‘टोक्यो पैरालंपिक के लिए निशानेबाज नरेश कुमार शर्मा को भारतीय दल में शामिल किया जाए,’ सुप्रीम कोर्ट ने पीसीआई को दिया आदेश

नरेश कुमार शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में पैरालंपिक कमेटी ऑफ इंडिया के फैसले को चुनौती दी थी। उन्होंने कहा था कि पीसीआई की चयन प्रक्रिया निष्पक्ष और पारदर्शी नहीं थी। समिति याचिकाकर्ता के प्रति पक्षपाती रवैया रखती है।

Supreme Court
सुप्रीम कोर्ट। (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट ने पैरालंपियन निशानेबाज नरेश कुमार शर्मा को टोक्यो पैरालंपिक के लिए भारतीय दल में तत्काल शामिल करने का आदेश दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि नरेश कुमार शर्मा का नाम एडिशनल खिलाड़ी के तौर पर भेजा जाए। नरेश कुमार शर्मा ने पैरालंपिक कमेटी ऑफ इंडिया (Paralympic Committee of India) के फैसले को चुनौती दी थी।

नरेश कुमार शर्मा ने कहा था कि पीसीआई की चयन प्रक्रिया निष्पक्ष और पारदर्शी नहीं थी। समिति याचिकाकर्ता के प्रति पक्षपाती रवैया रखती है। सुप्रीम कोर्ट ने नरेश कुमार का नाम टोक्यो पैरालंपिक्स में भेजने की कम्प्लांयंस रिपोर्ट मंगलवार तक दाखिल करने को कहा है। सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार ने कहा कि पैरालंपिक के लिए नाम भेजने में केंद्र सरकार की कोई भूमिका नहीं है, नाम पैरा ओलंपिक कमेटी भेजती है। सुनवाई में पैरालंपिक कमेटी की तरफ से कोई पेश नहीं हुआ।

इससे पहले सोमवार को नरेश शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट से मामले की जल्द सुनवाई का अनुरोध किया था। निशानेबाज की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह ने पीठ से कहा कि दिल्ली हाई कोर्ट के समक्ष सुनवाई में देरी से खेलों के लिए भारतीय दल में शामिल किए जाने से जुड़ी उनकी याचिका का कोई मतलब नहीं रहेगा, क्योंकि टोक्यो पैरालंपिक्स में शूटिंग प्रतिस्पर्धा में हिस्सा लेने के लिए चयन की आखिरी तारीख 2 अगस्त है।

दिल्ली हाई कोर्ट ने सुनवाई के लिए तय की थी 6 अगस्त की तारीख

पैरालंपियन निशानेबाज ने दिल्ली हाई कोर्ट के उस आदेश को चुनौती दी थी, जिसमें टोक्यो खेलों के लिए उनका चयन नहीं करने के खिलाफ याचिका पर कोर्ट ने सुनवाई के लिए छह अगस्त की तारीख तय की थी।

नरेश कुमार शर्मा ने दिल्ली हाई कोर्ट में दाखिल याचिका में कहा था कि पीसीआई को ‘R7 स्पर्धा’ के लिए चयनित निशानेबाजों की सूची में उनके नाम को शामिल करने का निर्देश देने की कृपा करें। इस पर हाई कोर्ट ने नोटिस जारी कर 6 अगस्त को सुनवाई के लिए लगाया था।

नरेश कुमार शर्मा ने लगाया था अनदेखी का आरोप

दिल्ली हाई कोर्ट में दाखिल अपील में कहा गया था कि टोक्यो पैरालंपिक 24 अगस्त से शुरू होने वाले हैं। इस कारण पीसीआई को अब भी एक निर्देश दिया जा सकता है कि नरेश कुमार शर्मा का नाम आर7 निशानेबाजी में हिस्सा लेने के लिए भेजा जाए। नरेश कुमार शर्मा पांच बार पैरालंपिक खेलों में हिस्सा ले चुके हैं।

अर्जुन पुरस्कार विजेता नरेश कुमार शर्मा ने आरोप लगाया था कि उन्होंने सभी पात्रता मानदंड और न्यूनतम क्वालिफाइंग स्कोर हासिल किए, लेकिन इसके बाद भी चयन समिति, भारतीय पैरालंपिक समिति ने जानबूझकर और मनमाने ढंग से पैरालंपिक के लिए उनके नाम की अनदेखी की।

पढें खेल समाचार (Khel News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट