ताज़ा खबर
 

VIDEO: सुशील कुमार ने कॉमनवेल्थ गेम्स-2018 के लिए किया क्वालिफाई, आपस में भिड़ पड़े समर्थक

घटना को लेकर रेसलर सुशील कुमार ने कहा कि 'यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है और मैं इसकी निंदा करता हूं।

wrestling nationals, sushil kumar nationals gold, sushil kumar gold medalsरेसलर सुशील कुमार (फोटो सोर्स- PTI)

भारतीय पहलवान सुशील कुमार ने कॉमनवेल्थ गेम्स-2018 के लिए किया क्वालिफाई कर लिया है। दो बार ओलंपिक में देश के लिए पदक जीत चुके सुशील ने फ्रीस्टाइल के 74 किग्रा वर्ग में जितेंद्र कुमार को वॉकओवर देकर अपना स्थान सुनिश्चित किया। मुकाबले के बाद सुशील कुमार और प्रवीण राणा के समर्थक आपस में भिड़ गए और जमकर तोड़फोड़ की। मामले में कुछ लोगों को चोटें भी आई हैं। ये मुकाबला दिल्ली के केडी जाधव स्टेडियम में चल रहा था। हालांकि घटना की निंदा करते हुए रेसलर सुशील कुमार ने कहा कि ‘यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है और मैं इसकी निंदा करता हूं। ये गलत है। खेल में ऐसी चीजों के लिए कोई जगह नहीं है।’

बता दें कि पिछले साल सुशील कुमार ने रियो ओलंपिक का टिकट ना मिलने पर नरसिंह यादव को सुप्रीम कोर्ट में घसीट लिया था। 74 किग्रा. वर्ग के लिए नरसिंह यादव का सेलेक्शन तो हुआ लेकिन उस वक्त सुशील ने खुद को ओलंपिक में भेजने की पेशकश की थी। बाद में नरसिंह डोप टेस्ट में फेल हो गए और भारत की ओर से इस कैटेगरी में कोई भी खिलाड़ी ओलंपिक में दावेदारी पेश नहीं कर सका था।

सुशील कुमार ने कुश्ती के मैट पर दिसंबर 2017 में स्वर्णिम वापसी की थी। सुशील ने जोहानिसबर्ग में राष्ट्रमंडल कुश्ती चैम्पियनशिप के दौरान पुरुषों की 74 किलोग्राम भारवर्ग श्रेणी के फाइनल में स्वर्ण पदक अपने नाम किया था।

भारतीय पहलवान ने फाइनल में न्यूजीलैंड के आकाश खुल्लर को 8-0 से मात देकर खिताबी जीत हासिल की। इसी के साथ सुशील ने राष्ट्रमंडल स्तर पर अपना पांचवां पदक हासिल किया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 VIDEO: रिंग में सुशील कुमार और राणा का मुकाबला, बाहर भिड़े समर्थक, जमकर चले लात-घूंसे
2 PBL 2017, Delhi Dashers vs Bengaluru Blasters: बेंगलुरु ने दर्ज की 4-2 से जीत
3 उत्तराखंड: मंत्री ने लगाए गंभीर आरोप- महिला खिलाड़ियों का यौन उत्पीड़न कर रहे खेल संघों में बैठे अफसर
ये पढ़ा क्या?
X