ताज़ा खबर
 

अनिल कुंबले के बाद कौन होगा भारतीय क्रिकेट टीम का कोच? इन दिग्‍गजों ने किया है अप्‍लाई

भारतीय क्रिकेट टीम के नए कोच के आवेदन की अंतिम तारीख बुधवार (31 मई) को खत्म हो गई। इसके बाद नए कोच को लेकर बीसीसीआई तैयारी कर रहा है।

विराट की नाराजगी की वजह से गंवाया था कोच का पद। (Photo Courtesy: BCCI)

भारतीय टीम के कोच पद हेतु टॉम मूडी, वीरेंद्र सहवाग, लालचंद राजपूत, डोडा गणेश, रिचर्ड पायबस और अनिल कुंबले ने बीसीसीआई के समझ आवेदन कर दिया है। हालांकि सूत्रों की मानें तो कुंबले का फिर से कोच बनना काफी मुश्किल दिखाई दे रहा है। बता दें कि भारतीय क्रिकेट टीम के नए कोच के आवेदन की अंतिम तारीख बुधवार (31 मई) को खत्म हो गई। मौजूदा कोच अनिल कुंबले को आवेदन किए बगैर संभावित कोचों में रखा गया है लेकिन इस बात की कम संभावना दिख रही है कि उनका एक साल का कार्यकाल भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) द्वारा बढ़ाया जाएगा। कुंबले का कार्यकाल ना बढ़ाए जाने की एक प्रमुख वजह भारतीय क्रिकेट टीम के मौजूदा कप्तान विराट कोहली की उनसे अनबन बताई जा रही है।

सूत्रों के अनुसार बीसीसीआई और सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त कमेटी ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन (सीओए) द्वारा दोनों के बीच सुलह कराने की सारी कोशिशें विफल हो चुकी हैं। इस सुलह से जुड़े रहे लोगों के अनुसार भारतीय टीम के कोच कुंबले और कप्तान कोहली के बीच मतभेद काफी पुराने हैं और “शायद कभी न सुलझने” के स्तर तक पहुंच चुके हैं।

दूसरी तरफ, रामचंद्र गुहा ने प्रशासकों की समिति (सीओए) से त्यागपत्र के लिये निजी कारणों का हवाला दिया है लेकिन इसे भारतीय कोच के रूप में अनिल कुंबले के भविष्य को लेकर जुड़ी अटकलबाजियों से जोड़ा जा सकता है। गुहा ने उच्चतम न्यायालय में बताया कि उन्होंने निजी कारणों से त्यागपत्र दे दिया है और पता चला है कि इससे सीओए हैरान है। यह भी पता चला है कि गुहा ने अपने त्यागपत्र को लेकर सीओए के अपने किसी साथी से चर्चा नहीं की हालांकि उच्चतम न्यायालय में उन्होंने बताया कि वह समिति के अध्यक्ष विनोद राय को इस बारे में सूचित कर चुके थे।

इसके अलावा वह कुंबले को लेकर चल रही अटकलबाजी से भी विशेष रूप से खुश नहीं थे। कुंबले और भारतीय कप्तान विराट कोहली के बीच मतभेद की रिपोर्टों के बाद इस पूर्व कप्तान के कोच के रूप में भविष्य को लेकर अटकलें लगायी जा रही है। गुहा, विनोद राय या विक्रम लिमये में से किसी ने भी बीसीसीआई से एक भी पैसा नहीं लिया है हालांकि वे प्रत्येक कामकाजी दिन के लिये प्रति व्यक्ति एक लाख रूपये लेने के लिये अधिकृत हैं। बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने कहा, ‘‘उन्हें खेल इतिहास के बारे में काफी ज्ञान है और वह काफी पढ़े लिखे हैं लेकिन क्रिकेट प्रशासन का संचालन करना पूरी तरह से हटकर है। फिर चाहे वह बीसीसीआई हो या आईसीसी का मसला, विनोद राय और विक्रम लिमये ही मुख्य तौर पर फैसले करते रहे हैं। ’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 चैंपियंस ट्रॉफी के इतिहास में बांग्लादेश की ओर से सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज बने तमीम इकबाल
2 टेबल टेनिस : विश्व चैंपियनशिप में पहले दिन चीन का दबदबा
3 ICC Champions Trophy 2017: श्रीलंका को लगा बड़ा झटका, कप्तान एंजेलो मैथ्यूज पहले मैच से हो सकते हैं बाहर
यह पढ़ा क्या?
X