ताज़ा खबर
 

भारत में बनी गेंद के इस्तेमाल से विराट कोहली नाखुश, की यह मांग

कोहली ने कहा, आईसीसी द्वारा गेंद को लेकर कोई निर्देश नहीं जारी किए गए हैं। हर देश अलग अलग गेंदों का उपयोग करते हैं। भारत एसजी गेंद का इस्तेमाल करता है। जिसे लेकर कोहली नाखुश हैं।

कोहली ने भारत में एसजी गेंद की जगह ड्यूक बॉल से खेलने की सलाह दी है। (फोटो सोर्स : Indian Express)

वेस्टइंडीज पर पहले टेस्ट मैच में ऐतिहासिक जीत के बाद भी टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली नाखुश हैं। दरअसर कोहली इंग्लैंड में बनने वाली ड्यूक गेंद से खेलने के समर्थन में हैं। ना कि एसजी गेंदो के। एसजी गेंद भारत में मैच के दौरान इस्तेमाल होती है। जिसकी खराब गुणवत्ता के बाद भी इस्तेमाल किए जाने के कारण कोहली नाराज हैं। कोहली ने भारत में एसजी गेंद की जगह ड्यूक गेंद से खेलने की सलाह दी है।

कप्तान कोहली ने कहा, दुनियाभर में ड्यूक गेंद का ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए। टेस्ट मैज के लिए यह गेंद सबसे अच्छी है। समय बीतने के साथ इसमें ज्यादा फर्क नहीं पड़ता। तेज गेंदबाजों की मददगार इस गेद की सीम कड़ी और सीधी रहती है।

उन्होंने आगे कहा, आईसीसी द्वारा गेंद को लेकर कोई निर्देश नहीं जारी किए गए हैं। हर देश अलग अलग गेंदों का इस्तेमाल करते हैं। भारत एसजी गेंद का इस्तेमाल करता है जबकि इंग्लैंड और वेस्टइंडीज ड्यूक गेंद से खेलते हैं। वहीं ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान और श्रीलंका कूकाबूरा गेंद को पसंद करते हैं।

कोहली ने कहा, पांच ओवर में ही गेंद घिस जाती है। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ। पहले की तुलना में इसकी गुणवत्ता बहुत खराब हो चुकी है। इससे पहले अश्विन ने भी कूकाबूरा से खेलने को ज्यादा सही बताया था।

एसजी बॉल हाथ से तैयार होती हैं, जबकि कूकाबूरा बॉल मशीन से बनाई जाती हैं। सभी एसजी बॉल के साइज में मामूली सा अंतर होता है। जबकि कूकाबूरा बॉल एक ही आकार की होती हैं। एसजी गेंद में सीम काफी उभरी हुई होती है। जबकि कूकाबूरा में ऐसा नहीं होता।

बता दें, भारत और वेस्टइंडीज के बीच दो टेस्ट मैचों की सीरीज का दूसरा और आखिरी टेस्ट 12 अक्टूबर से हैदराबाद में शुरु होगा। भारत इस सीरीज में 1-0 की अजेय बढ़त बना चुका है। राजकोट में खेले गए पहले टेस्ट मैच में भारत ने वेस्टइंडीज को पारी और 272 रन के रेकॉर्ड अंतर से हराया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App