ताज़ा खबर
 

नई टीम की अगुआई करना मेरे लिए बिलकुल नई चुनौती होगा : धोनी

भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी 11 जून से जिंबाब्वे के सीमित ओवरों के दौरे पर दूसरे दर्जे की टीम की अगुआई के दौरान अलग खिलाड़ियों के साथ काम करने की चुनौती को लेकर उत्सुक हैं।

Author मुंबई | June 8, 2016 05:38 am
महेंद्र सिंह धोनी। (बीसीसीआई/आईपीएल फोटो)

भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी 11 जून से जिंबाब्वे के सीमित ओवरों के दौरे पर दूसरे दर्जे की टीम की अगुआई के दौरान अलग खिलाड़ियों के साथ काम करने की चुनौती को लेकर उत्सुक हैं। विराट कोहली, रोहित शर्मा, शिखर धवन और रविचंद्रन अश्विन जैसे सीनियर खिलाड़ियों की गैरमौजूदगी में धोनी नए चेहरों वाली टीम की अगुआई करेंगे।

धोनी ने दौरे पर रवाना होने से पूर्व प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ‘मुझे लगता है कि यह मेरे लिए बिलकुल अलग अनुभव होगा। इसका कारण यह है कि आप अधिकतर खिलाड़ियों के एक ही समूह के साथ खेलते हो इसलिए आपको भूमिका और जिम्मेदारी पता होती है। इस द्विपक्षीय शृंखला में काफी खिलाड़ी ऐसे हैं जिनके साथ मैं पहली बार खेलूंगा।’ उन्होंने कहा, ‘इसलिए मुझे जल्दी से आकलन करना होगा कि उनके मजबूत पक्ष क्या हैं। इसके अलावा टीम के संयोजन को देखते हुए कौन सा सर्वश्रेष्ठ स्थान है, जहां किसी खिलाड़ी का इस्तेमाल किया जा सकता है। संयोजन अच्छा लग रहा है। यह अच्छी टीम है।’

भारतीय टीम 11 से 22 जून तक जिंबाब्वे के खिलाफ तीन वनडे और इतने ही मैचों की टी20 शृंखला खेलेगी। सभी मैच हरारे में खेले जाएंगे। धोनी का मानना है कि टास अहम भूमिका निभाएगा क्योंकि सभी मैच दिन में खेले जाएंगे। उन्होंने कहा, ‘जिंबाब्वे ऐसा स्थान है, जहां टास अहम होता है। काफी ऐसे स्थान नहीं हैं, जहां आप दिन में मैच खेलते हों। अगर आप दिन में मैच खेलते हों तो टास अहम होता है क्योंकि आपको सामंजस्य बैठाना होता है और हालात का अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करना होता है।’ धोनी का मानना है कि बल्लेबाजी की तुलना में गेंदबाजी में अधिक अंतरराष्ट्रीय अनुभव है। उन्होंने कहा, ‘गेंदबाजी कागजों पर अच्छी दिख रही है। मैंने उन्हें गेंदबाजी करते हुए जितना भी देखा है। इस समूह में काफी सुधार नजर आता है। जसप्रीत बुमराह में सुधार हुआ है।

बरिंदर सरन ने सुधार दिखाया है, अक्षर पटेल और युजवेंद्र चहल सीमित ओवरों के मैच में अनुभवी खिलाड़ी हैं। जयंत यादव भी है।’ भारतीय कप्तान ने हालांकि साथ ही कहा कि इंडियन प्रीमियर लीग की तुलना अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से नहीं की जा सकती।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App