ताज़ा खबर
 

आस्ट्रेलिया दौरा: कई अग्नि परीक्षाओं से गुजरना होगा भारतीय टीम को

भारतीय टीम ने जब-जब जीत दर्ज की है, रोहित ने बल्लेबाजी से महत्त्वपूर्ण योगदान दिया है। आंकड़ों के मुताबिक 2013 के बाद रोहित ने टीम की जीत में 88 मैच की 88 पारियों में 5256 रनों का योगदान दिया है। इस दौरान उनका औसत 71 के करीब रहा है जिसमें 21 शतक और 22 अर्धशतक शामिल हैं।

cricket विराट कोहली एवं रोहित शर्मा फाइल फोटो।

भारतीय टीम आस्ट्रेलिया दौरे पर पहुंच चुकी है। यहां दोनों टीमों के बीच तीन एकदिवसीय, तीन टी-20 और चार टैस्ट मैचों की शृंखला खेली जानी है। इसके लिए दोनों टीमों के खिलाड़ियों ने तैयारियां भी शुरू कर दी है। आस्ट्रेलिया को घरेलू मैदान पर जबरदस्त जीत की उम्मीद है तो भारतीय टीम के हौसले भी बुलंद नजर आ रहे हैं। हालांकि कोरोना के इस दौर में भारतीय टीम के लिए आस्ट्रेलिया जैसी टीम से भिड़ना एक चुनौती होगी। साथ ही छोटे प्रारूपों में रोहित शर्मा का नहीं खेलना और पहले टैस्ट के बाद कप्तान विराट कोहली की भारत वापसी टीम के लिए मुश्किल पैदा कर सकती है। इसके अलावा महेंद्र सिंह धोनी की गैरमौजूदगी में विकेटकीपिंग और गेंदबाजी आक्रमण को धारदार बनाए रखना टीम के लिए चिंता का विषय हो सकता है।

हिटमैन की कमी जरूर खलेगी

दरअसल, रोहित शर्मा टी-20 और एकदिवसीय टीम में नहीं हैं। आंकड़े बताते हैं कि भारतीय टीम को उनकी कमी खलने वाली है। ‘हिटमैन’ के नाम से मशहूर रोहित का बल्ला आस्ट्रेलिया में कंगारू खिलाड़ियों के खिलाफ आग उगलता है। आस्ट्रेलियाई पिच पर रोहित सबसे सफल भारतीय खिलाड़ियों में शीर्ष पर हैं। उन्होंने 2013 के बाद से आस्ट्रेलिया के खिलाफ 30 वनडे खेले हैं जिनमें 74.62 के औसत से 2015 रन बनाए। इसमें आठ शतक शामिल हैं। वहीं कप्तान विराट ने इस दौरान 31 वनडे खेले और करीब 60 के औसत से 1646 रन बटोरे। साथ ही 2013 के बाद रोहित के वनडे करिअर को देखें तो उन्होंने 138 मैच में 59.47 के औसत से 7137 रन बनाए हैं। इसमें 27 शतक और 31 अर्धशतक शामिल हैं।

भारतीय टीम ने जब-जब जीत दर्ज की है, रोहित ने बल्लेबाजी से महत्त्वपूर्ण योगदान दिया है। आंकड़ों के मुताबिक 2013 के बाद रोहित ने टीम की जीत में 88 मैच की 88 पारियों में 5256 रनों का योगदान दिया है। इस दौरान उनका औसत 71 के करीब रहा है जिसमें 21 शतक और 22 अर्धशतक शामिल हैं।

विराट भारत लौटे तो टीम होगी कमजोर

विराट कोहली भी पहले टैस्ट के बाद पैटरनिटी लीव पर भारत लौट जाएंगे। ऐसे में टैस्ट में भारतीय टीम को एक बेहतरीन बल्लेबाज की कमी जरूर खलेगी। कोहली के आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो आस्ट्रेलिया के खिलाफ उसी की जमीन पर सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले वे सचिन तेंदुलकर के बाद दूसरे नंबर पर हैं। सचिन ने 20 टैस्ट की 38 पारियों में 53.20 के औसत से 1809 रन बनाए तो कोहली के नाम 12 टैस्ट की 23 पारियों में 55.39 के औसत से 1274 रन दर्ज हैं। वहीं बतौर कप्तान कोहली ने आस्ट्रेलिया में सबसे ज्यादा 731 रन बनाए हैं। इस मामले में उन्होंने सचिन, सौरव गांगुली और महेंद्र सिंह धोनी जैसे दिग्गजों को भी पीछे छोड़ दिया है। कप्तान के तौर पर उन्होंने आस्ट्रेलियाई जमीन पर 11 पारियों में चार शतक जड़े हैं।

