ताज़ा खबर
 

वीरेंद्र सहवाग बोले- मैं नहीं चाहता था फिर भी मंत्री ने NADA पैनल में रखवाया

दिग्गज बल्लेबाज ने कहा कि उन्होंने खेल मंत्री राठौड़ के आग्रह के बाद ही पैनल से जुड़ने का फैसला किया। सहवाग ने कहा, ‘‘मैं खेल मंत्री के आग्रह के बाद इससे जुड़ा। उन्होंने मुझसे कहा कि मेरे स्तर का व्यक्ति बदलाव ला सकता है।’’

Author Updated: August 1, 2018 11:48 AM
वीरेंद्र सहवाग। (Photo Courtesy: Twitter)

वीरेंद्र सहवाग के नाडा पैनल की सुनवाई में भाग नहीं लेने पर सवाल उठाये जा रहे हैं लेकिन इस पूर्व सलामी बल्लेबाज ने आज कहा कि वह समिति का हिस्सा नहीं बनना चाहते थे लेकिन खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ के आग्रह पर इससे जुड़े। सहवाग ने कहा कि उनका मानना है कि केवल ओलंपियन को समिति में होना चाहिए क्रिकेटरों को नहीं। सहवाग को नवंबर 2017 में नाडा के डोपिंग रोधी अपीली पैनल (एडीएपी) में शामिल किया गया था लेकिन अभी तक उन्होंने एक भी सुनवाई में हिस्सा नहीं लिया। उन्होंने कहा, ‘‘मेरा मानना है कि क्रिकेटरों के बजाय पूर्व ओलंपियन को नाडा पैनल का हिस्सा होना चाहिए। ओलंपिक वर्गों में शामिल खिलाड़ी नाडा की कार्यप्रणाली से अधिक वाकिफ होते हैं।’’

बेबाक टिप्पणी करने के लिये मशहूर सहवाग ने कहा, ‘‘ मेरे जैसे व्यक्ति की तुलना में ओलंपियन डोपिंग रोधी संहिता के बारे में ज्यादा जानते हैं। शुरू में मैं पैनल का हिस्सा बनने का इच्छुक नहीं था।’’ सहवाग ने कहा, ‘‘मैं शुरू से ही बीसीसीआई का हिस्सा रहा हूं और आईसीसी टूर्नामेंटों के छोड़कर मेरा बमुश्किल ही डोप परीक्षण हुआ है। इसलिए मुझे यह स्वीकार करने में कोई हिचकिचाहट नहीं है कि मेरी जानकारी सीमित है।’’

इस दिग्गज बल्लेबाज ने कहा कि उन्होंने खेल मंत्री राठौड़ के आग्रह के बाद ही पैनल से जुड़ने का फैसला किया। सहवाग ने कहा, ‘‘मैं खेल मंत्री के आग्रह के बाद इससे जुड़ा। उन्होंने मुझसे कहा कि मेरे स्तर का व्यक्ति बदलाव ला सकता है।’’ उन्होंने इसके साथ ही स्पष्ट किया कि एडीएपी की पहली दो सुनवाई के दौराना नाडा ने यहां तक कि उन्हें तिथियों के बारे में भी अवगत नहीं कराया। सहवाग ने कहा, ‘‘पहली दो सुनवाई के दौरान मुझे तिथियों के बारे में नहीं बताया गया। इसके बाद तीसरी सुनवाई में मैं नहीं जा पाया क्योंकि मेरा बेटा अस्वस्थ था।’’

पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग, पूर्व अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी राहुल सांघवी और आकाश चोपड़ा को इस समिति में शामिल किया गया है। भारतीय क्रिकेट खिलाड़ी गौतम गंभीर को भी इस समिति में विशेष आमंत्रण के तहत शामिल किया गया है। लोढा समिति द्वारा की गई सिफारिशों और राज्य संघ के लिए बीसीसीआई दिशानिर्देशों के अनुसार क्रिकेट समिति को विभिन्न चयन समितियों का गठन करने के लिए अधिकृत किया गया है। इसके साथ ही इस समिति का कार्य दिल्ली में क्रिकेट के सुधार हेतु डीडीसीए को महत्वपूर्ण मार्गदर्शन देना होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 India vs England 1st Test Squad: पहले टेस्ट से बाहर हुए चेतेश्वर पुजारा, इन खिलाड़ियों को मिला मौका
ये पढ़ा क्या?
X