ताज़ा खबर
 

विराट कोहली और एबी डिविलियर्स ने मुझे बेहतर क्रिकेटर बनाया : राहुल

युवा भारतीय बल्लेबाज लोकेश राहुल ने कहा है कि आइपीएल टीम रायल चैलेंजर्स बेंगलूर की ओर से खेलते हुए उन्होंने विराट कोहली और एबी डिविलियर्स जैसे क्रिकेटरों से जो सबक सीखा उसने उन्हें बेहतर क्रिकेटर बनाया।

Author मुंबई | June 8, 2016 5:03 AM
मैच के दौरान शॉट लगाते क्रिकेटर लोकेश राहुल।

युवा भारतीय बल्लेबाज लोकेश राहुल ने कहा है कि आइपीएल टीम रायल चैलेंजर्स बेंगलूर की ओर से खेलते हुए उन्होंने विराट कोहली और एबी डिविलियर्स जैसे क्रिकेटरों से जो सबक सीखा उसने उन्हें बेहतर क्रिकेटर बनाया। वह शनिवार से शुरू हो रहे जिंबाब्वे दौरे पर इसकी झलक दिखाना चाहेंगे।

भारतीय टीम के जिंबाब्वे दौरे पर रवाना होने से पूर्व राहुल ने ओपन मीडिया सत्र के दौरान संवाददाताओं से कहा, ‘मैंने विराट और एबी के साथ समय बिताया और उनसे सवाल पूछे कि उन्हें क्या लगता हैं कि मुझे अपने क्रिकेट में सुधार और छोटे प्रारूप में सफल होने के लिए क्या करना चाहिए। उनके विचारों और जवाबों से मुझे अपनी बल्लेबाजी में सुधार में मदद मिली।’

24 साल के राहुल उन भारतीय खिलाड़ियों में शामिल हैं, जिन्होंने हाल में संपन्न आइपीएल के नौवें टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन किया।
भारत को 11 से 22 जून तक जिंबाब्वे दौरे पर तीन वनडे और तीन टी20 मैच खेलने हैं।

आगामी टैस्ट सत्र के बारे में पूछने पर राहुल ने कहा, ‘टैस्ट मैचों को लेकर चिंतित नहीं हूं। यह भारतीय टीम के साथ मेरी पहली वनडे शृंखला है, इसलिए मेरा ध्यान वहां अच्छे प्रदर्शन पर है।’ उन्होंने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि जिंबाब्वे के विकेट कैसे हैं। निश्चिित तौर पर सलामी बल्लेबाज के लिए यह चुनौतीपूर्ण होगा और यह मेरी जिम्मेदारी है कि मैं लुत्फ उठाऊं और टीम को मजबूत शुरुआत दूं।’विकेटकीपर की भूमिका पर राहुल ने स्वीकार किया कि इसमें सुधार की जरूरत है। वह कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के साथ इस पहलू पर काम करना चाहेंगे।

टीम में शामिल 24 साल के एक अन्य बल्लेबाज मनदीप सिंह ने भी कहा कि जिंबाब्वे दौरा युवा खिलाड़ियों के लिए महत्त्वपूर्ण मौका है। उन्होंने कहा, ‘यह हम सभी के लिए बड़ा मौका है। मेरा लक्ष्य अच्छा प्रदर्शन करना और टीम में जगह बनाना है। मैं आश्वस्त हूं क्योंकि पिछले दो से तीन साल में मैंने छोटे प्रारूप में अच्छा प्रदर्शन किया है।’ मनदीप ने कहा, ‘मैं भारतीय जर्सी पहनने को लेकर रोमांचित हूं। मैं परवाह नहीं करता हूं विरोधी कौन है। मैंने एनसीए में काफी शिविर में हिस्सा लिया है, जहां सिखाया जाता है कि प्रत्येक मैच को एक जैसा समझें और नतीजे के बारे में नहीं सोचें।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App