ताज़ा खबर
 

Covid-19: टोक्यो ओलंपिक पर भी बरसा कोरोना का कहर, एक साल के लिए टला खेलों का महाकुंभ

दुनिया भर में हजारों लोगों की जान लेने वाले कोरोना वायरस के कारण खेलों के इस महाकुंभ को टालना पड़ रहा है। इस महामारी के कारण दुनिया भर की खेल प्रतियोगिता ठप पड़ी हुई हैं। कोविड-19 के कारण पूरी दुनिया में एक अरब 70 करोड़ लोग घरों में बंद हैं।

Author Edited By आलोक श्रीवास्तव नई दिल्ली | Updated: March 24, 2020 8:10 PM
Shinzo Abeआईओसी प्रमुख बाक से फोन पर वार्ता के बाद जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे टोक्यो ओलंपिक को एक साल के लिए टालने पर सहमत हो गए हैं। (सोर्स – सोशल मीडिया)

Covid-19: दुनिया भर में फैली कोरोना वायरस नाम की महामारी के चलते टोक्यो ओलंपिक एक साल के लिए टाल दिए गए हैं। जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति (आईओसी) के प्रमुख थामस बाक से फोन पर वार्ता की। इसके बाद वे टोक्यो 2020 ओलंपिक खेलों को एक साल के लिए टालने पर सहमत हो गए। हालांकि, 2021 में होने वाले ओलंपिक भी 2020 टोक्यो ओलंपिक के नाम से ही जाने जाएंगे।

आबे ने बाद में मीडिया से कहा, ‘मैंने खेलों को एक साल के लिए स्थगित करने की पेशकश की और बाक ने इस पर शत प्रतिशत सहमति जताई। यह टोक्यो के लिए बड़ा झटका है। ओलंपिक खेलों की तैयारियों के लिए अब तक काफी सराहना हुई है। खेलों के लिए स्टेडियम काफी पहले तैयार हो गए थे। बड़ी संख्या में टिकट भी बिक गए थे। ओलंपिक को बहिष्कार, आतंकी हमले और विरोधों का सामना करना पड़ा है लेकिन 1948 के बाद इन्हें हर चार साल में आयोजित किया जाता रहा है।’

कोरोना: पहली बार महामारी के कारण रद्द होगा आंलंप‍िक? जापान को 41 हजार करोड़ का नुकसान, 11 हजार एथलीट्स का टूटेगा सपना

दुनिया भर में हजारों लोगों की जान लेने वाले कोरोना वायरस के कारण खेलों के इस महाकुंभ को टालना पड़ रहा है। इस महामारी के कारण दुनिया भर की खेल प्रतियोगिता ठप पड़ी हुई हैं। बता दें कि आईओसी पर 24 जुलाई से शुरू होने वाले खेलों को स्थगित करने का दबाव लगातार बढ़ रहा था, क्योंकि कोविड-19 के कारण पूरी दुनिया में एक अरब 70 करोड़ लोग घरों में बंद हैं। अधिकतर खिलाड़ियों के लिए ओलंपिक की तैयारियां करना मुश्किल हो गया था। दरअसल, तैयारियों में जुटे खिलाड़ियों के बीमारी से सक्रमित होने का खतरा था। विभिन्न प्रतियोगिताएं और क्वालीफायर्स रद्द कर दिए गए थे। अंतरराष्ट्रीय यात्राएं भी सीमित कर दी गईं हैं।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें:
कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा
जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए
इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं
क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

आईओसी ने रविवार को खेलों के भविष्य पर फैसला करने के लिए चार सप्ताह की समयसीमा तय की थी। इस बीच, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया ने अपनी टीम भेजने से इन्कार कर दिया। बाद में अमेरिकी ओलंपिक समिति और विश्व एथलेटिक्स ने भी खेलों को स्थगित करने की मांग कर दी।


बता दें कि टोक्यो ने खेलों की मेजबानी पर अब तक 12 अरब 60 करोड़ डॉलर खर्च किए हैं। इसके ताजा बजट को देखते हुए विशेषज्ञों का मानना है कि खेलों को स्थगित करने से 6 अरब डॉलर अतिरिक्त खर्च होंगे। यह प्रायोजकों और प्रमुख प्रसारकों के लिए भी करारा झटका है, जो विज्ञापन से होने वाले राजस्व के लिए हर चार साल में होने वाले इन खेलों का इंतजार करते हैं।

यह पहला अवसर नहीं है जबकि टोक्यो खेलो के कार्यक्रम में बदलाव देख रहा है। इससे पहले उसे 1940 में भी मेजबानी मिली थी, लेकिन तब चीन के साथ जापान के युद्ध के कारण अंतरराष्ट्रीय दबाव में उसे हटना पड़ा था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोनावायरस के कारण रविचंद्रन अश्विन ने बदला टि्वटर पर अपना नाम, कहा- हालात बिगड़े तो देश में मचेगी अफरा-तफरी
2 Covid-19: तीनों फॉर्मेट में नंबर 1 रहे इकलौते ऑलराउंडर का छलका दर्द, बर्थडे पर भी नहीं हुई बेटी से मुलाकात; देखें VIDEO
3 कोरोना: पहली बार महामारी के कारण रद्द होगा ओलंप‍िक? जापान को 41 हजार करोड़ का नुकसान, 11 हजार एथलीट्स का टूटेगा सपना
IPL 2020
X