Tokyo Paralympics: प्रवीण कुमार ने जीती चांदी, डीएम सुहास एलवाई को मिली हार

टोक्यो पैरालंपिक में भारत का ऐतिहासिक प्रदर्शन जारी है। शुक्रवार को भारत के लिए पुरुष उंची कूद स्पर्धा में प्रवीण कुमार ने रजत पदक जीतकर भारत को 11वां मेडल दिलाया। इसके अलावा पुरुष बैडमिंटन में नोएडा के डीएम सुहास एलवाई ने इंडोनेशिया के खिलाड़ी को हराकर तीसरे राउंड में एंट्री की है।

tokyo-paralympics-praveen-kumar-bags-11th-medal-for-india-by-winning-silver-in-high-jump-badminton-star-dm-suhas-ly-proceeds-to-third-round
टोक्यो पैरालंपिक में ऊंची कूद के एथलीट प्रवीण कुमार ने सिल्वर मेडल जीत भारत को 11वां पदक दिलाया है, डीएम सुहास एलवाई का विजयी अभियान भी जारी है (Source: Twitter)

टोक्यो में जारी पैरालंपिक खेलों में भारतीय एथलीटों का शानदार प्रदर्शन जारी है। शुक्रवार सुबह भारत को प्रवीण कुमार (Sport Class T44) ने पुरुष ऊंची कूद (T64) इवेंट में भारत के लिए सिल्वर मेडल जीता। इसके अलावा नोएडा (गौतमबुद्ध नगर) के जिलाधिकारी सुहास एल यथिराज अपना तीसरा मुकाबला फ्रांस के लुकास मजूर से हार गए हैं। हालांकि सेमीफाइनल में वे पहले ही पहुंच गए थे। ये उनका ग्रुप स्टेज का मुकाबला था।

18 वर्षीय प्रवीण ने पुरुष हाई जंप में 2.07 मीटर की कूद लगाई और देश को 11 वां मेडल दिलाया। ये टोक्यो पैरालंपिक में भारता का छठा सिल्वर मेडल भी है। टोक्यों पैरालंपिक खेलों में ऊंची कूद में भारत का ये चौथा मेडल भी है।

इससे पहले ऊंची कूद की टी63 स्पर्धा में भारत के मरियप्पन थंगावेलु ने सिल्वर मेडल जीता था, जबकि शरद कुमार को कांस्य मिला था। वहीं निषाद कुमार ने टी47 में एशियाई रिकॉर्ड के साथ रजत पदक जीता था।

टोक्यो पैरालंपिक्स: हरविंदर सिंह ने कांस्य पदक जीत रचा इतिहास, UPSC परीक्षा पास करने का है सपना

दूसरी ओर नोएडा के डीएम सुहास एल यथिराज ने एसएल4 वर्ग में अपना लगातार दूसरा मैच आज जीतकर सेमीफाइनल में जगह बनाई थी। पुरुष एकल के ग्रुप ए के मुकाबले में 38 साल के सुहास ने इंडोनेशिया के हैरी सुसांतो को महज 19 मिनट में 21-6, 21-12 से हराया था। लेकिन तीसरे ग्रुप स्टेज के मुकाबले में उन्हें फ्रांस के लुकास मजूर ने 15-21,17-21 से मात दी।

इससे पहले गुरुवार को उन्होंने अपने पहले मैच में जर्मनी के येन निकलास पोट को सिर्फ 19 मिनट में 21-9 21-3 से मात दी थी। अब शनिवार 4 सितंबर का उनका सेमीफाइनल मुकाबला होना है। ये मुकाबला किससे होगा अभी ये निश्चित नहीं हुआ है।

गौरतलब है कि मौजूदा पैरालंपिक में भारत ने अब तक 11 पदक जीत लिए हैं। भारत के खाते में अब 2 स्वर्ण, 6 रजत और 3 कांस्य पदक हैं। यह पैरालंपिक के इतिहास में भारत का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। इससे पहले रियो पैरालंपिक (2016) में भारत ने 2 स्वर्ण सहित 4 पदक अपने नाम किए थे। भारत के लिए इन पैरालंपिक खेलों में अवनी लेखरा और सुमित अंतिल ने गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रचा है।

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट