ताज़ा खबर
 

‘विराट कोहली को चाहिए महेंद्र सिंह धोनी जैसा खिलाड़ी, खल रही है उनकी कमी’, बोले वेस्टइंडीज के दिग्गज खिलाड़ी

सिडनी के सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर ऑस्ट्रेलिया ने भारत के खिलाफ पहले वनडे में 50 ओवर में 6 विकेट पर 374 रन बनाए थे। जवाब में विराट कोहली की टीम 50 ओवर में 8 विकेट पर 308 रन ही बना सकी। कंगारू टीम ने जीत के साथ सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल कर ली थी।

Virat Kohli, Mahendra Singh Dhoni, ms dhoniमहेंद्र सिंह धोनी ने इसी साल अगस्त में इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास ले लिया था। (सोर्स – सोशल मीडिया)

वेस्टइंडीज के पूर्व तेज गेंदबाज माइकल होल्डिंग ने कहा है कि विराट कोहली की अपनी टीम में महेंद्र सिंह धोनी जैसे खिलाड़ी की जरूरत है। 70-80 के दशक में दुनिया के सबसे घातक गेंदबाजों में शामिल रहे होल्डिंग का मानना है कि अगर कोहली की टीम को सफेद गेंद वाले क्रिकेट में बड़े टोटल का पीछा करना है तो उन्हें धोनी जैसा एक खिलाड़ी ढूंढना होगा। उनका यह बयान उस समय आया है जब भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे में 375 रन के लक्ष्य को हासिल करने में नाकार रही है।

सिडनी के सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर ऑस्ट्रेलिया ने भारत के खिलाफ पहले वनडे में 50 ओवर में 6 विकेट पर 374 रन बनाए थे। जवाब में विराट कोहली की टीम 50 ओवर में 8 विकेट पर 308 रन ही बना सकी। कंगारू टीम ने जीत के साथ सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल कर ली थी। माइकल होल्डिंग ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा, ‘‘भारत के पास कई अच्छे खिलाड़ी हैं, लेकिन मुझे एक चीज लगता है कि विराट कोहली की टीम महेंद्र सिंह धोनी के जाने के बाद से संघर्ष कर रही है। जैसा कि हम जानते हैं कि धोनी मध्यक्रम में खेलने के लिए उतरते थे। वे रन चेज को कंट्रोल करते थे।’’

होल्डिंग ने कहा, ‘‘जब धोनी टीम में थे तो भारत ने रन चेज में बेहतर किया था और कभी भी विपक्षी के टॉस जीतने के बारे में नहीं सोचते थे क्योंकि उन्हें पता था कि धोनी क्या कर सकते हैं। यह बल्लेबाजी क्रम भी बेहतरीन हैं। हमने कई टैलेंटेड खिलाड़ियों और शानदार शॉट लगाने वाले प्लेयर को देखा है, लेकिन अभी भी धोनी जैसा एक खिलाड़ी चागिए। सिर्फ धोनी जैसी क्षमता वाला नहीं, बल्कि उनके जैसे मजबूत इरादों वाला भी।’’

वेस्टइंडीज के इस दिग्गज गेंदबाज ने कहा, ‘‘हमने कभी भी धोनी को ऐसे मौकों पर घबराते हुए नहीं देखा। वे रन चेज के दौरान पारी को अच्छी तरह आगे बढ़ाते थे। वे ऐसा इसलिए कर पाते थे क्योंकि उन्हें अपनी क्षमताओं के बारे में पता था। वे जानते थे कि रन चेज कैसे करना है। जो कोई भी उनके साथ बल्लेबाजी कर रहा होता था, वह हमेशा उनसे बात करता था। भारत के पास शानदार बल्लेबाजी लाइनअप है, लेकिन एमएस धोनी रन-चेज में बल्ले के साथ एक विशेष व्यक्ति थे।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 India vs Australia 2nd ODI: ऑस्ट्रेलिया की टीम से मार्कस स्टोइनिस बाहर, ये है दोनों टीमों की प्लेइंग-11
2 Ind vs Aus 2nd ODI Preview: भारत के लिए ‘करो या मरो ’ वाला मुकाबला, सीरीज में बराबरी करने उतरेगी विराट कोहली की टीम
3 1983 वर्ल्ड कप के फाइनल में टॉस के समय बहुत गुस्से में थे कपिल देव, कपिल शर्मा के शो में बताई थी वजह
रूपेश हत्याकांड
X