विदेश में महेंद्र सिंह धोनी से कोसों आगे हैं विराट कोहली, रिकॉर्ड में सौरव गांगुली भी उनसे पीछे

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल न्यूजीलैंड से हारने के बाद टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली आलोचकों के निशाने पर हैं। लोग सोशल मीडिया पर उन्हें कप्तानी से हटाने की मांग करने लगे।

virat kohli ms dhoni sourav ganguly
कोहली का विदेश में जीत का प्रतिशत धोनी से काफी ज्यादा है। (फाइल)

भारतीय क्रिकेट टीम वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला इंग्लैंड में न्यूजीलैंड के खिलाफ हार गई। इसके बाद टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली आलोचकों के निशाने पर आ गए। लोग सोशल मीडिया पर उन्हें कप्तानी से हटाने की मांग करने लगे। उनकी जगह टेस्ट में अजिंक्या रहाणे और सीमित ओवरों में रोहित शर्मा को कप्तान बनाने की मांग करने लगे। न्यूजीलैंड से मिली हार के बावजूद अगर आंकड़ों की बात करें तो विराट कोहली टेस्ट में महेंद्र सिंह धोनी और सौरव गांगुली से आगे ही नजर आते हैं।

कोहली का विदेश में जीत का प्रतिशत धोनी से काफी ज्यादा है। वहीं, गांगुली से विराट थोड़े आगे हैं या यूं कहें कि बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष को लगातार टक्कर दे रहे हैं। आंकड़ों की बात करें तो कोहली ने विदेश में 30 मैचों में कप्तानी की है। इस दौरान 13 में जीत मिली है और 12 में उन्हें हार का सामना करना पड़ा है। 5 टेस्ट मैच ड्रॉ हुए हैं। विराट की जीत का प्रतिशत 43.3 है। दूसरी ओर, धोनी की कप्तानी में भी भारत ने 30 टेस्ट मैच विदेश में खेले हैं। इस दौरान भारत 15 मैच हारा है। उसे सिर्फ 6 टेस्ट मैचों में जीत मिली है। 9 मुकाबले ड्रॉ रहे हैं और उनका जीत का प्रतिशत 20 रहा है।

अब गांगुली की बात करें उनके नेतृत्व में टीम इंडिया 28 मैच विदेश में खेली थी। उस दौरान भारत को 11 में जीत मिली थी। 10 मैचों में हार का सामना करना पड़ा था। 7 मैच ड्रॉ रहे हैं। गांगुली की जीत का प्रतिशत 39.28 रहा है। अब विराट कोहली के पास अगस्त-सितंबर में गांगुली से अपनी लीड बढ़ाने का मौका होगा। अगर वे 5 टेस्ट मैचों की सीरीज में ज्यादा मैच जीतने में सफल हुए तो उनकी जीत का प्रतिशत बढ़ेगा नहीं तो वे गांगुली के आसपास ही रहेंगे।

ओवरऑल रिकॉर्ड की बात करें तो कोहली ने सबसे ज्यादा 61 मैचों में कप्तानी की है। 36 में जीत और 15 में हार मिली है। 10 मैच ड्रॉ रहे हैं। उनकी जीत का प्रतिशत 59.01 है। धोनी ने 60 मैचों में कप्तानी की थी। उनके रहते भारत 27 टेस्ट जीता था और 18 में हारा था। 15 मैच ड्रॉ रहे थे। धोनी की जीत का प्रतिशत 45 था। गांगुली की बात करें तो 49 टेस्ट मैचों में भारत को 21 में जीत और 13 में हार मिली थी। 15 टेस्ट ड्रॉ रहे थे। उनकी जीत का प्रतिशत 42.85 रहा था।

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।