विराट कोहली को भारतीय बल्लेबाजी की रीढ़ के तौर पर देखा जाता है। उनके पिछले कुछ साल के प्रदर्शन ने इसे साबित भी किया है। आंकड़ों को देखें तो 2013 के बाद विराट ने 157 एकदिवसीय मैच खेले हैं। इस दौरान उनके बल्ले से 7981 रन निकले। 160 रन नाबाद उनका उच्च स्कोर रहा और रन बनाने का औसत 64.36 रहा। इस दौरान 30 शतक और 37 अर्धशतक उनकी बल्लेबाजी की कहानी बयां करने के लिए काफी है।

2013 के बाद एकदिवसीय मैचों में भारत की जीत में भी कोहली के रनों का अहम योगदान रहा है। उन्होंने जीत दर्ज करने वाले 96 मैच की 93 पारियों में 5751 रन बनाए हैं। इस दौरान उनका औसत भी शानदार रहा है। उन्होंने 84.34 के औसत से रन बटोरे हैं। स्ट्राइक रेट करीब 100 का रहा। सबसे खास बात है कि भारत की जीत के दौरान उन्होंने 23 शतक और 24 अर्धशतक लगाए हैं।

एकदिवसीय में सलामी जोड़ी कौन

भारतीय टीम 27 नवंबर को आस्ट्रेलिया के खिलाफ पहला एकदिवसीय मैच खेलेगी। आइपीएल में शानदर प्रदर्शन के कारण शिखर धवन का सलामी बल्लेबाज के तौर पर उतरना तय है। लेकिन सवाल है कि रोहित की अनुपस्थिति में दूसरा बल्लेबाज कौन होगा। टीम मैनेजमेंट के रुख से केएल राहुल, मयंक अग्रवाल और शुभमन गिल में से किसी एक को मौका दिया जा सकता है। हालांकि इसके लिए कोच और कप्तान को काफी माथापच्ची करनी होगी। लोकेश राहुल आइपीएल में 670 रन बनाने के बाद पहली पसंद होंगे। वहीं मयंक 418 रन और शुभमन 440 रन के साथ इस पायदान पर उतरने का दावा कर रहे हैं।

कोहली की मौजूदगी है अहम : 2013 के बाद विराट ने 157 एकदिवसीय मैच खेले हैं। इस दौरान उनके बल्ले से 7981 रन निकले। 160 रन नाबाद उनका उच्च स्कोर रहा और रन बनाने का औसत 64.36 रहा। इस दौरान 30 शतक और 37 अर्धशतक उनकी बल्लेबाजी की कहानी बयां करने के लिए काफी है। 2013 के बाद एकदिवसीय मैचों में भारत की जीत में भी कोहली के रनों का अहम योगदान रहा है।

उन्होंने जीत दर्ज करने वाले 96 मैच की 93 पारियों में 5751 रन बनाए हैं। इस दौरान उनका औसत भी शानदार रहा है। उन्होंने 84.34 के औसत से रन बटोरे हैं। स्ट्राइक रेट करीब 100 का रहा। सबसे खास बात है कि भारत की जीत के दौरान उन्होंने 23 शतक और 24 अर्धशतक लगाए हैं।

कंगारू धरती पर सफल रोहित: रोहित शर्मा टी-20 और एकदिवसीय टीम में नहीं हैं। आंकड़े बताते हैं कि भारतीय टीम को उनकी कमी खलने वाली है। ‘हिटमैन’ के नाम से मशहूर रोहित का बल्ला आस्ट्रेलिया में कंगारू खिलाड़ियों के खिलाफ आग उगलता है। आस्ट्रेलियाई पिच पर रोहित सबसे सफल भारतीय खिलाड़ियों में शीर्ष पर हैं। उन्होंने 2013 के बाद से आस्ट्रेलिया के खिलाफ 30 वनडे खेले हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘एक दिन आसमान में साथ में फुटबॉल खेलेंगे,’ पेले ने कुछ इस तरह दी माराडोना को श्रृद्धांजलि
2 दुखद: महानतम फुटबॉलर डिएगो माराडोना का निधन, अपनी कप्तानी में अर्जेंटीना को जिताया था वर्ल्ड कप
3 अजहर की सलाह पर इंजमाम उल हक ने बदला फैसला, पाकिस्तान को झेलनी पड़ी थी हार; दिग्गज क्रिकेटर को आज भी है ‘मलाल’
Indi vs Aus 4th Test Live:
X