली है तो वह मुझसे बेहतर और कौन जान सकता है।’

उन्होंने कहा, ‘लोग अपनी सलाहें देते हैं, राय देते हैं, लेकिन अच्छा खिलाड़ी वही होता है जो उन रायों में से एक राय उठाता है और अपनी बैटिंग में इम्पलीमेंट करता है और उससे उसे और आगे सक्सेस मिलती है। मुझे बहुत सी रायें मिलीं। लेकिन जो मुझे सबसे अच्छी राय लगी वह श्रीकांत और सुनील गावस्कर की थी।’

सहवाग ने बताया, ‘उन्होंने (श्रीकांत-गावस्कर) कहा कि आप लेग स्टम्प के बाहर खड़े होते हैं और बॉल से बहुत दूर हो जाते हैं। इसलिए कई बार आप ऑफ स्टम्प के बाहर की गेंदों पर आउट हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि आप मिडिल ऑफ पर खड़े होइए। आप बॉल के और पास आएंगे तो और ज्यादा रन बना पाएंगे। फिर मैंने वैसा ही करना शुरू किया। तो उसके बाद मैंने बहुत सारे लंबे 150, 200 और मेरे ख्याल से 6 डबल हंड्रेड (इनमें दोनों तिहरे शतक शामिल हैं) और दो ट्रिपल सेंचुरी बनाईं। यह एक अच्छी राय थी जो मुझे श्रीकांतजी और सुनील गावस्करजी से मिली।’

वीरेंद्र सहवाग ने टेस्ट मैचों में एक तिहरा शतक पाकिस्तान और दूसरा दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ लगाया था। उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ दो दोहर शतक (201 और 254) और श्रीलंका के खिलाफ भी दो दोहरे शतक (201* और 293) लगाए थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गर्भवती हथिनी की हत्या पर विराट कोहली बोले- बंद करो कायराना हरकत, खेल जगत ने कहा- भरने वाला है इंसान के पाप का घड़ा
2 लगातार तीसरे साल नीरज चोपड़ा को खेल रत्न और दुती चंद को अर्जुन अवार्ड देने की सिफारिश, लॉकडाउन के कारण खेल मंत्रालय ने बढ़ाई तारीख
3 कोरोना: डॉरेन ब्रावो, शिमरॉन हेटमेयर, कीमो पॉल का इंग्लैंड जाने से इंकार, विंडीज ने रिजर्व में रखे 11 खिलाड़ी