ताज़ा खबर
 

सीखने का नहीं अब परिणाम देने का समय: कोहली

भारतीय टैस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली का मानना है कि सीखने का समय अब पूरा हो चुका है और उनकी टीम का ध्यान अब केवल नतीजा देने पर है। कोहली ने कहा, ‘मेरा कोई व्यक्तिगत लक्ष्य नहीं है और मेरे ख्याल से व्यक्तिगत प्रदर्शन लक्ष्य होना भी नहीं चाहिए...

Author June 8, 2015 10:46 AM
‘श्रीनिवासन नहीं चाहते थे कोहली बनें टीम इंडिया के कप्तान’ (फ़ोटो-पीटीआई)

भारतीय टैस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली का मानना है कि सीखने का समय अब पूरा हो चुका है और उनकी टीम का ध्यान अब केवल नतीजा देने पर है।

बांग्लादेश दौरे पर दस जून से होने वाले एकमात्र टैस्ट के लिए रवाना होने से पहले एक प्रेस कांफ्रेंस में कोहली ने कहा कि उनका ध्यान परिणाम देने पर केंद्रित है। टीम से जुड़ी अपेक्षाओं के बारे में कोहली से पूछा गया तो उन्होंने कहा, ‘हम लोगों ने बहुत कुछ सीखा है और मुझे नहीं लगता कि हम सीखने की मानसिकता से खेलेंगे। हम लोग हर समय खेल के बारे में सीखते हैं, टीवी पर मैच देखते समय भी हम ऐसा करते हैं लेकिन अब हम लंबे समय तक खेल चुके हैं और यह जानते हैं कि एक टीम के रूप में हमें कैसे लक्ष्य को हासिल करना है। अब वास्तव में हम परिणाम प्राप्त करने के लिए खेलेंगे बजाय इसके कि मैच के बाद हम यह सोचें कि हमने इससे क्या सीख हासिल की।’

उन्होंने आश्वास्त किया कि बांग्लादेश दौरे के लिए टीम अच्छी तरह तैयार है जिसमें टीम को तीन एकदिवसीय मैच भी खेलने हैं। कोहली ने कहा कि टीम के बेहतर दिखने के लिए खिलाड़ियों की फिटनेस जरूरी है। उन्होंने कहा, ‘टीम अच्छी दिख रही है। हमने शनिवार को एक फिटनेस टैस्ट का आयोजन किया क्योंकि हम लोगों को लगता है कि यह एक ऐसा क्षेत्र है जिस पर ध्यान देने की जरूरत है। नई शुरुआत को लेकर हर कोई उत्साहित है। मैं टीम के नेतृत्व को लेकर सचमुच रोमांचित हूं। इस संक्षिप्त दौरे पर उनकी उम्मीदों से जुड़े एक सवाल पर कोहली ने कहा कि वह टैस्ट प्रारूप को लेकर रणनीति बना रहे हैं। टैस्ट कप्तान ने कहा कि मैंने पहले भी टीमों की कप्तानी की है। एक स्तर तक आप अपनी जिम्मेदारियों के दौरान सीखते हैं। टैस्ट क्रिकेट, एकदिवसीय और टी20 क्रिकेट की तुलना में ज्यादा कठिन है क्योंकि आपको पूरे दिन की रणनीति एक बार में बनानी पड़ती है।’

महेंद्र सिंह धोनी के अचानक टैस्ट क्रिकेट से संन्यास के बाद कप्तान बनाए गए कोहली ने कहा, ‘मैंने आस्ट्रेलिया में कप्तानी के दौरान बहुत कुछ सीखा। टीम की क्षमता बहुत अच्छी है और मैं निरंतरता बरकरार रखना चाहता हूं। यह निर्भर करता है कि आप गलतियों से कैसे सीखते हैं। लंबे समय के लक्ष्य के बारे में पूछे जाने पर कोहली ने कहा कि वह ड्रेसिंग रूम में जोश भरना चाहते हैं। उन्होंने कहाकि निश्चित तौर पर हम ऐसा माहौल बनाना चाहते हैं जहां खिलाड़ी अपनी क्षमता को लेकर विश्वस्त हों। हमारे पास लक्ष्य और उसे हासिल करने को लेकर योजनाएं हैं। मेरे ख्याल से इस तरह का माहौल होना चाहिए जहां खिलाड़ी हर दिन टीम के लिए अपने में सुधार लाना चाहे।’

कोहली ने कहा, ‘मेरा कोई व्यक्तिगत लक्ष्य नहीं है और मेरे ख्याल से व्यक्तिगत प्रदर्शन लक्ष्य होना भी नहीं चाहिए। एक बल्लेबाज को हारे हुए मैच में शतक मारकर अच्छा नहीं लगता। इसलिए हमें टीम की जीत पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। हमारी मानसिकता पहले मैच को जीतने की होनी चाहिए। विश्व कप में बांग्लादेश के खिलाफ मैच के दौरान पैदा हुए विवाद को लेकर किसी तरह के तनाव की बात से इनकार करते हुए कोहली ने कहा कि इसका कोई असर नहीं होगा। उन्होंने कहा कि हम लोगों के बीच पूर्व में कुछ हुआ था, वह पीछे छूट गया है। वे लोग आगे बढ़ गए, हम लोग आगे बढ़ गए। मुझे नहीं लगता किसी को कुछ याद होगा। प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ कोई दुर्भाव नहीं होगा। सहज तौर पर वहां अपने प्रदर्शन को दिखाने की बात होगी।’

World Cup 2019
  • world cup 2019 stats, cricket world cup 2019 stats, world cup 2019 statistics
  • world cup 2019 teams, cricket world cup 2019 teams, world cup 2019 teams list
  • world cup 2019 points table, cricket world cup 2019 points table, world cup 2019 standings
  • world cup 2019 schedule, cricket world cup 2019 schedule, world cup 2019 time table

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X