जहीर खान के कारण ओपनर बने थे वीरेंद्र सहवाग, सौरव गांगुली के शो पर सुनाई थी रोचक कहानी

टेस्ट में 23 और वनडे में 15 शतक लगाने वाले सहवाग ने गांगुली के ही एक शो में यह खुलासा किया था कि उनके ओपनर बनने के पीछे टीम इंडिया के पूर्व तेज गेंदबाज जहीर खान का हाथ है। इस दौरान शो पर जहीर, वीवीएस लक्ष्मण, हरभजन सिंह और रविचंद्रन अश्विन भी मौजूद थे।

Virender Sehwag, Sourav Gangulyवीरेंद्र सहवाग ने भारत के लिए 1999 में पहला अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था। (फाइल)

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ओपनर वीरेंद्र सहवाग अपनी सफलता का श्रेय दिग्गज कप्तान सौरव गांगुली को देते हैं। उन्होंने कई बार सार्वजनिक कार्यक्रमों या इंटरव्यू में यह कहा है कि गांगुली के कारण ही वे इतने रन बना पाए। टेस्ट में 23 और वनडे में 15 शतक लगाने वाले सहवाग ने गांगुली के ही एक शो में यह खुलासा किया था कि उनके ओपनर बनने के पीछे टीम इंडिया के पूर्व तेज गेंदबाज जहीर खान का हाथ है। इस दौरान शो पर जहीर, वीवीएस लक्ष्मण, हरभजन सिंह और रविचंद्रन अश्विन भी मौजूद थे।

सौरव गांगुली के बंगाली शो दादागिरी में सहवाग ने कहा था, ‘‘1999 से दिसंबर 2000 तक मैंने घरेलू मैचों में रन बनाए थे। इसके बाद टीम इंडिया में मुझे फिर से मौका मिला था। जब मैं वापस आया तो मेरे कप्तान सौरव गांगुली थे। इन्होंने ही दिसंबर 2000 में जिम्बाब्वे के खिलाफ मेरा चयन किया था। मुझे बहुत मौके दिए। 15-20 पारियों में मेरे रन ही नहीं बने थे। इसके बावजूद मेरा समर्थन किया। इसके लिए दादा का शुक्रिया, क्योंकि इतने मौके नहीं मिलते तो शायद इतने बड़े खिलाड़ी नहीं बनते। मुझे सौरव गांगुली ने ही ओपनिंग किसने कराई। इसके लिए जहीर खान का शुक्रिया।’’

सहवाग ने इसके आगे सुनाया, ‘‘श्रीलंका में बहुत सारे ओपनर खेले, लेकिन किसी ने रन नहीं बनाए। युवराज सिंह, हेमांग बदानी, अमय खुरासिया। इसके बाद जहीर खान ने दादा (गांगुली) से कहा कि सहवाग से ओपनिंग करवाओ। मैं इन्हें (जहीर) गालियां देता था कि मुझे ओपनर क्यों बनवा दिया, लेकिन आज दोनों का धन्यवाद देता हूं। क्योंकि मैं ओपनिंग नहीं करता तो इतने रन नहीं बना सकता था। दादा ने मुझे टेस्ट मैचों में भी ओपनिंग करने के लिए कहा था।’’

वीरू ने कहा था, ‘‘मैं वनडे में काफी ओपनिंग कर चुका था। इंग्लैंड पहुंचने पर दादा ने मुझसे कहा कि टेस्ट मैचों में तुमने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ डेब्यू में शतक लगाया था। श्रीलंका में ओपनिंग करते हुए रन बनाए, लेकिन यहां मध्यक्रम में जगह नहीं मिलेगी। मध्यक्रम में राहुल द्रविड़, सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण थे। मुझे बाहर बैठना पड़ सकता था। उन्होंने कहा कि तुम ओपनिंग करो। मैंने उनसे पूछा कि आप भी तो मध्यक्रम में हो, आप ओपनिंग कर लो तो मैं मध्यक्रम में खेल लूंगा। इस पर उन्होंने मुझसे कहा कि मैं कैप्टन हूं, मेरा जहां मन करेगा मैं वहां खेलूंगा।’’

Next Stories
1 ‘पाकिस्तान के खिलाफ मैच से पहले था IPL ऑक्शन, राहुल द्रविड़ ने करवा दिया था मोबाइल बंद’, शुभमन गिल ने सुनाई थी रोचक कहानी
2 IPL 2021: पृथ्वी शॉ और शिवम दुबे सहित 6 युवा खिलाड़ी मचा सकते हैं धमाल, पूर्व भारतीय ओपनर ने की भविष्यवाणी
3 कैप्टन कूल महेंद्र सिंह धोनी ने मैदान पर खोया था आपा, गेंदबाजों को दी थीं ‘गालियां’; पूर्व भारतीय बॉलर ने सुनाई थी रोचक कहानी
ये पढ़ा क्या?
X